बीमार चल रहे नवाज शरीफ की सेहत में आया सुधार - Live Aaryaavart

Breaking

प्रबिसि नगर कीजै सब काजा I ह्रदय राखि कौसलपुर राजा II, हरिजन जानि प्रीति अति गाढ़ी। सजल नयन पुलकावलि बाढ़ी॥, मंगल भवन अमंगल हारी I द्रवहु सुदसरथ अजिर बिहारी II, हरि अनंत हरि कथा अनंता I कहहि सुनहि बहुबिधि सब संता II, दीन दयाल बिरिदु संभारी । हरहु नाथ मम संकट भारी।I, माता पिता की सेवा करें....बुजुर्गों का ख्याल रखें...अपनी प्रतिभा और आचरण से देश का नाम रौशन करें...

शुक्रवार, 1 नवंबर 2019

बीमार चल रहे नवाज शरीफ की सेहत में आया सुधार

nawaz-health-improving
लाहौर, एक नवंबर, पाकिस्तान के पूर्व प्रधानमंत्री नवाज शरीफ की सेहत में सुधार के संकेत मिले हैं क्योंकि उनका प्लेटेलेट काउंट बढ़कर 51,000 पर पहुंच गया है। बहरहाल, मीडिया में शुक्रवार को आई एक रिपोर्ट के अनुसार उनका रक्त चाप और मधुमेह का स्तर अब भी उच्च बना हुआ है। मेडिकल बोर्ड ने बृहस्पतिवार को पाकिस्तान मुस्लिम लीग-नवाज (पीएमएल-एन) के 69 वर्षीय नेता की जांच की। उन्हें यहां सर्विसेज अस्पताल में भर्ती कराया गया है।  डॉन अखबार के अनुसार, शरीफ के प्लेटेलेट बृहस्पतिवार को 35,000 से बढ़कर 51,000 हो गए जो उनकी सेहत में सुधार को दिखाता है। तीन बार प्रधानमंत्री रहे शरीफ को पाकिस्तान के भ्रष्टाचार रोधी निकाय की हिरासत से सोमवार रात को अस्पताल में भर्ती कराया गया। उनकी प्लेटेलेट 2,000 तक गिर गए थे। अखबार ने बताया कि शुरुआत में शरीफ अस्पताल जाने के लिए तैयार नहीं थे लेकिन जब उनके छोटे भाई शहबाज शरीफ ने उन्हें मनाया तो वह सर्विसेज अस्पताल में इलाज कराने पर राजी हो गये। इस्लामाबाद उच्च न्यायालय ने भ्रष्टाचार के एक मामले में शरीफ की सात साल की सजा मंगलवार को आठ सप्ताह के लिए निलंबित कर दी जिससे मेडिकल आधार पर उनकी रिहाई का रास्ता साफ हो गया। उन्हें चौधरी शुगर मिल्स से जुड़े धन शोधन के एक मामले में लाहौर उच्च न्यायालय से पहले ही जमानत मिल चुकी है। शरीफ को बेहतर इलाज के लिए लंदन ले जाने के संबंध में पीएमएल-एन के महासचिव एहसान इकबाल ने बुधवार को कहा कि डॉक्टरों की पहली और सर्वप्रथम कोशिश उनकी हालत को स्थिर करना है। इकबाल ने कहा, ‘‘एक बार जब उनकी हालात स्थिर हो जाएगी तो विदेश जाने का सवाल पैदा होगा और फिर फैसला होगा।’’  एक अन्य पीएमएल-एन नेता और पूर्व विदेश मंत्री ख्वाजा आसिफ ने कहा कि शरीफ खुद फैसला करेंगे कि वह विदेश में इलाज कराना चाहते हैं या नहीं।

कोई टिप्पणी नहीं:

Loading...