सीहोर (मध्यप्रदेश) की खबर 25 नवंबर - Live Aaryaavart

Breaking

प्रबिसि नगर कीजै सब काजा I ह्रदय राखि कौसलपुर राजा II, हरिजन जानि प्रीति अति गाढ़ी। सजल नयन पुलकावलि बाढ़ी॥, मंगल भवन अमंगल हारी I द्रवहु सुदसरथ अजिर बिहारी II, हरि अनंत हरि कथा अनंता I कहहि सुनहि बहुबिधि सब संता II, दीन दयाल बिरिदु संभारी । हरहु नाथ मम संकट भारी।I, माता पिता की सेवा करें....बुजुर्गों का ख्याल रखें...अपनी प्रतिभा और आचरण से देश का नाम रौशन करें...

सोमवार, 25 नवंबर 2019

सीहोर (मध्यप्रदेश) की खबर 25 नवंबर

एक कदम बेटियों और बहनों की सुरक्षा की और अनिल पुर्विया

sehore news
सीहोर !   इन दिनों शहर के बड़िया खेड़ी मैं स्थित शास्त्री स्मृति विद्या मंदिर हायर सेकेंडरी स्कूल मैं कराते ट्रेनर अनिल पुर्विया द्वारा 10 दिवसीय मुफ्त आत्मरक्षा शिविर लगाया जा रहा है, जिसमें लड़कियों को आत्मरक्षा के गुण सिखाए जा रहे हैं इसमें किक पंच ब्लॉक और सेल्फ डिफेंस कि ट्रिकस बताई जा रही है, ट्रेनर अनिल पुर्विया ने बताया की यह शिविर खास लड़कियों के लिए मुफ्त लगाया गया है जिससे लड़कियां मुश्किल हालातों मैं अपनी सुरक्षा खुद कर सके और अपने विरोधियों को मुंह तोड़  जवाब दे सके। शास्त्री स्कूल के संचालक शक्ति श्रीवास्तव और वार्ड के पार्षद मनोज राय जी ने अनिल  पूर्वीय को प्रोत्साहन किया

पदीय दायित्व के निर्वहन में अवचार की दोषी, घुटवानी सरपंच को किया गया पद से पृथक
अपने कर्तव्यों के निर्वहन में अवचार की दोषी पाई गयी, नसरूल्लागंज जनपद अंतगर्त ग्राम पंचायत घुटवानी की सरपंच, श्रीमति सोनीबाई बारेला को जिला पंचायत सीईओ श्री अरूण कुमार विष्वकर्मा द्वारा दिनांक 23.11.2019 को पद से पृथक करने संबंधी आदेष जारी किए गये हैं।  विगत दिनों श्रीमति बारेला के विरूद्व शासन की विभिन्न योजनाओं एवं ग्राम पंचायत अंतगर्त किऐ गये  निर्माण कार्यों में भ्रष्टाचार संबंधी षिकायत प्राप्त होने पर सीइओ जिला पंचायत द्वारा 04 सदस्सीय जांच दल गठित किया जाकर जांच कराई गयी। जांच दल द्वारा षिकायत को सही पाया जाकर सीईओ जिला पंचायत को प्रस्तुत प्रतिवेदन में लेख किया गया कि ग्राम पंचायत घुटवानी अंतगर्त मनरेगा अंतगर्त निर्मित किए गये 04 चेक डेम का निर्माण अधूरा होने के बावजूद भी कार्य को पूर्ण दिखाकर आंकलित राषि से अधिक राषि का आहरण किया गया इसी प्रकार खेल मैदान एवं खेत तालाबों के निर्माण में भी तकनीकी मापदण्डों का पालन न करते हुए आंकलित राषि से अधिक राषि का भुगतान किया गया है।  जांच दल द्वारा प्रस्तुत प्रतिवेदन के आधार पर जिला पंचायत द्वारा पंचायत राज अधिनियम की धारा 40 अंतगर्त प्रकरण को विधिवत पंजीबद्व किया गया एव अनावेदिका श्रीमति सोनीबाई बारेला को नोटिस जारी किए गये परंतु कई अवसर प्रदान किए जाने के बाद भी श्रीमति बारेला द्वारा अपने पक्ष में कोई ठोस साक्ष्य या दस्तावेज प्रस्तुत नहीें किए गये । अतः प्राप्त जांच प्रतिवेदन के आधार पर अनावेदक, सरपंच ग्राम पंचायत घुटवानी अपने कर्तव्यों के निर्वहन मंे अवचार की दोषी पाई गयी । अतः जिला पंचायत सीईओ श्री अरूण कुमार विष्वकर्मा द्वारा दिनांक 23 नवंबर 2019 को पंचायत राज एवं ग्राम स्वराज की धारा 40(1) में प्रदत्त अधिकारों का प्रयोग करते हुए श्रीमति सोनीबाई बारेला को पद से पृथक करने के आदेष जारी किए गये। 

"बढ़ी पेंशन, घटी टेंशन" - आमना बी (खुशियों की दास्तां)
बुढ़ापे में मददगार साबित हो रही दुगुनी पेंशन 
sehore news "बढ़ी पेंशन, घटी टेंशन" यह कहना है सीहोर जिले की बुदनी तहसील अन्तर्गत ग्राम बायां में रहने वाली 70 वर्षीय आमना बी का। जिन्हें अपने बुढ़ापे में ऊपरी खर्च के लिए काफी परेशानी होती थी। आमना बी को पहले 300 रुपये प्रतिमाह की पेंशन मिलती थी, वह नाकाफी थी। इससे उनका खर्च पूरा नहीं हो पाता था। आमना बी की परेशानियां दूर हुई जब मध्यप्रदेश में मुख्यमंत्री श्री कमलनाथ द्वारा वचन पत्र के अनुसार पेंशन दुगुनी कर दी गई है। अब रमेश को 600 रुपये प्रतिमाह पेंशन मिलती है। वह अपनी जिंदगी सुखमय व्यतीत कर रहीं हैं। आमना बी बताती हैं कि यदि मध्यप्रदेश सरकार पेंशन दुगुनी न करती तो उन्हें खर्च की परेशानी बनी रहती। अब वह निश्चिंत हैं, क्योंकि अब उन्हें अपने बुढ़ापे के खर्चों के लिए कोई परेशानी नहीं होती है। आमना बी मध्यप्रदेश सरकार के मुखिया को धन्यवाद देते नहीं थकतीं। 


"शुद्ध के लिए युद्ध" के तहत निरीक्षण के दौरान लिए जा रहे कीटनाशक, उर्वरक एवं बीज के नमून

कृषकों को मानक स्तर का खाद बीज एवं कीटनाशक प्राप्त हो इसके लिए जिले में 30 तक गुणनियंत्रण ‘‘शुद्ध के लिए युद्ध’’ हेतु सघन अभियान चलाया जा रहा है। जिसमें जिला स्तर/अनुविभाग स्तर एवं विकासखण्ड स्तर पर टीम गठित कर खाद, बीज एवं कीटनाशक विक्रेताओं के विक्रय केन्द्रों का निरीक्षण किया जा रहा है। इसी तारतम्य में गत दिवस तक जिला अन्तर्गत 138 कीटनाशक विक्रेताओं के विक्रय केन्द्र का निरीक्षण करते हुए 29 कीटनाशक नमूनें लिए गये एवं 124 बीज विक्रेताओं के विक्रय केन्द्र का निरीक्षण करते हुए 106 नमूने एवं इसी प्रकार 169 उर्वरक विक्रेताओं के विक्रय केन्द्रों का निरीक्षण करते हुए 131 उर्वरक नमूने लिये गये है। विक्रेताओं के विक्रय केन्द्रों के अव्यवस्थित रिकार्ड पाये जाने पर संबंधित विक्रेताओं को वरिष्ठ कृषि विकास अधिकारी द्वारा 03 दिवस के अन्दर रिकार्ड दुरूस्त कर दिखाने हेतु निर्देशित किया गया। इस कार्यालय में प्राप्त निरीक्षण प्रतिवेदन में पाई गई अनियमितताओं के कारण 28 विक्रेताओं को कारण बताओं नोटिस जारी किये गये हैं। प्रतिउत्तर प्राप्त होने पर आगामी कार्यवाही की जावेगी। इस अभियान के तहत 30 नवंबर तक लगातार सघन निरीक्षण किये जायेंगें एवं किसी भी प्रकार की अनियमितता पाये जाने पर कीटनाशी अधिनियम 1968/ उर्वरक नियंत्रण आदेश 1985 एवं बीज अधिनियम 1966 के तहत कार्यवाही की जावेगी।   

मुख्यमंत्री कौशल विकास योजना अन्तर्गत बेरोजगारों को नि:शुल्क, प्रशिक्षण हेतु आवेदन करने की अंतिम तिथि 5 दिसंबर

जिला अंत्यावसायी सहकारी विकास समिति के कार्यपालन अधिकारी ने जानकारी देते हुए बताया कि जिले के अनुसूचित जाति वर्ग के 8 वीं उत्तीर्ण बेराजगार हितग्राहियों को मुख्यमंत्री कौशल विकास योजना अन्तर्गत नि:शुल्क प्रशिक्षण के लिए आवेदन आंमत्रित किए गए हैं। इच्छुक आवेदक आवेदन करने के लिए नवीन कलेक्ट्रेट भवन कक्ष क्रमांक 122 में उपस्थित होकर आवेदन कर सकते हैं। आवेदन करने की अंतिम तिथि 5 दिसंबर 2019 निर्धारित की गई है।   

स्टेट बैंक संबंधी लोक अदालत में हुआ 59 प्रकरणों का निराकरण

राज्य विधिक सेवा प्राधिकरण के निर्देशानुसार जिला एवं सत्र न्यायाधीश/ अध्यक्ष श्री राजवर्धन गुप्ता के मार्गदर्शन में स्टेट बैंक की समस्त शाखाओं से संबंधित प्रिलीटिगेशन मामलों के निराकरण के लिए गत दिवस आयोजित लोक अदालत में जिला न्यायालय सहित समस्त तहसीलों से भारतीय स्टेट बैंक के प्रिलीटिगेशन के 59 मामले निराकृत किए गए जिसमें 59 लाख 86 हजार रुपये राशि की वसूली हुई। लोक अदालत के दौरान जिला एवं सत्र न्यायाधीश/ अध्यक्ष श्री राजवर्धन गुप्ता द्वारा स्टेट बैंक की ओर से लगे पंडाल जिसमें काफी संख्या में बैंक के प्रकरणों का निराकरण कर निराकृत होने वाले मामलों का जाएजा लिया गया। इस दौरान जिला एवं सत्र न्यायाधीश/सचिव जिला विधिक सेवा प्राधिकरण श्री एस.के. नागौत्रा अपर, मुख्य न्यायिक मजिस्ट्रेट श्री जफर इकबाल एवं रजिस्ट्रार श्री युगल रघुवंशी सहित विधिक सेवा प्राधिकरण के कर्मचारी, बैंक अधिकारी उपस्थित थे।  

रेत खनिज की निविदाएँ प्रस्तुत करने की अंतिम तिथि आज

मध्यप्रदेश राज्य खनिज निगम द्वारा रेत नियम-2019 के तहत प्रदेश की रेत खदानों का ई-निविदा के माध्यम से निवर्तन किया जा रहा है। रेत खनिज की निविदाएँ प्रस्तुत करने की अंतिम तिथि 26 नवम्बर निर्धारित की गई है। निगम एवं संचालनालय की वेबसाइट पर संशोधित निविदा कार्यक्रम प्रदर्शित किया गया है। राज्य खनिज निगम द्वारा जारी निविदा प्रपत्र में सफल निविदाकार को वार्षिक ठेका धन की 50 प्रतिशत राशि 3 दिन में जमा कराने का प्रावधान है। प्रदेश के सभी जिलों में वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के माध्यम से निविदा के संबंध में इच्छुक निविदाकारों की आशंकाओं का समाधान किया गया। यह स्पष्टीकरण निगम और संचालनालय भौमिकी तथा खनिकर्म की वेबसाइट पर प्रदर्शित किया गया है।

नगरीय निकायों में ई-नगरपालिका पोर्टल से स्वीकृति, भुगतान करने के निर्देश

सभी नगरीय निकायों में ई-नगरपालिका पोर्टल के माध्यम से कम्प्यूटराईज्ड प्रणाली लागू की गई है। प्रमुख सचिव नगरीय विकास एवं आवास ने निर्देशित किया है कि निकायों के सभी लेखों को इलेक्ट्रॉनिक मोड में ही संधारित करें। सभी प्रकार की स्वीकृतियाँ, भुगतान एवं प्राप्तियाँ ई-नगरपालिका पोर्टल के माध्यम से ही करने के निर्देश दिये गये हैं। नगरीय निकायों को निर्देशित किया गया है कि बजट के अनुसार ही स्वीकृतियाँ जारी करें। सभी स्वीकृति ऑनलाइन जारी होंगी। भुगतान के लिये निर्माण कार्य एवं खरीदी से संबंधित सभी देयक निर्माण एजेन्सी अथवा विक्रेता द्वारा स्वयं सॉफ्टवेयर के माध्यम से ऑनलाइन प्रस्तुत किये जाएंगे। छोटे खर्चो के देयक भी प्राप्त होते ही लेखापाल द्वारा सॉफ्टवेयर में दर्ज किये जाएंगे। पहले प्राप्त होने वाले देयकों का भुगतान पहले किया जाएगा। देयक एक साथ प्राप्त होने पर अनुपातिक रूप में समान भुगतान किया जाए। समस्त प्राप्तियाँ सीधे ई-नगरपालिका पोर्टल के माध्यम से ली जाएं। मेन्युअल रसीद नहीं काटी जाए। वार्डवार और राजस्व निरीक्षकवार राजस्व वसूली का लक्ष्य निर्धारित कर वास्तविक वसूली के आधार पर पुरस्कार एवं दण्ड की व्यवस्था की जाए। निर्देशों की अवेहलना होने पर संबंधित के विरूद्ध कार्यवाही करने के निर्देश दिये गए हैं। 

आज मनाया जाएगा संविधान दिवस

सामान्य प्रशासन विभाग द्वारा जारी निर्देशानुसार 26 नवम्बर 2019 को संविधान दिवस मनाया जाएगा। संविधान दिवस के अवसर पर संविधान दिवस के रूप में शपथ दिलाई जाएगी।

अमानक उर्वरक का क्रय-विक्रय प्रतिबंधित

जांच में उर्वरक का नमूना अमानक पाए जाने पर उसके क्रय-विक्रय, भंडारण और स्थानांतरण पर तत्काल प्रभाव से रोक लगाकर इसे प्रतिबंधित कर दिया गया है। इस सिलसिले में उप संचालक किसान कल्याण तथा कृषि विकास पदेन अधिसूचित प्राधिकारी ने आदेश जारी कर दिया है। उर्वरक नियंत्रण आदेश 1985 के तहत प्राथमिक कृषि साख सहकारी समिति मर्या अमलाहा विकासखंड इछावर से NPK-12:32:16 का नमूना एवं प्राथमिक कृषि साख सहकारी समिति सतराना विकासखंड नसरुल्लागंज से गेंहू Hi-8713 का नमूना उर्वरक गुण नियंत्रण प्रयोगशाला इंदौर भेजा गया था जिसके अमानक पाए जाने पर इसके क्रय-विक्रय, भण्डारण और स्थानांतरण पर तत्काल प्रभाव से रोक लगा दी गई हैं।

रोजगार की जानकारी के लिए Jobs in MP पोर्टल

देश के युवाओं को एमएसएमई इकाईयों में रोजगार के अवसरों की जानकारी के लिये तथा अंबंदबल होनें पर आवेदन की सुविधा के लिये एमएसएमई विभाग द्वारा पोर्टल jobsinmp.mpmsme.gov.in  तैयार किया गया है। इस पोर्टल का उद्देश्य रोजगार के इच्छुक युवाओं एवं रोजगार प्रदान करनें वाली औद्योगिक इकाईयों के मध्य संवाद स्थापित करना है, ताकि युवाओं को रोजगार के अधिक से अधिक अवसर प्राप्त हो सके। पोर्टल पर शिक्षित बेरोजगार युवा निर्धारित प्रपत्र अनुसार स्वयं का विवरण दर्ज करते हुए पंजीकरण कर सकते है, ताकि पोर्टल के माध्यम से उनके विवरण का अवलोकन जॉब प्रदाता औद्योगिक इकाईयॉ कर सकें। पोर्टल में एमएसएमई इकाईयॉ स्वंय को जॉब प्रदाता के रूप में पंजीकृत कर सकती है। जॉब प्रदाता औद्योगिक इकाईयों के लिये यह सुविधा होगी, कि वे अपनी आवश्यकता के अनुरूप रोजगार के इच्छुक युवाओं के बायोडाटा का अवलोकन कर, उन्हें अपनी प्रक्रिया अनुसार रोजगार के अवसर प्रदान कर सकते है। ऐसे शिक्षित बेरोजगार युवा, जो रोजगार के इच्छुक है,वे इस पोर्टल पर स्वयं का विवरण दर्ज करते हुए पंजीकरण करावें। साथ ही औद्योगिक इकाईयों से भी यह अपेक्षा है, कि वे अपनी आवश्यकता के अनुरूप रोजगार प्रदान करनें बाबत अपना पंजीयन करावें ताकि पोर्टल के माध्यम से शिक्षित बेरोजगारों को रोजगार प्राप्त हो सकें।

मिशन इंद्रधनुष 2.0 की जिले में 2 दिसंबर से होगी शुरूआत

sehore news
राष्ट्रीय सघन मिशन इन्द्र धनुष अभियान 2.0 का प्रारंभ 2 दिसंबर 2019 से किया जा रहा है। अभियान के अंतर्गत आज शास.कस्तूरबा कन्या शाला उच्व.माध्य.विद्या.तथा शास.सुभाष उच्च.माध्य.विद्या. में जिला टीकाकरण अधिकारी डॉ. एम.के.चंदेल तथा जिल स्वास्थ्य अधिकारी डॉ. टी.आर.उईके द्वारा छात्र-छात्राओं को मिषन इंद्रधनुष अभियान की विस्तार से जानकारी दी।  मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी डॉ प्रभाकर तिवारी के अनुसार दिसंबर माह में प्रथम चरण का आयोजन 2 से 12 दिसंबर तक किया जाएगा। जिसमें जिसमें दिनांक 2, 4, 5, 7, 9, 11, 12 दिसंबर 2019 सम्मिलित होंगे। प्रथम चरण में कुल 493 टीकाकरण सत्रों का आयोजन कर 1479 बच्चों को टीकाकृत किया जाएगा। अभियान के अंतर्गत 597 गर्भवती महिलाओं का भी टीकाकरण किया जाएगा। अभियान का द्वित्तीय चरण 06 जनवरी से 16 जनवरी 2020, तृतीय चरण 3 फरवरी से 13 फरवरी 2020 तथा तृतीय चरण 2 मार्च 12 मार्च 2020 तक संचालित होगा। अभियान के अंतर्गत 0 से 5 वर्ष तक सभी बच्चों का टीकाकरण किए जाने का लक्ष्य निर्धारित है। ग्यारह जानलेवा सुरक्षित एवं असरकरी टीके लगवाना तथा अपने बच्चे का संपूर्ण टीकाकरण करवाना अभियान का मुख्य उद्देष्य हैं। अभियान के प्रचार-प्रसार के लिए ग्राम स्तर तक आषा कार्यकर्ताओं एवं स्वास्थ्य कार्यकर्ताओं के माध्यम से अंर्तव्यैक्तिक संवाद द्वारा आमजन को स्वास्थ्य विभाग द्वारा उपलब्ध कराएं जा रहे हैं।    

पदीय दायित्व के निर्वहन में अवचार की दोषी  घुटवानी सरपंच को किया गया पद से पृथक

अपने कर्तव्यों के निर्वहन में अवचार की दोषी पाई गई, नसरूल्लागंज जनपद अंतगर्त ग्राम पंचायत घुटवानी की सरपंच श्रीमती सोनीबाई बारेला को मुख्य कार्यपालन अधिकारी जिला पंचायत श्री अरूण कुमार विश्वकर्मा द्वारा पद से पृथक करने संबंधी आदेश जारी किए गए हैं। विगत दिनों श्रीमती बारेला के विरूद्व शासन की विभिन्न योजनाओं एवं ग्राम पंचायत अंतगर्त किऐ गये निर्माण कार्यों में भ्रष्टाचार संबंधी शिकायत प्राप्त होने पर सीइओ जिला पंचायत द्वारा 04 सदस्यसीय जांच दल गठित किया जाकर जांच कराई गई। जांच दल द्वारा शिकायत को सही पाया जाकर सीईओ जिला पंचायत को प्रस्तुत प्रतिवेदन में लेख किया गया कि ग्राम पंचायत घुटवानी अंतगर्त मनरेगा अंतगर्त निर्मित किए गये 04 चेक डेम का निर्माण अधूरा होने के बावजूद भी कार्य को पूर्ण दिखाकर आंकलित राशि से अधिक राशि का आहरण किया गया। इसी प्रकार खेल मैदान एवं खेत तालाबों के निर्माण में भी तकनीकी मापदण्डों का पालन न करते हुए आंकलित राषि से अधिक राषि का भुगतान किया गया है। जांच दल द्वारा प्रस्तुत प्रतिवेदन के आधार पर जिला पंचायत द्वारा पंचायत राज अधिनियम की धारा 40 अंतगर्त प्रकरण को विधिवत पंजीबद्व किया गया एव अनावेदिका श्रीमति सोनीबाई बारेला को नोटिस जारी किए गये परंतु कई अवसर प्रदान किए जाने के बाद भी श्रीमति बारेला द्वारा अपने पक्ष में कोई ठोस साक्ष्य या दस्तावेज प्रस्तुत नहीं किए गये। अतः प्राप्त जांच प्रतिवेदन के आधार पर अनावेदक, सरपंच ग्राम पंचायत घुटवानी अपने कर्तव्यों के निर्वहन में अवचार की दोषी पाई गई। अतः जिला पंचायत सीईओ श्री अरूण कुमार विश्वकर्मा द्वारा पंचायत राज एवं ग्राम स्वराज की धारा 40(1) में प्रदत्त अधिकारों का प्रयोग करते हुए श्रीमति सोनीबाई बारेला को पद से पृथक करने के आदेश जारी किए गये।  

संवेदनशील समाज में सशक्त एवं सुदृढ़ नारी (विशेष लेख)

“देवी स्वरूप जननी, वसुधा और सृष्टि जिसमें सारी है।
वंदन करते हैं हम जिसका माता समान वह नारी है॥”

कर्तव्यनिष्ठा, परोपकार व मातृत्व के भाव का जब भी वर्णन होता है, तब नारी की छवि अक्सर मस्तिष्क में आती है। चाहे भारतीय संस्कृति हो, पुराण हों या फिर वैदिक ग्रन्थ। सभी में नारी को एक विशेष दर्जा प्रदान किया गया है, देवी-देवताओं और ईश्वर के नाम के उच्चारण में भी नारी का प्रथम स्थान होता है जैसे :- गौरी-शंकर, राधा-कृष्ण, सीता-राम इत्यादि। विद्यालय की शिक्षा में भी हमें सिखाया गया है :-

“यत्र नार्यस्तु पूज्यन्ते रमन्ते तत्र देवताः।
यत्रैतास्तु न पूज्यन्ते सर्वास्तत्राफलाः क्रियाः॥”

भारत अपनी प्राचीनता हेतु विख्यात है, वर्तमान परिपेक्ष्य में भारत में नारी की स्थिति एक संवेदनशील विषय है, आज शासन व प्रशासन दोनों का ही नारी के निरादर के प्रति कठोर रवैया है। नारी सशक्तिकरण पर आज भारत बल दे रहा है। जहां एक ओर संयुक्त राष्ट्र की एक इकाई यू.एन.वुमन अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर महिलाओं को सुदृढ़ करने का प्रयास कर रही है, वहीँ राष्ट्रीय स्तर पर महिला एवं बाल विकास मंत्रालय, भारत सरकार महिलाओं, बालिकाओं एवं बच्चों को सशक्त करने हेतु प्रयासरत है। अब प्रश्न यह उठता है कि क्या भारत के इतिहास में महिलाओं की स्थिति दयनीय थी ? वैदिक काल के अंतर्गत ऋग्वेद, जो कि सबसे प्राचीनतम है, उसमें लोपमुद्रा नामक महिला का वर्णन आता है। यह विदर्भ की राजकुमारी थीं एवं इनके पिता द्वारा शिक्षा व शास्त्रार्थ में पारंगत किया गया था। लोपमुद्रा ने स्वविवेक से ऋषि अगस्त्य से विवाह किया और उन्हें गृहस्थ जीवन का अर्थ समझाया। क्या ऐसी महिला जो पिता तथा पति दोनों के साथ अपनी स्वविवेक से रही, शिक्षित हुई, विवाह किया, वह दबी या शोषित कही जा सकती है ? यह प्रश्न सोचने योग्य है। वहीं वर्तमान परिपेक्ष्य में महिला सशक्तिकरण का अनूठा उदाहरण प्रस्तुत करता है पूर्वोत्तर स्थित राज्य मणिपुर। मणिपुर एक महिला प्रधान राज्य है, जिसकी राजधानी इम्फाल में ईमा अर्थात् मदर्स मार्केट एकमात्र ऐसा बाजार है जहाँ प्रत्येक दुकान महिलाओं की है व महिलाओं के द्वारा ही संचालित है। लगभग 3000 महिलाऐं यहाँ अलग-अलग सामान बेचती है। युवा कार्यक्रम और खेल मंत्रालय, भारत सरकार द्वारा जब “एक भारत- श्रेष्ठ भारत” के अंतर्गत “अंतर्राज्यीय सांस्कृतिक युवा आदान-प्रदान कार्यक्रम, मणिपुर 2017-18” में मुझे मध्यप्रदेश के प्रतिनिधित्व का अवसर मिला तब मैंने भारत की अनेकता में एकता का साक्ष्य देखा। साथ ही महिला प्रधान राज्य में अनेक विविधताओं के बीच भारतीय संस्कृति को निकट से महसूस किया। सम्पूर्ण अर्थव्यवस्था एवं व्यवस्थाओं का स्त्रोत महिलाओं पर आधारित होने के कारण सहजता से एक नवीन जगत का दर्शन मैं कर रहा था। भारत में महिलाओं की स्थिति को लेकर निरंतर कहीं न कहीं मतभेद जारी रहता है। वास्तव में भारत सुदृढ़ होती अर्थव्यवस्था के साथ -साथ सशक्त महिलाओं का केंद्र भी बनता जा रहा है। वर्तमान समय में उद्यमिता विकास भारत के युवाओं और विशेषकर महिलाओं के लिए सशक्त माध्यम बनता जा रहा है। इसके साथ ही अंतर्राष्ट्रीय खेलों के क्षेत्र में भी भारत की बेटियां परचम लहरा रही हैं। नवनिर्माण और विज्ञान के इस युग में वास्तव में बेटियों और विशेषकर छात्राओं को पूर्ण विश्वास के साथ समाज से तालमेल करने का अवसर प्रदान करना सबसे बड़ी आवश्यकता है। ये आकाश के उस पंछी के समान है जिन्हें उड़ने के लिए स्वतंत्रता चाहिए। समाज को कही न कही अपनी संकुचित मानसिकता जो लगभग पांच प्रतिशत रह गई है, उसे ख़त्म करने की आवश्यकता है। लड़का और लड़की जन्मजात भेद तो लगभग ख़त्म हुआ है किन्तु मानसिकताओं में नवीन परिवर्तन के बीजों का अंकुरण अभी शेष है।

जलाया पवार और फडणवीस का पुतला  महाराष्ट्र में लोकतंत्र की हो रहीं है हत्या  शिव सैनिकों ने लगाए मुर्दाबाद के नारे 

sehore news
सीहोर। शिव सैनिकों ने सोमवार को कोतवाली चौराहा पर अजीत पवार और देवेंद्र फडणवीस का पुतला जलाया। शिवसेना जिलाध्यक्ष के नेतृत्व में प्रदर्शन किया गया। शिव सेना कार्यकर्ताओं ने दोनों नेताओं के खिलाफ मुर्दाबाद के जोरदार नारे लगाए। महाराष्ट्र में भाजपा और राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी के द्वारा लोकतंत्र की हत्या पर शिवसेना ने विरोध जताया।  प्रदर्शन के दौरान शिवसेना प्रदेश उपाध्यक्ष राजीव चतुर्वेदी, प्रदेश महासचिव नयन गुप्ता, शिवसेना जिलाध्यक्ष गब्बर यादव,युवासेना जिलाध्यक्ष सुनील राय,संभाग प्रभारी चंद्रशेखर डागर,शिवसेना जिला उपाध्यक्ष नीरज गुप्ता,युवासेना जिलाध्यक्ष आकाश रावत, विद्यार्थीसेना जिला प्रचारक प्रवीण यादव, युवासेना जिला प्रवक्कता विशाल पाटीदार, नगर मीडिया प्रभारी मयंक जोशी, शेलेंष दोहरे, दीपेश राय, लक्की सोनी,रोहित केवट, अखिलेश मेवाड़ा, सतीष वर्मा, रवि शर्मा, गोलू यादव, महेंद्र यादव नकुल राठौर आदि शिव सैनिक मौजूद रहे।

सफलता की कहानी

sehore-news
दिनांक 19.11.2019 को श्री अमीर सिंह लोधी, का बालक आयु 12 वर्ष, निवासी ग्राम नयागाॅव पोस्ट गजोरा तहसील पिछोरा जिला षिवपुरी म.प्र., जो कि किसी भैया के साथ घूमने फिरने शादी विवाह के कार्यक्रम में आया हुआ था, वह अपने साथी से बिछड गया, ओर ग्राम बैदाखेडी तहसील आष्टा जिला सीहोर, में इधर-उधर घूम रहा था, जिसे ग्राम के लोगो की मदद से 1098 चाईल्ड को सूचना दी गई, चाईल्ड द्वारा विषैष किषोर पुलिस इकाई थाना आष्टा में लाया गया जहाॅ पर बालक से पूछताछ की लेकिन बालक मानसिक रूप परेषान एवं कमजोर होने से ज्यादा पूछताछ नहीं की गई, ओर बालक को चाईल्ड लाईन द्वारा बाल कल्याण समिति में प्रस्तुत किया गया, जहाॅ पर बालक की काउंसलिंग की गई, बालक द्वारा उपरोकतानुसार अपने परिवार का नाम एवं पता समिति को बताया गया, समिति द्वारा बालक को बाल गृह भोपाल मे तात्कालिक प्रवेष कराया गया।  बालक के विषय में जिला बाल संरक्षण इकाई सीहोर द्वारा जिला बाल संरक्षण इकाई षिवपुरी से संपर्क किया गया, षिवपुरी बाल संरक्षण अधिकारी श्री राघवेन्द्र शर्मा द्वारा उक्त बालक के विषय में गंम्भीरता दिखाई एवं परियोजना अधिकारी से लेकर मिनी आगंनवाडी नयागाॅव तक बालक के विषय में जानकारी जुटाई गई, एवं बालक कि रिपोर्ट वाटसएप गु्रप के माध्यम से भेजी गई, जिसे सीहोर बाल संरक्षण अधिकारी श्री अनिल पोलाया एवं जिला बाल संरक्षण इकाई सीहोर द्वारा बालक के पालक से संपर्क कर पालक को बाल कल्याण समिति के समक्ष प्रस्तुत करवाया गया, जहाॅ से बालक के माता-पिता के दस्तावेजों के आधार पर एंव बालक के द्वारा माता-पिता के साथ जाने की सहमति दिये जाने पर बालक को माता-पिता की सुपुर्दगी में दिया गया।  इस प्रकार एक गुमषुदा बालक को विभाग की सक्रियता एवं वाटसएप ग्रुप पर सूचनाओं के आदन प्रदान से उसके घर पहुचाने में मदद मिली।

कोई टिप्पणी नहीं: