दमन से नहीं दब सकती लोगों की आवाज : सोनिया गाँधी - Live Aaryaavart

Breaking

प्रबिसि नगर कीजै सब काजा I ह्रदय राखि कौसलपुर राजा II, हरिजन जानि प्रीति अति गाढ़ी। सजल नयन पुलकावलि बाढ़ी॥, मंगल भवन अमंगल हारी I द्रवहु सुदसरथ अजिर बिहारी II, हरि अनंत हरि कथा अनंता I कहहि सुनहि बहुबिधि सब संता II, दीन दयाल बिरिदु संभारी । हरहु नाथ मम संकट भारी।I, माता पिता की सेवा करें....बुजुर्गों का ख्याल रखें...अपनी प्रतिभा और आचरण से देश का नाम रौशन करें...

शनिवार, 21 दिसंबर 2019

दमन से नहीं दब सकती लोगों की आवाज : सोनिया गाँधी

government-con-not-sarpress-voice-sonia-gandhi
नयी दिल्ली, 20 दिसम्बर, कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी ने कहा है कि लोकतंत्र में लोगों को सरकार की गलत नीतियों और निर्णय के विरुद्ध आवाज उठाने का पूरा हक है लेकिन भारतीय जनता पार्टी की सरकार ने जनता की आवाज दबाने के लिए दमन का रास्ता चुना है। श्रीमती गांधी ने शुक्रवार को यहां जारी एक वीडियो संदेश में नागरिकता संशोधन कानून को भेदभावपूर्ण बताया और कहा कि नोटबंदी की तरह लोगों को एक बार फिर अपनी एवं अपने पूर्वजों की नागरिकता साबित करने के लिए लाइन में खड़ा होना पड़ेगा। इससे गरीबों तथा कमजोरों को सबसे ज्यादा नुकसान होगा इसलिए लोगों की चिंता जायज है। इस मुद्दे पर कांग्रेस लोगों के साथ खडी है और जनता के हितों के लिए प्रतिबद्ध है। उन्होंने कहा कि यह चिंता की बात है कि इस कानून के विरोध में प्रदर्शन कर रहे छात्रों, युवाओं और नागरिकों के साथ क्रूरता हाे रही है और उनका दमन किया जा रहा है। विश्वविद्यालयों तथा अन्य संस्थाओं मेें छात्रों द्वारा इस कानून का स्वाभाविक विरोध हो रहा है और लोगों को सरकार की नीतियों के खिलाफ आवाज उठाने का अधिकार है। कांग्रेस अध्यक्ष ने कहा कि सरकार का दायित्व है कि वह लोगों की आवाज दबाने के बजाए उसे सुने लेकिन दुखद स्थिति यह है कि भाजपा सरकार ने लोगों की आवाज को नजरअंदाज किया है। यही नहीं उनकी आवाज को दबाने के लिए बर्बरता से ताकत का इस्तेमाल किया है। लोकतंत्र में यह स्वीकार्य नहीं है और कांग्रेस केन्द्र सरकार के इस व्यवहार की निंदा करती है। 

कोई टिप्पणी नहीं: