बिहार : ‘तरुमित्र’ की ओर से आयोजित ‘जैविक धान की कटनी उत्सव’ का शुभारंभ - Live Aaryaavart

Breaking

प्रबिसि नगर कीजै सब काजा I ह्रदय राखि कौसलपुर राजा II, हरिजन जानि प्रीति अति गाढ़ी। सजल नयन पुलकावलि बाढ़ी॥, मंगल भवन अमंगल हारी I द्रवहु सुदसरथ अजिर बिहारी II, हरि अनंत हरि कथा अनंता I कहहि सुनहि बहुबिधि सब संता II, दीन दयाल बिरिदु संभारी । हरहु नाथ मम संकट भारी।I, माता पिता की सेवा करें....बुजुर्गों का ख्याल रखें...अपनी प्रतिभा और आचरण से देश का नाम रौशन करें...

बुधवार, 4 दिसंबर 2019

बिहार : ‘तरुमित्र’ की ओर से आयोजित ‘जैविक धान की कटनी उत्सव’ का शुभारंभ

"तरूमित्र आश्रम" संस्था जिस प्रकार स्कूली बच्चों में जैविक खेती,जैविक खाद,कचरे से उपयोगी सामग्री का निर्माण व इको फ्रेंडली वातावरण के निर्माण इत्यादि का व्यवहारिक प्रशिक्षण दे रही है।यह सार्थक और सराहनीय प्रयास है प्रकृति की रक्षा के प्रति एक वातावरण तैयार करने का प्रयास़ है।
organic-farming-inaugration
पटना,4 दिसम्बर। दीघा क्षेत्र में है जेवियर शिक्षक प्रशिक्षक संस्थान। इस संस्थान के परिसर में है विश्वविख्यात तरूमित्र आश्रम। आज तरूमित्र आश्रम के लिए 4 दिसम्बर ऐतिहासिक रहेगा। 5 एकड़ में जैविक खेती से पैदा होने वाले धान को सुशील कुमार मोदी,उप मुख्यमंत्री ने हंसुआ से धान कटनी  किए। गया है। इसके पूर्व मेगा जैविक महोत्सव में एस आर विघापति,  डॉन बोस्को एकेडमी,दी त्रिभुवन स्कूल,रेडिएंट इंटरनेशनल स्कूल, संत जेवियर कॉलेज,इंद्रपुरम पब्लिक गर्ल्ल स्कूल,पटना विमेंस कॉलेज,जेडी विमेंस कॉलेज,संत पौल्स हाई स्कूल,संत दोमनिक सावियो हाई स्कूल,गुलजारबाग गर्वमेंट विमेंस कॉलेज बालविन    एकेडमी,पटना यूर्निवर्सिटी,रजा इंटरनेशनल स्कूल,कमला नेहरू शिशु विहार, माउण्ट कार्मेल हाई स्कूल,एसटी एम जी पब्लिक स्कूल, एस टी रजा इंटरनेशनल स्कूल,संत जेवियर बीएड कॉलेज,संत माइकल हाई स्कूल और हार्टमन गर्ल्स हाई स्कूल के सैकड़ों छात्र-छात्राओं ने मुख्य अतिथि उप मुख्यमंत्री सुशील कुमार मोदी के आगमन पर स्वागत किए।इसके बाद रजा इंटरनेशनल गर्ल्स स्कूल के 16 सदस्य बैंड टीम ने आगत मेहमानों का स्वागत सुरीली धून से किया।

तदुपरांत मुख्य अतिथि उप मुख्यमंत्री सुशील कुमार मोदी ने "जैविक धान कटनी महोत्सव" का उद्घाटन  किया। मौके पर उप मुख्यमंत्री सुशील कुमार मोदी ने कहा कि धरती गर्म हो रही है, मौसम चक्र टूट रहा है, अतिवृष्टि और अनावृष्टि से बाढ़ और सुखाड़ जैसे हालात पैदा हो रहे हैं।जलवायु परिवर्तन का सर्वाधिक असर बच्चों के स्वास्थ्य और कृषि पर पड़ रहा है। सामूहिक जिम्मेवारी के साथ प्रयास करना होगा।एक वर्ष में एक पौधा जरूर लगाएं और संतान की तरह उसकी परवरिश और देखभाल करें। सुशील मोदी ने कहा कि दुनिया में मौजूद पानी का मात्र 3 प्रतिशत ही पीने योग्य है।पानी प्रयोगशाला में तैयार नहीं होता, इसलिए हमें उसकी एक-एक बूंद को बचाना है।वर्षा जल का संचयन व धरती को रिचार्ज कर भूगर्भ जल के स्तर को बरकरार रखना होगा। पेड़-पौधे, जीव-जंतु, पशु-पक्षी, नदी-पहाड़ से हमारे जीवन का अस्तित्व जुड़ा हुआ है। हमारी संस्कृति में सदियों से इनकी पूजा की परंपरा रही है। ‘थिंक ग्लोबली एंड एक्ट लोकली’ की नीति के साथ पुनः प्रकृति के प्रति जुड़ाव और लगाव स्थापित करने की जरूरत है। उप मुख्यमंत्री ने कहा कि हमें पानी और बिजली जरूरत के अनुरूप इस्तेमाल कर प्राकृतिक श्रोतों को अनावश्यक दोहन से बचना होगा। धरती सभी की जरूरतों को पूरा करने में सक्षम है लेकिन हमारे लालच को पूरा नहीं कर सकती है।उन्होंने कहा कि तरूमित्र संस्था जिस प्रकार स्कूली बच्चों को जैविक खेती, जैविक खाद, कचरे से उपयोगी सामग्री का निर्माण व इको फ्रेंडली वातावरण का निर्माण, पौधारोपण, जल संरक्षण इत्यादि का व्यवहारिक प्रशिक्षण दे रही है, वह सराहनीय है। प्रकृति की रक्षा व जलवायु परिवर्तन से मुकाबले के लिए आदतों में बदलाव व वातावरण तैयार करने की जरूरत है। इस अवसर पर सुशील कुमार मोदी,उप मुख्यमंत्री ने हंसुआ से धान कटनी किए। रजा इंटरनेशनल गर्ल्स स्कूल की छह छात्रों ने भी कटाई कार्यक्रम में भाग लिया। स्कूल के प्रिंसिपल और प्रधानाध्यापिका दीपा शरण ने छात्रों को बधाई दी।आश्रम में आए लोगों बेहतर प्रोग्राम देने के लिए तरूमित्र की संयोजक देवोप्रिया दत्ता के प्रति आभार व्यक्त किया गया। मौके पर इको क्लब के स्वयंसेवक और उनके मॉडरेटर नेहा प्रधानाध्यापिका दीपा शरण भी मौजूद थीं।ऋग्वेद से पृथ्वी तक गायत्री मंत्र का जाप किया ,जो कि बीज की बुवाई उप द्वारा किया जा रहा था। उप मुख्यमंत्री सुशील मोदी ने एक-एक वृक्ष लगाते रहने का शपथ दिलवाएं।

कोई टिप्पणी नहीं:

Loading...