संदिग्ध हालात में झुलसी कथित बलात्कार पीड़िता की अस्पताल में मौत - Live Aaryaavart

Breaking

प्रबिसि नगर कीजै सब काजा I ह्रदय राखि कौसलपुर राजा II, हरिजन जानि प्रीति अति गाढ़ी। सजल नयन पुलकावलि बाढ़ी॥, मंगल भवन अमंगल हारी I द्रवहु सुदसरथ अजिर बिहारी II, हरि अनंत हरि कथा अनंता I कहहि सुनहि बहुबिधि सब संता II, दीन दयाल बिरिदु संभारी । हरहु नाथ मम संकट भारी।I, माता पिता की सेवा करें....बुजुर्गों का ख्याल रखें...अपनी प्रतिभा और आचरण से देश का नाम रौशन करें...

गुरुवार, 19 दिसंबर 2019

संदिग्ध हालात में झुलसी कथित बलात्कार पीड़िता की अस्पताल में मौत

burn-rape-victime-died
बांदा/कानपुर (उप्र), 19 दिसंबर, बांदा से सटे फतेहपुर जिले के हुसैनगंज क्षेत्र में 14 दिसंबर की दोपहर कथित रूप से दुष्कर्म करने के बाद जिंदा जलाई गई लड़की की गुरुवार को सुबह इलाज के दौरान कानपुर के हैलट अस्पताल में मौत हो गयी। हैलट अस्पताल के सर्जरी विभाग के प्रमुख डॉक्टर संजय काला ने बताया कि लड़की के फेफड़ों और गुर्दों ने काम बंद कर दिया था। उसे वेंटिलेटर पर रखकर बचाने की बहुत कोशिश की गयी, लेकिन आज सुबह करीब साढ़े छह बजे उसने दम तोड़ दिया। उन्होंने बताया कि लड़की गत बुधवार से ही लगभग बेहोश थी। उसके शव को पोस्टमार्टम के लिये भेजा गया है। पीड़िता का इलाज कर रहे सर्जन डॉक्टर अनुराग सिंह ने बताया कि पीड़िता नब्बे फीसद से ज्यादा जल चुकी थी। रविवार से ही उसकी हालत खराब थी। पीड़िता के फेफड़े निष्क्रिय हो चुके थे। उसे वेंटिलेटर पर रखा गया था। अस्पताल प्रशासन ने पीड़िता की मौत की सूचना शासन और जिलाधिकारी को दे दी है। इस बीच, फतेहपुर नगर पुलिस उपाधीक्षक (सीओ) कपिलदेव मिश्रा ने बताया कि चिकित्सकों की रिपोर्ट मिलते ही आरोपी के खिलाफ हत्या की धारा-302 आईपीसी जोड़ कर विवेचना (जांच) शुरू कर दी जाएगी। इधर, पीड़िता के पिता ने आरोप लगाया कि लड़की को इलाज के लिए दिल्ली के सफदरजंग अस्पताल भेजे जाने का अनुरोध राज्य सरकार से किया था, लेकिन सरकार की तरफ से अब तक सकारात्मक प्रतिक्रिया नहीं मिली और बेटी की जान चली गयी। उल्लेखनीय है कि 14 दिसंबर की दोपहर फतेहपुर जिले के हुसैनगंज थाना क्षेत्र के एक गांव में 18 साल की एक लड़की संदिग्ध परिस्थितियों में बुरी तरह झुलस गयी थी। आरोप लगाया गया था कि उसके रिश्ते के चाचा मेवालाल ने दुष्कर्म करने के बाद केरोसिन छिड़ककर उसे जला दिया था। आरोपी को गिरफ्तार कर लिया गया है। मजिस्ट्रेट के सामने पीड़िता के बयान और दर्ज प्राथमिकी के उलट जिलाधिकारी और पुलिस अधीक्षक की जांच का हवाला देकर प्रयागराज परिक्षेत्र के अपर पुलिस महानिदेशक (एडीजी) सुजीत पांडेय ने दावा किया था कि पंचायत के फरमान से क्षुब्ध होकर लड़की ने खुद ही आग लगाकर आत्महत्या की कोशिश की है। मेवालाल का दावा है कि लड़की के उससे प्रेम संबंध थे। लड़की का परिवार इस रिश्ते के खिलाफ था। इसी बात को लेकर हुई पंचायत में आदेश दिया गया था कि वह लड़की का गांव छोड़कर तीन साल तक दूर रहेगा। इससे क्षुब्ध होकर लड़की ने अपने घर पहुंचकर खुद को आग लगा ली।

कोई टिप्पणी नहीं:

Loading...