कप्तानी करते हुए खुद को आगे रखना पसंद नहीं करता : रोहित - Live Aaryaavart

Breaking

प्रबिसि नगर कीजै सब काजा I ह्रदय राखि कौसलपुर राजा II, हरिजन जानि प्रीति अति गाढ़ी। सजल नयन पुलकावलि बाढ़ी॥, मंगल भवन अमंगल हारी I द्रवहु सुदसरथ अजिर बिहारी II, हरि अनंत हरि कथा अनंता I कहहि सुनहि बहुबिधि सब संता II, दीन दयाल बिरिदु संभारी । हरहु नाथ मम संकट भारी।I, माता पिता की सेवा करें....बुजुर्गों का ख्याल रखें...अपनी प्रतिभा और आचरण से देश का नाम रौशन करें...

शनिवार, 2 नवंबर 2019

कप्तानी करते हुए खुद को आगे रखना पसंद नहीं करता : रोहित

never-place-front-while-captain-rohit-sharma
नयी दिल्ली, दो नवंबर, भारत के कार्यवाहक कप्तान रोहित शर्मा का मानना है कि अगले साल होने वाले टी20 विश्व कप से पहले मजबूत मध्यक्रम तैयार करने के लिये विकल्पों की कमी नहीं है तथा साफ किया कि युवाओं के दिमाग में सुरक्षा का भाव पैदा करने के लिये वह लगातार बदलाव करने की नीति के खिलाफ भी हैं।  जब भी भारतीय शीर्ष क्रम अच्छा प्रदर्शन करता है तो टीम बेहतर स्थिति में होती है जबकि जब ऐसा नहीं होता है तो मध्यक्रम की कमजोरी खुलकर सामने आ जाती है।  रोहित ने आस्ट्रेलिया में होने वाले टी20 विश्व कप से पहले इस बारे में कहा, ‘‘हमारे पास बहुत विकल्प हैं। युवा खिलाड़ियों को आत्मविश्वास हासिल करने के लिये अधिक मैच देने होंगे। कुछ साल पहले टीम संतुलित थी जिसके कारण युवाओं के लिये ज्यादा मौके नहीं थे। ’’  उन्होंने कहा, ‘‘इसके अलावा 4, 5, 6 और सात नंबर के बीच काफी बदलाव होता रहा। इसलिए यह हमारे लिये इन खिलाड़ियों को आजमाने का सर्वश्रेष्ठ समय है। श्रेयस अय्यर, शिवम दुबे, मनीष पांडे और ऋषभ पंत हैं। कई खिलाड़ी हैं जो ये भूमिका निभा सकते हैं। ’’  रोहित ने हालांकि कहा कि मजबूत भारतीय बल्लेबाजी क्रम में इन खिलाड़ियों के लिये जगह पक्की करना आसान नहीं होगा।  उन्होंने कहा, ‘‘जब आप आईपीएल टीम में खेलते हैं तो यह अलग तरह का है और राष्ट्रीय टीम की तरफ से खेलना उससे भिन्न होता है। वे आईपीएल टीम में ऊपरी क्रम में खेलते हैं और अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट में यह चुनौती होती है कि जो आप चाहते हैं वह आपको नहीं मिलता। ’’  रोहित ने कहा, ‘‘आपको इस पोजीशन को हासिल करना होता है। आपको मौके का अधिक से अधिक फायदा उठाना होता है। आईपीएल में 15 मैचों की गारंटी होती है लेकिन अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट में नहीं। ’’  अगले साल विश्व कप की तैयारियों के संदर्भ में रोहित ने आगे कहा कि टीम को पहले बल्लेबाजी करते हुए बेहतर प्रदर्शन करने की जरूरत है।  उन्होंने कहा, ‘‘हम कुछ खास आंकड़ों पर गौर करते हैं। भारत हो या विदेश लक्ष्य का पीछा करते हुए हमारा रिकार्ड अच्छा है। हमें पहले बल्लेबाजी करते हुए बड़े स्कोर बनाने और उनका बचाव करने पर ध्यान देने की जरूरत है। ’’  रोहित ने कहा, ‘‘हम चाहते हैं कि आस्ट्रेलिया में होने वाले विश्व कप से पहले हम हर विभाग में अव्वल बन जाएं। यह ऐसा करने के लिये सबसे सही समय है लेकिन इसके साथ ही हम मैच भी जीतना चाहते हैं। ’’  रोहित का मानना है कि कप्तान को खुद को सबसे अहम व्यक्ति नहीं मानना चाहिए तथा वह नियमित कप्तान विराट कोहली के तय मानदंडों पर ही आगे बढ़ेंगे। आईपीएल में मुंबई इंडियन्स की कप्तानी करने वाले रोहित ने कहा, ‘‘टी20 में आपको कई तरह की रणनीतियां बनानी होती है। आपको खिलाड़ियों को समझना होता है। मुंबई इंडियन्स में मैं यही करता हूं। ’’  उन्होंने कहा, ‘‘मैं इसे इस तरह से देखता हूं कि जब आप टीम की अगुवाई कर रहे होते हैं तो आप बहुत महत्वपूर्ण व्यक्ति नहीं बन जाते हो, अन्य दस सबसे महत्वपूर्ण हैं क्योंकि आपको उनसे बेहतर प्रदर्शन करवाना है। निश्चित तौर पर हमारा प्रदर्शन मायने रखता है लेकिन मैं खुद को आगे रखना पसंद नहीं करता। अन्य खिलाड़ी अधिक अहम होते हैं। मैं उन पर ध्यान देता हूं और उन्हें नैसर्गिक खेल खेलने की छूट देता हूं। ’’  रोहित ने कहा, ‘‘कप्तान के रूप में मेरा काम आसान है। मैं नियमित कप्तान नहीं हूं और मेरा काम वहीं से आगे बढ़ना है जहां विराट ने उसे छोड़ा है। मुझे जो भी सीमित मौके मिले उनमें मैंने उन चीजों को बरकरार रखने की कोशिश की जो पूर्व में विराट ने किये। ’’ 

कोई टिप्पणी नहीं:

Loading...