विदिशा (मध्यप्रदेश) की खबर 01 दिसंबर - Live Aaryaavart

Breaking

प्रबिसि नगर कीजै सब काजा I ह्रदय राखि कौसलपुर राजा II, हरिजन जानि प्रीति अति गाढ़ी। सजल नयन पुलकावलि बाढ़ी॥, मंगल भवन अमंगल हारी I द्रवहु सुदसरथ अजिर बिहारी II, हरि अनंत हरि कथा अनंता I कहहि सुनहि बहुबिधि सब संता II, दीन दयाल बिरिदु संभारी । हरहु नाथ मम संकट भारी।I, माता पिता की सेवा करें....बुजुर्गों का ख्याल रखें...अपनी प्रतिभा और आचरण से देश का नाम रौशन करें...

रविवार, 1 दिसंबर 2019

विदिशा (मध्यप्रदेश) की खबर 01 दिसंबर

भक्ति के लिए निर्मल मन जरूरी: अंकितकृष्ण तेनगुरिया भागवत कथा के शुभारंभ पर निकली भव्य कलश यात्रा

vidisha news
विदिशा- शहर के रीठाफाटक स्थित वैशाली नगर में आज से सात दिवसीय श्रीमद भागवत कथा ज्ञान यज्ञ का आरंभ हुआ। कथा शुभारंभ के पूर्व मां बैत्रवती के तट पर बड़ी संख्या में श्रद्धालु और माताएं बहनें पहुंची। जहां मां बेतवा की विधि विधान के साथ कथा वाचक गौवत्स पंडित अंकितकृष्ण तेनगुरिया ने पूजा अर्चना की और धर्मप्रेमी बंधुओं के साथ-साथ बड़ी संख्या में माताएं-बहनों ने आरती की, उसके बात भव्य कलश यात्रा कथास्थल के लिए रवाना हुई। बेतवा के तट से बैण्ड बाजों के साथ शुरू हुई कलश यात्रा में बड़ी संख्या में छोटे-छोटे बच्चे, युवती व महिलाओं ने हिस्सा लिया। पीले वस्त्र धारण कर बड़ी संख्या में पहुंची माताओं ने सिर पर कलश धारण कर झूमते गाते यात्रा में चल रहीं थीं। कलश यात्रा में सबसे आगे भागवत पुराण को सिर पर उठाये मुख्य यजमान चल रहे थे। कलश यात्रा रामलीला ग्राउंड से होती हुई, मुख्य मार्गों से निकली । रास्ते में कलश यात्रा का जगह- जगह स्वागत किया गया। शोभा यात्रा का जगह-जगह लोगों ने पूरी आस्था और गुरूदेव के जयकारे के साथ पुष्प वर्षा कर स्वागत किया। राधे-राधे के उद्घोष से माहौल भक्ति के रस में डूब गया। कथास्थल पर पहुंची यात्रा से पूरे वैशाली नगर का माहौल भक्तिमय हो गया। कथास्थल पर आचार्य सत्येंद्र शास्त्री ने मुख्य यजमान से मंत्रोच्चारण के साथ विधिविधान पूर्वक पूजन संपन्न कराया, उसके बाद महाराजश्री अंकितकृष्ण तेनगुरिया (बटुकजी) ने व्यास गादी की पूजा के बाद कथास्थल पर मौजूद श्रद्धालुओं को संबोधित करते हुए कहा कि भागवत श्रवण से मनुष्य के सम्पूर्ण कलेश दूर हो जाते हैं और हम भक्ति की ओर अग्रसर होते है। निर्मल मन प्रभु स्वीकार्य है। छलछिद्र रहित ओर भक्ति के लिए निर्मल मन जरूरी है।पहले दिन भगवान के विराट रूप का वर्णन किया गया। इसे सुन श्रद्धालु भाव-विभोर हो गए। भजन, गीत व संगीत पर श्रद्धालु देर तक झूमते रहे। महाराजश्री बटुकजी ने बताया कि श्रीमद भागवत कथा के दूसरे दिन कल सोमवार को प्रथम स्कंध प्रारंभ, व्यास नारद संवाद, परीक्षित जन्म, शुकदेव आगमन के प्रसंग की कथा पर प्रकाश डालेंगे। कथा प्रतिदिन दोपहर 1 से शाम 4 बजे तक होगी।

मिशन इन्द्रधनुष दो अभियान का प्रथम चरण आज से

राष्ट्रीय सघन मिशन इन्द्रधनुष अभियान का जिले में चार चरणों में क्रियान्वयन किया जाएगा। प्रथम चरण दो दिसम्बर से शुरू होगा। अभियान के अंतर्गत टीकाकरण से वंचित आयु वर्ग के बच्चों तथा गर्भवती महिलाओं को हेण्डकाउंट सर्वे उपरांत चिन्हित कर लिया गया है जिनका शत प्रतिशत टीकाकरण कार्य अभियान के चारो चरणों में (दो दिसम्बर, छह जनवरी, तीन फरवरी एवं दो मार्च) को किया जाएगा। उक्त सातो कार्य दिवसों में आयोजित किए जाएंगे।

 शुभांरभ
मिशन इन्दधनुष-दो अभियान का शुभांरभ कार्यक्रम जिला मुख्यालय पर दो दिसम्बर सोमबार की प्रातः दस बजे जिला चिकित्सालय में आयोजित किया गया है। शुभांरभ कार्यक्रम में विधायक श्री शशांक भार्गव के अलावा अन्य जनप्रतिनिधि, गणमान्य नागरिक एवं अधिकारीगण शून्य से दो वर्ष आयु वर्ग के बच्चों को अभियान के तहत टीकाकरण के कार्य में सहभागिता निभाएंगे।

प्रधानमंत्री मातृ वंदना योजना सप्ताह का आयोजन आज से

प्रधानमंत्री मातृ वंदना योजना के तहत दो से आठ दिसम्बर तक सप्ताह भर गतिविधियों का आयोजन किया जाएगा। मातृ वंदना सप्ताह के तहत जागरूकता में वृद्वि करना, क्रियान्वयन मेंं तेजी लाना, लंबित किश्तों का भुगतान करना एवं सुधार हेतु लंबित प्रकरणों का निराकरण करना, तथा जिला एवं परियोजना स्तर पर क्रियान्वयन में स्वस्थ्य प्रतिस्पर्धा विकसित करना तथा अनुकरणीय कार्यो को सम्पादित करने वालो को सप्ताह अवधि में पुरस्कृत किया जाएगा।  महिला एवं बाल विकास विभाग के जिला कार्यक्रम अधिकारी श्री बृजेश शिवहरे ने बताया कि सप्ताह अवधि में सात विशेष ध्यान देने योग्य बिन्दुओं के इर्द-गिर्द गतिविधियों का संचालन किया जाएगा जिसमें शुभांरभ दिवस को मातृ शक्ति राष्ट्र शक्ति अभियान’’ दूसरे दिन जागरूकता पर आयोजन किया जाएगा अर्थात जागरूकता दिवस पर ग्राम शहरी स्थानीय निकायो की बैठके आयोजित की जाएगी। सप्ताह के तीसरे दिन योजना के तहत पात्रताधारी बालिकाओं का पंजीयन कार्य किया जाएगा। चौथे दिन समस्या निवारण कार्यक्रमों का आयोजन किया जाएगा जिसमें बालिकाओं से संबंधित समस्याएं शारीरिक, बौद्विक, स्वास्थ्य एवं उनकी शैक्षणिक तथा व्यक्तिगत समस्याओं के निदान की पहल की जाएगी। सप्ताह के पांचवे दिन प्रधानमंत्री मातृत्व वंदना योजना के बैकलॉक क्लीयरेन्स को निराकरण का आयोजन दिवस के रूप में किया जाएगा। सप्ताह के अंतिम दूसरे दिन स्वास्थ्य पोषण एवं स्वच्छता दिवस के रूप में कार्यक्रमों का आयोजन किया जाएगा तथा सप्ताह के अंतिम दिन संपादित कार्यो की समीक्षा एवं उत्कृष्ट कार्य करने वालो को पुरस्कृत करने हेतु परियोजना स्तर पर कार्यक्रमों का आयोजन किया जाएगा। 

सत्यापन कार्य से मुक्त रखने के निर्देश

खाद्य, नागरिक आपूर्ति एवं उपभोक्ता संरक्षण के संचालक श्रीमन शुक्ला ने आदेश जारी कर राष्ट्रीय खाद्य सुरक्षा अभियान के पात्र परिवारों के सत्यापन कार्य के क्रियान्वयन में संलग्न आंगनबाडी कार्यकर्ता एवं सहायिका को दो से आठ दिसम्बर तक सत्यापन कार्य से मुक्त रखने के निर्देश प्रसारित किए है।  ज्ञातव्य हो कि जिले में दो से आठ दिसम्बर तक प्रधानमंत्री मातृत्व वंदना सप्ताह का आयोजन किया जा रहा है। उक्त सप्ताह अवधि में आयोजित होने वाली गतिविधियों में महिला एवं बाल विकास विभाग की आंगनबाडी कार्यकर्ता एवं सहायिकाओं की महती भूमिका है। खाद्य नागरिक एवं आपूर्ति एवं उपभोक्ता संरक्षण के संचालक श्री शुक्ला ने प्रधानमंत्री मातृत्व वंदना सप्ताह के उपरांत पूर्वानुसार आंगनबाडी कार्यकर्ता के माध्यम से राष्ट्रीय खाद्य सुरक्षा अधिनियम के अंतर्गत सम्मिलित पात्र परिवारों के सत्यापन के अभियान में पूर्वानुसार सहयोग लेकर उनके माध्यम से सत्यापन कार्य सम्पादित कराया जाएगा। 

अनंतिम चयन सूची जारी

एकीकृत बाल विकास  सेवा नटेरन परियोजना के अंतर्गत ग्राम पंचायतों में रिक्त आंगनबाडी कार्यकर्ता, सहायिका एवं उप कार्यकर्ता पद की पूर्ति हेतु कुल नौ पदो के लिए अनंतिम चयन सूची जारी की गई है। क्षेत्र के परियोजना अधिकारी द्वारा जारी उक्त सूची के संबंध में दावे आपत्तियां छह दिसम्बर तक परियोजना कार्यालय नटेरन में जमा की जा सकती है।  परियोजना अधिकारी ने बताया कि जारी अनंतिम चयन सूची में छह आंगनबाडी कार्यकर्ता, दो सहायिका एवं एक उप कार्यकर्ता पद की पूर्ति हेतु जारी की गई है। आंगनबाडी केन्द्रवार जारी सूची तदानुसार कार्यकर्ता पद पर जिन आंगनबाडी केन्द्रो की चयन सूची जारी की गई है और उनमें शामिल नाम तदानुसार आंगनबाडी केन्द्र क्रमशः मरखेडा हेतु श्रीमती कल्पना दांगी, बरखेडा जाट हेतु श्रीमती राजकुमारी अहिरवार, बबचिया के लिए शमाबानो, बीलखेडी के लिए प्रियंक राजपूत, साढेर-दो के लिए श्रीमती कुंती शर्मा, शमशबाद के लिए श्रीमती कामिनी रैकवार का नाम अनंतिम चयन सूची में शामिल है। दो आंगनबाडी केन्द्रों के लिए सहायिका पद की पूर्ति हेतु अनंतिम सूची जारी की गई है जिसमें आंगनबाडी केन्द्र सकतपुर हेतु लीलाबाई, आंगनबाडी केन्द्र बरौदा के लिए नीतू यादव तथा आंगनबाडी केन्द्र नाथपुरा के लिए उपकार्यकर्ता पद पर आशा यादव का नाम अनंतिम चयन सूची में शामिल है। 

परियोजना स्तर पर गतिविधियों का आयोजन

बेटी बचाओं, बेटी पढ़ाओं योजना के अंतर्गत महिला एवं बाल विकास विभाग की समस्त परियोजना स्तर पर गतिविधियों का संचालन किया जाएगा। जिसके लिए बकायदा विभाग के जिला कार्यक्रम अधिकारी द्वारा परियोजनावार दस लाख 65 हजार पांच सौ रूपए का आवंटन जारी कर परियोजना अधिकारियों को दस दिसम्बर से आठ मार्च के दरम्यिन तिथिवार आयोजित होने वाली गतिविधियों का रेखांकनयुक्त कार्यक्रम उपलब्ध कराया गया है।  महिला एवं बाल विकास विभाग की खण्ड स्तरीय परियोजना स्तर पर पूर्व उल्लेखित अवधि के दौरान बेटी बचाओं, बेटी पढ़ाओं के तहत बालिका लिंगानुपात में सुधार हेतु जिन गतिविधियों का संचालन किया जाएगा उनमेंं प्रचार-प्रसार और संदेश प्रसारण के लिए दीवारलेखन, बालिका जन्मोत्सव, खण्ड स्तरीय टॉस्क फोस समिति की बैठक, स्कूलों में जागरूकता अभियान, नुक्कड नाटकों के माध्यम से बेटी बचाओं, बेटी पढाओं का संदेश सहज सुगमता से जिले के चिन्हित 177 ग्रामों में दिया जाएगा। प्रत्येक परियोजना स्तर पर खण्ड स्तरीय संवेदीकरण कार्यशाला का आयोजन किया जाएगा एवं क्षमतावर्धन प्रशिक्षण गतिविधियां क्रियान्वित की जाएगी। बेटी बचाओं, बेटी पढ़ाओं अंतर्गत स्कूल एवं आंगनबाडी की संयुक्त रैली का आयोजन कर संदेश देने का कार्य बालिका लिगांनुपात में पिछडे चिन्हित 177 ग्रामों विशेष आयोजन किया जाएगा। 24 जनवरी 2020 को राष्ट्रीय बालिका दिवस के अवसर पर बिटिया सम्मान समारोह एवं किशोरी मेला का आयोजन जिले के सभी परियोजनाओं पर एक साथ आयोजन किया जाएगा। जिले के समस्त ग्रामों में 26 जनवरी गणतंत्र दिवस के अवसर पर ग्रामसभाओं का आयोजन कर बेटी बचाओं, बेटी पढाओं की भावना से जन-जन को अवगत कराया जाएगा। छह फरवरी को पीएसी एण्ड पी एण्ड डीटी एक्ट पर जागरूकता कार्यक्रम का आयोजन स्वास्थ्य विभाग के साथ प्रत्येक परियोजना स्तर पर, 12 फरवरी को उल्लेखित एक्ट के संबंध में आशा, एएनएम का संवेदीकरण कार्यक्रम स्वास्थ्य विभाग के साथ तथा आठ मार्च को प्रत्येक परियोजना स्तर पर पीएसी एण्ड पी एण्ड डीटी एक्ट पर उत्कृष्ट कार्य करने वाले मैदानी अधिकारी, कर्मचारियों एवं निजी क्षेत्र के व्यक्तियोंं, सामाजिक कार्यकर्ताओंं को पुरस्कृत किया जाएगा। महिला एवं बाल विकास विभाग के जिला कार्यक्रम अधिकारी श्री शिवहरे ने बताया कि जिले में कम लिंगानुपात वाले 177 ग्रामों की सूची संबंधित परियोजना अधिकारियो को उपलब्ध कराई जा चुकी है। लिगांनुपात सुधार के लिए जिला स्तरीय कार्ययोजना अनुसार गतिविधियों का आयोजन परियोजना स्तर पर किया जाएगा। 

पद स्थापना आदेश जारी

जिला पंचायत सीईओ श्री मयंक अग्रवाल ने ग्यारसपुर जनपद पंचायत की ग्राम पंचायत खिरियाजागीर में रिक्त सचिव पद पर आगामी आदेश पर्यन्त तक पदस्थ करने का आदेश जारी कर दिया है। जारी आदेश मे उल्लेख है कि ग्राम पंचायत खिरिया जागीर में इकरार अली को सचिव पद की जबावदेंही सौंपी गई हैं।

ई-बस्ता हेतु पटवारियों के खातो में राशि उपलब्ध कराई जाएगी

प्रत्येक वर्ष की भांति इस वर्ष 2019-20 मेंं भी पटवारियों को ई-बस्ता के लिए खसरा व वी-1 (खतौनी) की प्रति उपलब्ध कराई जानी है। विभाग द्वारा लिए गए निर्णय की जानकारी देते हुए अधीक्षक भू-अभिलेख ने बताया कि इस वर्ष पटवारी अपने हल्के के ग्रामोंं के खसरा व बी-1 की प्रति का प्रिन्ट स्वंय निकलवाएंगे। इसके लिए पटवारी हल्को के ग्राम में खसरो व खतौनी की संख्या आधार पर इसके लिए आवश्यक राशि अग्रिम रूप से संबंधित पटवारियों के खाता में आतंरित की जाएगी। खसरा, बी-1 के प्रिन्ट की दर एक रूपए प्रति पृष्ठ अथवा जिले के कलेक्टर कार्यालय में फोटो कॉपी की स्वीकृति दर जो भी कम हो मान्य होगी। एक पृष्ठ पर तीन खसरे व एक पृष्ठ पर दो खाते पृथक दो पृष्ठ पर प्रिन्ट किए जा सकेंगे। 

प्रोटोकॉल-कानून व्यवस्था हेतु वाहन उपलब्ध कराने के निर्देश

कलेक्टर श्री कौशलेन्द्र विक्रमिंसह ने संबंधित विभागों के अधिकारियों को निर्देश प्रसारित किए है कि विदिशा अनुभाग क्षेत्र में प्रोटोकॉल, कानून व्यवस्था के लिए वाहनों की आवश्यकता पड़ती है अतः अविलम्ब सूचना प्राप्त होने पर वाहनों की उपलब्धता सुनिश्चित कराएं। कलेक्टर श्री सिंह ने कतिपय विभागों के अधिकारियों द्वारा समय पर वाहन उपलब्ध नही कराने पर असंतोष जाहिर करते हुए उन्हें प्रशासनिक कार्य, प्रोटोकॉल, कानून व्यवस्था में परेशानी उत्पन्न ना हो को ध्यानगत रखते हुए वाहन की उपलब्धता सूचना प्राप्ति अवधि में उपलब्ध कराने के निर्देश दिए है।

जिले में 1659 राजस्व ग्राम 

विदिशा जिले में कुल 1659 राजस्व ग्राम है। सर्वाधिक राजस्व ग्राम सिरोंज तहसील में 302 तथा सबसे कम पठारी में 67 राजस्व ग्राम है शेष अन्य तहसीलों में राजस्व ग्रामों की जानकारी तदानुसार विदिशा नगरीय तहसील मेंं 48, विदिशा ग्रामीण तहसील में 195, ग्यारसपुर में 128, गुलाबगंज में 76, बासौदा में 186, त्योंदा में 102, कुरवाई मेंं 159, नटेरन में 87, शमशाबाद में 102 तथा लटेरी तहसील में 207 राजस्व ग्राम है। 

जिले में 587 पटवारी हल्के

विदिशा जिले में कुल 587 पटवारी हल्के है। तहसीलवार पटवारी हल्कों की जानकारी इस प्रकार से है। विदिशा नगरीय में 17, विदिशा ग्रामीण में 80, ग्यारसपुर मेंं 37, गुलाबगंज में 34, बासौदा में 69, त्योंदा में 33, कुरवाई में 55, पठारी में 21, नटेरन में 43 शमशबाद में 42, सिरोंज में 94 तथा लटेरी तहसील में 62 पटवारी हल्के है।

जिले में 22 राजस्व निरीक्षक मंडल 

विदिशा जिले में कुल 22 राजस्व निरीक्षक मंडल है। तहसीलवार राजस्व निरीक्षक मण्डल की जानकारी इस प्रकार से है। विदिशा नगरीय क्षेत्र में दो, विदिशा ग्रामीण में तीन, इसके अलावा जिन तहसीलों में एक-एक राजस्व निरीक्षक मण्डल है उनमें ग्यारसपुर, गुलाबगंज, त्योदा, कुरवाई पठारी नटेरन, शमशाबाद शामिल है। इसके अलावा बासौदा में दो, लटेरी में तीन तथा सिरोंज तहसील में पांच राजस्व निरीक्षक मण्डल है। 

9051 दिव्यांगजनों को पेंशन का लाभ 

जिले के 9051 निःशक्तजनों को सामाजिक सुरक्षा, राष्ट्रीय इन्दिरा गांधी निशक्तता एवं मानसिक बहुविकलांग सहायता से लाभांवित किया जा रहा है। सामाजिक न्याय विभाग के उप संचालक ने बताया कि सामाजिक सुरक्षा पेंशन के तहत कुल 6497 निःशक्त हितग्राहियों को प्रदाय की जा रही है। इसी प्रकार 1089 हितग्रहियों को राष्ट्रीय इन्दिरा गांधी निःशक्त पेंशन योजना का लाभ दिया जा रहा है। इसके अलावा मानसिक बहुविकलांग 1465 हितग्राहियों को सहायता अनुदान राशि प्रदाय की जा रही है। 

जिले में दिव्यांगता, सामाजिक सुरक्षा के क्षेत्र में सात अशासकीय संस्थाएं क्रियाशील

सामाजिक न्याय विभाग के उप संचालक श्री पीके मिश्रा ने बताया कि जिले में दिव्यांगता, सामाजिक सुरक्षा के क्षेत्र में सात अशासकीय संस्थाएं क्रियाशील है। इन संस्थाओं में से पांच को विभागीय मान्यता है शेष दो को मान्यता नही है। जिले में श्रीमती रेखा मोटवानी के द्वारा संस्थाओं का संचालन किया जा रहा है जिसमें उम्मीद शिक्षक समिति दुर्गानगर विदिशा में 36 की क्षमता है उक्त संस्था को निराश्रित निधि प्रदाय की जा रही है। इसी प्रकार उम्मीद शिक्ष समिति जो इंदिरा कॉम्पलेक्स में संचालित है। उक्त संस्था में पचास निःशक्तजनों को पंजीकृत किया गया है यह संस्था नेशनल ट्रस्ट द्वारा मान्यता प्राप्त है। श्रीमती विनीता जैन के द्वारा दो संस्थाएं संचालित की जा रही है जिनमें दीक्षा निकेतन विशेष स्कूल (राजुल विकलांग पालक अभिभावक उत्थान समिति विदिशा) मेंं दस की क्षमता है। यह संस्था केन्द्रीय अनुदान मान्यताधारी है। इसी प्रकार सीडब्ल्यूएनएन छात्रावास विदिशा (राजुल विकलांग पालक अभिभावक उत्थान समिति विदिशा) में 26 की क्षमता है। उक्त संस्था सर्व शिक्षा अभियान के तहत मान्यताधारी है। जिले में दो ऐसी संस्थाएं भी है जिन्हें मान्यता प्राप्त नही है और वे स्वंय संचालित हो रही है उनमें वायु एजुकेशन सोसायटी 22 नंदवाना के संचालक श्री मोहनलाल अग्रवाल है उक्त संस्था में पचास निःशक्तजन पंजीकृत है इसी प्रकार आंकाक्षा पर्यावरण एवं शिक्षा समिति लोहा बाजार हनुमान मंदिर के पास संस्था में 17 दिव्यांगजन पंजीकृत है। उक्त संस्था का संचालन श्रीमती शिल्पी गुप्ता के द्वारा किया जा रहा है।

जिले में दो मान्यताधारक वृद्वाश्रम संचालित 

सामाजिक न्याय विभाग के उप संचालक श्री पीके मिश्रा ने बताया कि जिले में  दो मान्यता प्राप्त वृद्वाश्रम संचालित हो रहे है। इन आश्रमों में 64 वृद्वजनों को रहने की तमाम सुविधाएं मुहैया कराई जा रही है। जिला मुख्यालय पर अजंता ललित कला समाज कल्याण समिति द्वारा संचालित श्री हरिवृद्वाश्रम जो राजीवनगर में स्थित है। उक्त संस्था की संचालिका श्रीमती इंदिरा शर्मा है। केन्द्रीय अनुदान मान्यता प्राप्त उक्त वृदाश्रम में 39 वृदजनों को ठहरने की व्यवस्थाएं क्रियान्वित की जा रही है।  फोरम फोर इन्वायरमेन्ट एण्ड डब्लपमेंट फीड शाखा गंजबासौदा के द्वारा संचालित वृद्वाश्रम में 25 वृद्वजनों को ठहरने की व्यवस्था है। उक्त संस्था का संचालन श्री पंकज मिश्रा के द्वारा किया जा रहा है। मान्यता प्राप्त संस्था को निराश्रित निधि से अनुदान प्रदाय किया जा रहा है।

जिले में एक नशामुक्ति केन्द्र संचालित 

न्याय विभाग के उप संचालक श्री पीके मिश्रा ने बताया कि जिले में एक नशामुक्ति केन्द्र संचालित हो रहा है। अजंता ललित कला समाज कल्याण समिति द्वारा संचालित नशामुक्ति केन्द्र राजीवनगर विदिशा में  संचालित हो रहा है। संस्था की संचालिका श्रीमती इंदिरा शर्मा है। केन्द्रीय अनुदान मान्यता प्राप्त संस्था में 28 की क्षमता है।

शिविरों में 1072 दिव्यांगजनो यूडीआईडी कार्ड जारी 

सामाजिक न्याय विभाग के माध्यम से जिले के सभी सातो विकासखण्ड मुख्यालयों पर शिविरों का आयोजन किया गया था। विभाग के उप  संचालक श्री पीके मिश्रा ने बताया कि शिविरों में 1196 दिव्यांगजनों का पंजीयन किया गया है। वही मौके पर ऑन लाइन 1072 दिव्यांगजनों को (यूडीआईडी कार्ड) निःशक्तताः प्रमाण पत्र प्रदाय किए गए है।  विकासखण्डवार आयोजित शिविरों में पंजीकृत दिव्यांगो एवं लाभांवितों की जानकारी इस प्रकार से है। सिरोंज जनपद पंचायत के विशेष शिविर मेंं 94 दिव्यांगजनों का पंजीयन किया गया और 70 को दिव्यांगता प्रमाण पत्र प्रदाय किए गए है। इसी प्रकार बासौदा में 215 का पंजीयन और 181 को प्रमाण पत्र, लटेरी में 41 का पंजीयन 34 को प्रमाण पत्र, सिरोंज में 20 नवम्बर को सम्पन्न हुए शिविर में 215 दिव्यांगजनों का पंजीयन किया गया है और 212 को मौके पर दिव्यांगता प्रमाण पत्र प्रदाय किए गए है।  जनपद पंचायत लटेरी में 23 नवम्बर को शिविर का आयोजन किया गया था यहां 211 का पंजीयन हुआ और 203 को प्रमाण पत्र जारी किए गए है। इसी प्रकार जनपद पंचायत नटेरन में 27 नवम्बर को सम्पन्न हुए शिविर में 105 का पंजीयन तथा 92 को दिव्यांगता प्रमाण पत्र प्रदाय किए गए है। जिले में आयोजित विशेष शिविरों की अंतिम कढी में जनपद पंचायत ग्यारसपुर में तीस नवम्बर को यूडीआईडी केम्प का आयोजन किया गया था इस केम्प में 315 निःशक्तजनों का पंजीयन किया गया था। मेडीकल बोर्ड के द्वार मौके पर 280 दिव्यांगजनों को निःशक्तता प्रमाण पत्र प्रदाय किए गए है।

विश्व विकलांग दिवस तीन को

प्रतिवर्ष की भांति इस वर्ष भी तीन दिसम्बर को विश्व विकलांग दिवस का आयोजन किया गया है। सामाजिक न्याय विभाग के उप संचालक श्री पीके मिश्रा ने बताया कि तीन दिसम्बर को जिला मुख्यालय पर विश्व विकलांग दिवस का आयोजन जिला दिव्यांग पुर्नवास केन्द्र में किया गया है। उक्त केन्द्र विदिशा के अहमदपुर रोड हलाली कालोनी में स्थित है। आयोजन स्थल पर दिव्यांगजनों के लिए खेलकूद प्रतियोगिता एवं सांस्कृतिक कार्यक्रमों का आयोजन किया जाएगा। 

मातृ वंदना योजना-गर्भवती महिलाओं को मिलेगा फायदा

मातृ वंदना योजना के तहत गर्भवती महिलाओं को मजदूरी के आंशिक क्षतिपूर्ति के रूप में नगद प्रोत्साहन प्रदान किया जा रहा है ताकि प्रथम बच्चे के प्रसव के पूर्व एवं पश्चात बच्चा उन्हें पर्याप्त आराम मिल सके। नगद प्रोत्साहन के माध्यम से गर्भवती महिलाओं एवं धात्री माताओं के स्वास्थ्य संबंधी व्यवहारों में सुधार लाना इस योजना का मुख्य उद्देश्य है। ऐसी सभी गर्भवती महिलाएं और धात्री माताएं जो एक जनवरी 2017 के पश्चात परिवार में जन्मे पहले बच्चे से संबंधित है तो योजना के लिये पात्र होगी। प्रथम जीवित बच्चे संबंधित समस्त गर्भवती महिलाएं एवं धात्री माताएं इसके लिए पात्र होगी। सभी सरकारी या सार्वजनिक क्षेत्र के उपक्रमों में कार्यरत कर्मचारी इसके पात्र नहीं होंगे। 

रोजगार मूलक प्रशिक्षण भी मिलेगा विद्यर्थियों को

प्रदेश में स्किल्ड युवाओं की तैयारी अब स्कूल से कराने पर बल दिया जा रहा है। इसी कड़ी में क्रिस्प संस्था, भोपाल ब्त्प्ैच् द्वारा 5 से 12 तक के छात्रों को रोजगार मूलक प्रशिक्षण दिया जाएगा । कलेक्टर द्वारा निर्देश दिए गए हैं कि सभी नगरीय क्षेत्रों एवं ग्रामों में इसका व्यापक प्रचार-प्रसार किया जाएगा। अधिक जानकारी के लिए आईटीआई संस्थान कार्यालय से सम्पर्क किया जा सकता है।

निरोगी काया-रक्तचाप केंसर, मधुमेह का परीक्षण और निःशुल्क उपचार

स्वास्थ्य विभाग द्वारा चलाए जा रहे निरोगी काया अभियान के अंतर्गत 30 वर्ष से अधिक आयु के सभी पुरुष और महिलाओं का स्वास्थ्य परीक्षण कर उच्च रक्त चाप, मधुमेह तथा कैंसर की प्रारंभिक अवस्था में पहचान कर उसका निःशुल्क इलाज किया जा रहा है। आशा कार्यकर्ता तथा स्वास्थ्य कर्मी लोगों का स्वास्थ्य परीक्षण कर रहे हैं। परीक्षण के उपरांत बीमारियों से ग्रस्त पाए जाने पर मरीजों को चिकित्सालय भेजा जा रहा है, जहाँ उनका इलाज किया जाता है। 

कोई टिप्पणी नहीं:

Loading...