लोक गायिका मालिनी अवस्थी करेंगी आशुतोष की भोजपुरी किताब 'अँजुरी भर चाउर' का लोकार्पण - Live Aaryaavart

Breaking

प्रबिसि नगर कीजै सब काजा I ह्रदय राखि कौसलपुर राजा II, हरिजन जानि प्रीति अति गाढ़ी। सजल नयन पुलकावलि बाढ़ी॥, मंगल भवन अमंगल हारी I द्रवहु सुदसरथ अजिर बिहारी II, हरि अनंत हरि कथा अनंता I कहहि सुनहि बहुबिधि सब संता II, दीन दयाल बिरिदु संभारी । हरहु नाथ मम संकट भारी।I, माता पिता की सेवा करें....बुजुर्गों का ख्याल रखें...अपनी प्रतिभा और आचरण से देश का नाम रौशन करें...

रविवार, 5 जनवरी 2020

लोक गायिका मालिनी अवस्थी करेंगी आशुतोष की भोजपुरी किताब 'अँजुरी भर चाउर' का लोकार्पण

विश्व पुस्तक मेला में होगा किताब का लोकार्पण
anjuri-bhar-chaur
नई दिल्ली/ 5 जनवरी (आर्यावर्त संवाददाता) जाने-माने स्वास्थ्य कार्यकर्ता आशुतोष कुमार सिंह की पहली भोजपुरी किताब 'अँजुरी भर चाउर ' विश्व पुस्तक मेला , नई दिल्ली में धूम मचाने 10 दिसम्बर को पहुँच रही है। पुस्तक का लोकार्पण विश्व विख्यात लोकगायिका पद्मश्री मालिनी अवस्थी करेंगी। हर्फ़ प्रकाशन से प्रकाशित यह किताब पिछले 1 सप्ताह से अमेजन पर धूम मचाई हुई है। देश-विदेश के भोजपुरी प्रेमी इस किताब को अमेजन से खरीद रहे हैं। सैकड़ो किताबे हाथो हाथ बिक गयी है।  अक्सर यह कहा जाता है की भोजपुरी में लिखी किताबों को कोई नहीं पड़ता है। लेकिन इस बात को झूठ साबित कर दिया है आशुतोष कुमार सिंह की किताब अँजुरी भर चाउर ने।  विश्व पुस्तक मेला में लोकार्पित होने जा रही किताब अँजुरी भर चाउर की मांग लगातार बढ़ती जा रही है। इस किताब के बारे में बताते हुए लेखक आशुतोष कुमार सिंह ने बताया की उनकी दिली ख्वाहिस है की भोजपुरी में गद्य लिखा और पढ़ा जाए। यही कारण है की उन्होंने भोजपुरी गद्य का संकलन प्रकाशित कराया है। उन्होंने बताया की भोजपुरी में ऐसा पहली बार हो रहा है जब कोई गद्य संग्रह सचित्र प्रकाशित हो रहा हो। इस किताब के लिए रेखचित्र प्रसिद्ध कलाकार बंसीलाल परमार ने बनाया है। हर्फ़ प्रकाशन के निदेशक जलज कुमार ने बताया की हमारा प्रयास है की हम रीजनल भाषा की पुस्तकों को भी आगे बढ़ाने का काम करें। इसी कड़ी में अँजुरी भर चाउर का हम प्रकाशन कर रहे हैं।  सोशल मीडिया पर इस किताब की खूब चर्चा हो रही है। संजू फ़िल्म फेम शेखर अस्तित्व, फ़िल्म इतिहासकार एवं गजलकार मनोज सिंह भाउक, दिल्ली विश्वविद्यालय में प्रोफेसर एवं मैथिली भोजपुरी अकादमी के सदस्य प्रो मुन्ना पांडेय, बॉलीवुड गायक टोची रैना, संगीतकार सरोज सुमन, बटला हाउस फेम अभिनेता अमरेंद्र शर्मा सहित दर्जनों सेलिब्रेटियों  ने भी अपने वाल से इस पुस्तक को पढ़ने का आह्वान किया है। लेखक आशुतोष कुमार सिंह मूल रूप से बिहार के सीवान जिला के रजनपुरा गांव के रहने वाले हैं। उनकी पहचान एक स्वास्थ्य कार्यकर्ता के रूप में देश भर में रही है। दो बार उन्होंने भारत की यात्रा की है। हाल ही में उन्हें पॉजीटिविटी अवार्ड से दिल्ली में सम्मानित किया गया था। भोजपुरी में एम.ए करने वाले आशुतोष कुमार सिंह भोजपुरी आंदोलन से सक्रिय रूप से जुड़े रहे हैं।

कोई टिप्पणी नहीं:

Loading...