सरकार की आरक्षण खत्म करने की साजिश: उदित राज - Live Aaryaavart

Breaking

प्रबिसि नगर कीजै सब काजा I ह्रदय राखि कौसलपुर राजा II, हरिजन जानि प्रीति अति गाढ़ी। सजल नयन पुलकावलि बाढ़ी॥, मंगल भवन अमंगल हारी I द्रवहु सुदसरथ अजिर बिहारी II, हरि अनंत हरि कथा अनंता I कहहि सुनहि बहुबिधि सब संता II, दीन दयाल बिरिदु संभारी । हरहु नाथ मम संकट भारी।I, माता पिता की सेवा करें....बुजुर्गों का ख्याल रखें...अपनी प्रतिभा और आचरण से देश का नाम रौशन करें...

रविवार, 1 दिसंबर 2019

सरकार की आरक्षण खत्म करने की साजिश: उदित राज

government-s-conspiracy-to-end-reservation-udit-raj
नयी दिल्ली, 01 दिसम्बर, अनुसूचित जाति जनजाति संगठनों के अखिल भारतीय परिसंघ के अध्यक्ष उदित राज ने मोदी सरकार को संवेदनहीन और गूंगी बहरी करार देते हुए कहा है कि वह सार्वजनिक संगठनों का निजीकरण कर आरक्षण को खत्म करने की साजिश कर रही है इसलिए उसकी नीतियों के विरुद्ध जन आंदोलन की जरूरत है।पूर्व सांसद श्री उदित राज ने रविवार को देश के विभिन्न हिस्सों से यहां रामलीला मैदान में जुटे कार्यकर्ताओं को संबोधित करते हुए कहा कि मोदी सरकार का हर कदम दलित, आदिवासी, किसान और गरीब विरोधी है। यह सरकार आरक्षण विरोधी है और इस व्यवस्था को खत्म करने के लिए वह सार्वजनिक उपक्रमों का निजीकरण कर रही है।कांग्रेस नेता ने कहा कि मोदी सरकार भाषणों और रैलियों से मानने वाली नहीं है क्योंकि वह संवैधानिक मर्यादाओं का पालन नहीं कर रही है इसलिए संवैधानिक व्यवस्थाओं को खत्म करने पर तुली हुई है। सरकार का लक्ष्य आरक्षण की व्यवस्था को खत्म करना है और इसके लिए उसने सार्वजनिक संगठनों के निजीकरण का रास्ता चुना है। इन उपक्रमों का निजीकरण होने के बाद वहां आरक्षण लागू नहीं किया जा सकेगा और देश में आरक्षण की व्यवस्था स्वत: सामप्त हो जाएगी।उन्होंने कहा कि जिस गति से यह सरकार निजीकरण की राह पर आगे बढ रही है उसे रोकना अब आसान नहीं है। इस नीति के विरुद्ध इस सरकार से टकराने की आवश्यकता है। यह सरकार का मुकाबला भाषणों, रैलियों या इस तरह के आयोजनों से नहीं बल्कि आंदोलन के रूप में करना पड़ेगा। सभी दलितों और आदिवासियों को अपने अधिकारों के लिए सडकों पर उतरना होगा।

कोई टिप्पणी नहीं:

Loading...