धरना दे रहे JNU छात्रों को पुलिस ने खदेड़ा, इलाके की स्ट्रीट लाइट बंद - Live Aaryaavart

Breaking

प्रबिसि नगर कीजै सब काजा I ह्रदय राखि कौसलपुर राजा II, हरिजन जानि प्रीति अति गाढ़ी। सजल नयन पुलकावलि बाढ़ी॥, मंगल भवन अमंगल हारी I द्रवहु सुदसरथ अजिर बिहारी II, हरि अनंत हरि कथा अनंता I कहहि सुनहि बहुबिधि सब संता II, दीन दयाल बिरिदु संभारी । हरहु नाथ मम संकट भारी।I, माता पिता की सेवा करें....बुजुर्गों का ख्याल रखें...अपनी प्रतिभा और आचरण से देश का नाम रौशन करें...

मंगलवार, 19 नवंबर 2019

धरना दे रहे JNU छात्रों को पुलिस ने खदेड़ा, इलाके की स्ट्रीट लाइट बंद

lathi-charge-jnu-student
फीस बढ़ोतरी के खिलाफ जवाहर लाल नेहरू यूनिवर्सिटी के स्टूडेंट्स संसद मार्च कर रहे हैं. सुबह 10 बजे से हजारों की संख्या में मार्च पर निकले छात्रों की पुलिस से झड़प भी हुई जिनमें कई घायल हो गए. फिलहाल, दिल्ली पुलिस ने मानव संसाधन मंत्रालय से बातचीत कराने का प्रस्ताव दिया है, लेकिन अपनी मांगों पर अड़े छात्रों का धरना प्रदर्शन जारी है. इससे पहले, जेएनयू गेट पर लगाए गए तीन बैरिकेड को छात्रों ने तोड़ दिया. इसके बाद करीब दो घंटे के संघर्ष के बाद छात्रों ने बेर सराय के बैरिकेड को भी तोड़ दिया. इसके बाद छात्रों का मार्च भीकाजी कामा प्लेस फ्लाईओवर तक पहुंचा. छात्र संसद की ओर बढ़ रहे हैं. अभी छात्रों को सफदरजंग टॉम्ब के पास रोक दिया गया है.

-जेएनयू छात्र संघ के सदस्य मानव संसाधन विकास मंत्रालय के सचिव से मिलेंगे और फीस बढ़ोतरी को लेकर अपनी बात रखेंगे. इस बीच पुलिस रास्ता खाली कराने के लिए छात्रों को हटा रही है. हालांकि छात्र हट नहीं रहे हैं. पुलिस की रणनीति है कि रास्ता खाली कराकर ट्रैफिक को नॉर्मल किया जाए.
-धरना दे रहे जेएनयू के छात्रों को पुलिस ने खदेड़ा
-जेएनयू छात्र संघ के सदस्य मानव संसाधन विकास मंत्रालय के सचिव से मिलने पहुंचे, लेकिन छात्रों का प्रदर्शन अभी जारी है
-उद्योग भवन, पटेल चौक और केंद्रीय सचिवालय में प्रवेश या निकास द्वार खोल दिया गया है. सभी 3 स्टेशनों पर ट्रेनें रुक रही हैं. अब तीन स्टेशनों पर प्रवेश खोल दिया गया है. अब, सिर्फ दो स्टेशन बंद हैं- लोक कल्याण मार्ग और जोर बाग. छात्रों के समर्थन में अब राजनेता भी आ गए हैं. शरद यादव ने कहा कि JNU के छात्रों के साथ सरकार का व्यवहार दुर्भाग्यपूर्ण है. इस प्रतिष्ठित इंस्टीट्यूशन में दूर दराज के इलाकों से गरीब छात्र उच्च शिक्षा ग्रहण करने आते हैं और सरकार उनसे यह अधिकार छीनना चाहती है. बढ़ाई हुई फीस को तुरंत वापिस लेनी चाहिए जिससे कि माहौल शांत हो सके.
-जेएनयू स्टूडेंट्स की मांग दिल्ली पुलिस ने मान ली है. पुलिस हिरासत में लिए गए 50 से ज्यादा छात्रों को छोड़ रही है. हालांकि छात्रों का धरना प्रदर्शन अब भी जारी है.
-दिल्ली पुलिस ने जेएनयू छात्रों के सामने प्रस्ताव रखा है कि अगर छात्र चाहें तो उनके डेलिगेशन को एचआरडी मिनिस्ट्री से मुलाकात करवा सकते हैं. हालांकि छात्रों ने अभी तक कोई जवाब नहीं दिया है. छात्रों का धरना-प्रदर्शन जारी है.

कोई टिप्पणी नहीं: