देश का वन एवं वृक्ष क्षेत्र 5,188 वर्ग किमी बढ़ा - Live Aaryaavart

Breaking

प्रबिसि नगर कीजै सब काजा I ह्रदय राखि कौसलपुर राजा II, हरिजन जानि प्रीति अति गाढ़ी। सजल नयन पुलकावलि बाढ़ी॥, मंगल भवन अमंगल हारी I द्रवहु सुदसरथ अजिर बिहारी II, हरि अनंत हरि कथा अनंता I कहहि सुनहि बहुबिधि सब संता II, दीन दयाल बिरिदु संभारी । हरहु नाथ मम संकट भारी।I, माता पिता की सेवा करें....बुजुर्गों का ख्याल रखें...अपनी प्रतिभा और आचरण से देश का नाम रौशन करें...

सोमवार, 30 दिसंबर 2019

देश का वन एवं वृक्ष क्षेत्र 5,188 वर्ग किमी बढ़ा

indian-forest-increse-5188sq-km
नयी दिल्ली, 30 दिसंबर,  देश का वन एवं वृक्षाच्छादित क्षेत्र दो साल में 5,188 वर्ग किलोमीटर यानी 0.65 प्रतिशत बढ़कर 8,07,276 वर्ग किलोमीटर पर पहुँच गया है। पर्यावरण, वन एवं जलवायु परिवर्तन मंत्री प्रकाश जावड़ेकर ने सोमवार को यहाँ ‘देश के वन क्षेत्र की स्थिति रिपोर्ट, 2019’ जारी की। भारतीय वन सर्वेक्षण द्वारा तैयार इस द्विवार्षिक रिपोर्ट में बताया गया है कि दो साल में घोषित वन क्षेत्र में जंगल 330 वर्ग किलोमीटर घट गये हैं जबकि इनके बाहर 4,306 वर्ग किलोमीटर बढ़े हैं। जंगलों का कुल क्षेत्र 7,12,249 वर्ग किलोमीटर दर्ज किया गया है जो देश के भू क्षेत्र का 21.67 प्रतिशत है। वृक्षाच्छादित क्षेत्र 95,027 वर्ग किलोमीटर दर्ज किया गया जो कुल भू क्षेत्र का 2.89 प्रतिशत है। वन एवं वृक्षाच्छादित क्षेत्रफल 2017 की रिपोर्ट में 8,02,088 वर्ग किलोमीटर दर्ज किया गया था जो आज जारी रिपोर्ट में 5,188 वर्ग किलोमीटर बढ़कर 8,07,276 वर्ग किलोमीटर पर पहुँच गया। यह देश के कुल भू क्षेत्र का 24.56 प्रतिश्त है। श्री जावड़ेकर ने कहा कि दुनिया के कुल भू क्षेत्र का मात्र 2.4 प्रतिशत भारत में है जबकि दुनिया की 17 प्रतिशत जनसंख्या और 18 प्रतिशत पशुधन हमारे देश में है। आबादी और पशुधन के दबाव के बावजूद भारत उन चंद देशों में है जहाँ जंगल बढ़ रहे हैं। उन्होंने कहा कि यह लगातार दूसरा सर्वेक्षण है जिसमें जंगल बढ़ने की बात सामने आयी है। चार साल में देश में वन एवं वृक्षाच्छादित क्षेत्र 13 हजार वर्ग किलोमीटर बढ़ चुके हैं।  

कोई टिप्पणी नहीं:

Loading...