मोदी, अटल की 95 वीं जयंती पर कर सकते है उनकी प्रतिमा का अनावरण - Live Aaryaavart

Breaking

प्रबिसि नगर कीजै सब काजा I ह्रदय राखि कौसलपुर राजा II, हरिजन जानि प्रीति अति गाढ़ी। सजल नयन पुलकावलि बाढ़ी॥, मंगल भवन अमंगल हारी I द्रवहु सुदसरथ अजिर बिहारी II, हरि अनंत हरि कथा अनंता I कहहि सुनहि बहुबिधि सब संता II, दीन दयाल बिरिदु संभारी । हरहु नाथ मम संकट भारी।I, माता पिता की सेवा करें....बुजुर्गों का ख्याल रखें...अपनी प्रतिभा और आचरण से देश का नाम रौशन करें...

शुक्रवार, 20 दिसंबर 2019

मोदी, अटल की 95 वीं जयंती पर कर सकते है उनकी प्रतिमा का अनावरण

modi-will-inaugrate-atal-statue
लखनऊ, 20 दिसंबर, प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी, लखनऊ के पांच बार सांसद रहे और पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेई की 95वीं जयन्ती पर 25 दिसम्बर को उनकी 25 फीट ऊची कांस्य प्रतिमा के अनावरण के लिये लखनऊ आ सकते है। लखनऊ के पांच बार के सांसद श्री वाजपेयी की प्रतिमा जयपुर के प्रसिद्ध मूर्तिकार राज कुमार पंडित द्वारा बनाई गई है। प्रतिमा को इस महीने की शुरुआत में मंच पर रखा गया था। इसे उत्तर प्रदेश राजकीय निर्माण निगम लिमिटेड द्वारा तैयार आठ फीट ऊंचे बेस पर लगाया गया है। कास्य प्रतिमा पूर्व प्रधानमंत्री के कट-आउट की जगह लेगी, जो प्रतीकात्मक रूप से लोकभवन में प्रवेश द्वार लगाया गया है। इस साल की शुरुआत में, महाराष्ट्र के उत्तम पचर्ने द्वारा बनाई गई स्वामी विवेकानंद की 12.5 फीट की कांस्य प्रतिमा का अनावरण तत्कालीन राज्यपाल रामनाईक और मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने किया था। चार और मूर्तियाँ, सभी 12.5 फीट ऊँची, जो बनकर लगभग तैयार हैं और उन्हें फिनिशिंग टच दिया जा रहा है। उनमें श्री आदित्यनाथ के गुरु महंत अवैद्यनाथ और महंत दिग्विजयनाथ, उत्तर प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री हेमवती नंदन बहुगुणा और आधुनिक हिंदी साहित्य और हिंदी रंगमंच के जनक भारतेंदु हरीश चंद्र भी शामिल हैं। भारतेंदु हरीश चंद्र की प्रतिमा गोमती नगर में भारतेन्दु नाट्य अकादमी में स्थापित की जाएगी। बाकी मूर्तियों की स्थापना के लिये निर्णय लिया जाना बाकी है। गौरतलब है कि बहुजन समाज पार्टी(बसपा) के शासनकाल में, राज्य की राजधानी में विभिन्न स्थानों पर लगभग सभी दलित प्रतीकों की प्रतिमाएँ स्थापित की गई थीं, जबकि रूश्री अखिलेश यादव ने अपने शासनकाल में श्री जनेश्वर मिश्र और श्री राम मनोहर लोहिया की मूर्तियाँ स्थापित की थीं। 

कोई टिप्पणी नहीं: