किराड़ी कपड़ा गोदाम में आग,3 बच्चों समेत 9 की मौत - Live Aaryaavart

Breaking

प्रबिसि नगर कीजै सब काजा I ह्रदय राखि कौसलपुर राजा II, हरिजन जानि प्रीति अति गाढ़ी। सजल नयन पुलकावलि बाढ़ी॥, मंगल भवन अमंगल हारी I द्रवहु सुदसरथ अजिर बिहारी II, हरि अनंत हरि कथा अनंता I कहहि सुनहि बहुबिधि सब संता II, दीन दयाल बिरिदु संभारी । हरहु नाथ मम संकट भारी।I, माता पिता की सेवा करें....बुजुर्गों का ख्याल रखें...अपनी प्रतिभा और आचरण से देश का नाम रौशन करें...

सोमवार, 23 दिसंबर 2019

किराड़ी कपड़ा गोदाम में आग,3 बच्चों समेत 9 की मौत

fire-in-kirari-cloath-godown
नयी दिल्ली 23 दिसंबर, राजधानी में एक पखवाड़े के भीतर सोमवार को फिर से दर्दनाक अग्नि हादसा हुआ। दिल्ली के उत्तर-पश्चिम जिले के किराड़ी क्षेत्र में एक कपड़ा गोदाम में आग लगने से तीन बच्चों समेत नौ लोगों की दर्दनाक मौत हो गयी और तीन अन्य गंभीर रूप से झुलस गए। अग्निशमन सूत्रों ने सोमवार को बताया कि यह आग रविवार देर रात करीब 00:30 बजे लगी। उस समय लोग गोदाम में सो रहे थे। सूत्रों ने बताया कि हादसे में तीन बच्चों समेत नौ की मौत हो हुई है जिसमें छह माह की तुलसी भी शामिल है। घायलों को इलाज के लिए निकट के अस्पताल में भर्ती कराया गया था । दिल्ली के स्वास्थ्य मंत्री सत्येंद्र जैन ने हादसे की मजिस्ट्रेट जांच के आदेश देते हुए मृतकों और घायलों के लिए आर्थिक सहायता की घोषणा की है। मृतकों के परिजनों को दस-दस लाख रुपए और घायलों को एक-एक लाख रुपए की सहायता राशि दी जायेगी। मृतकों की पहचान राम चंद्र झा (65), सुंदरिया देवी (58), संजू झा (36), उदय चौधरी (33) और उसकी पत्नी मुस्कान (25) तथा इनके तीन बच्चे अंजलि (8), आदर्श (7) और तुलसी (छह माह ) के रुप में हुई है । घायलों में पूजा (24) तथा उसकी बेटी (तीन साल ) और सौम्या (10) शामिल है । चार मंजिला गोदाम इलाके की एक तंग गली में था जिसकी वजह से आग बुझाने में अग्निशमन विभाग को काफी दिक्कतें आईं। पिछले एक पखवाड़े में राजधानी में आग लगने का यह दूसरा बड़ा मामला है। इमारत में आग बुझाने का कोई उपकरण नहीं था। आग के कारणों का अभी ठीक से पता नहीं चला है। आशंका है कि शार्ट सर्किट की वजह से आग लगी। आग पर तड़के 3.50 मिनट पर काबू पाया जा सका। गौरतलब है कि दिल्ली के रानी झांसी रोड स्थित अनाज मंडी फैक्ट्री में आठ दिसंबर को भीषण लग गयी थी जिसमें 43 लोगों की मौत हो गयी थी।  

कोई टिप्पणी नहीं: