आप से 2019 का लोकसभा चुनाव लड़े गुग्गन सिंह फिर भाजपा में लौटे - Live Aaryaavart

Breaking

प्रबिसि नगर कीजै सब काजा I ह्रदय राखि कौसलपुर राजा II, हरिजन जानि प्रीति अति गाढ़ी। सजल नयन पुलकावलि बाढ़ी॥, मंगल भवन अमंगल हारी I द्रवहु सुदसरथ अजिर बिहारी II, हरि अनंत हरि कथा अनंता I कहहि सुनहि बहुबिधि सब संता II, दीन दयाल बिरिदु संभारी । हरहु नाथ मम संकट भारी।I, माता पिता की सेवा करें....बुजुर्गों का ख्याल रखें...अपनी प्रतिभा और आचरण से देश का नाम रौशन करें...

सोमवार, 30 दिसंबर 2019

आप से 2019 का लोकसभा चुनाव लड़े गुग्गन सिंह फिर भाजपा में लौटे

guggal-singh-return-to-bjp
नयी दिल्ली, 30 दिसंबर, इस वर्ष हुए आम चुनाव में उत्तर पश्चिमी दिल्ली से आम आदमी पार्टी(आप) के टिकट पर चुनाव लड़े गुग्गन सिंह सोमवार को बड़ी संख्या में अपने समर्थकों के साथ फिर भारतीय जनता पार्टी (भाजपा ) में शामिल हो गए। श्री सिंह 2013 में दिल्ली विधानसभा का चुनाव भाजपा के टिकट पर जीते थे और फिर पार्टी से मतभेद होने के बाद आप में शामिल हो गए थे । इस वर्ष हुए आम चुनाव में श्री सिंह ने आप के टिकट पर चुनाव लड़ा था और सूफी गायकी से राजनीति में उतरे भाजपा उम्मीदवार हंसराज हंस से चुनाव हार गए थे । अगले वर्ष होने वाले दिल्ली विधानसभा के लिए चुनाव प्रभारी और केंद्रीय सूचना एवं प्रसारण मंत्री प्रकाश जावड़ेकर , दिल्ली भाजपा अध्यक्ष मनोज तिवारी, सांसद विजय गोयल , प्रवेश साहिब सिंह वर्मा और पार्टी के कई अन्य नेता इस दौरान मौजूद थे । श्री जावड़ेकर ने श्री सिंह को भाजपा का पटका पहनाकर फिर से पार्टी में शामिल किया । श्री तिवारी ने श्री सिंह के फिर से भाजपा में शामिल होने का स्वागत करते हुए कहा कि पार्टी उनके मान- सम्मान का पूरा ध्यान रखेगी । उन्होंने कहा कि श्री सिंह के फिर से पार्टी में शामिल होने से भाजपा को उत्तर पश्चिमी दिल्ली और विशेषकर बवाना संसदीय सीट पर मजबूती मिलेगी । श्री सिंह ने कहा कि उनकी घर वापसी हुई है । पूर्व मुख्यमंत्री साहिब सिंह वर्मा को स्मरण करते हुए उन्होंने कहा हमारी गलतियां रहीं कि अपने परिवार से भटके। श्री सिंह ने मौजूद कार्यकर्ताओं से कहा कि जो गलती मैंने की थी वह मत करना । उन्होंने कहा आप में मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल की नजर में विधायकों की कोई इज्जत नहीं थी और वह काफी समय से वहां घुटन महसूस कर रहे थे । श्री केजरीवाल की कार्यशैली के चलते कई विधायकों ने आप पार्टी छोड़ी । इस मौके पर 2015 में आप के टिकट पर विधायक का चुनाव लड़े वेद प्रकाश भी मौजूद थे । हालांकि श्री वेद प्रकाश ने बाद में आप से इस्तीफा दे दिया था और फिर भाजपा में शामिल होकर उपचुनाव लड़ा था, किंतु हार गए थे । 

कोई टिप्पणी नहीं:

Loading...