सीएए पर भ्रम फैला रही है कांग्रेस : त्रिवेंद्र रावत - Live Aaryaavart

Breaking

प्रबिसि नगर कीजै सब काजा I ह्रदय राखि कौसलपुर राजा II, हरिजन जानि प्रीति अति गाढ़ी। सजल नयन पुलकावलि बाढ़ी॥, मंगल भवन अमंगल हारी I द्रवहु सुदसरथ अजिर बिहारी II, हरि अनंत हरि कथा अनंता I कहहि सुनहि बहुबिधि सब संता II, दीन दयाल बिरिदु संभारी । हरहु नाथ मम संकट भारी।I, माता पिता की सेवा करें....बुजुर्गों का ख्याल रखें...अपनी प्रतिभा और आचरण से देश का नाम रौशन करें...

शुक्रवार, 3 जनवरी 2020

सीएए पर भ्रम फैला रही है कांग्रेस : त्रिवेंद्र रावत

congress-rumor-on-caa-trivendra-singh-rawat
देहरादून, तीन जनवरी, भाजपा ने शुक्रवार को आरोप लगाया कि कांग्रेस संशोधित नागरिकता कानून (सीएए) की व्याख्या देश के मुसलमानों की नागरिकता छीनने के तौर पर करके भ्रम फैला रही है। भाजपा ने कहा कि संशोधित नागरिकता कानून मुस्लिम बहुल देशों में प्रताड़ित अल्पसंख्यकों को नागरिकता देने के लिए है। मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत ने सीएए को लेकर भ्रम दूर करने के लिए पार्टी द्वारा शुरू किये गए अभियान के तहत अल्मोडा में एक संवाददाता सम्मेलन को संबोधित करते हुए आरोप लगाया कि कांग्रेस इस कानून को लेकर भ्रम फैला रही है कि और इसे भारत में मुसलमानों की नागरिकता छीने जाने के हथियार के तौर पर पेश कर रही है। उन्होंने कहा कि संशोधित नागरिकता कानून के बारे में झूठ फैलाकर कांग्रेस अंग्रेजों से विरासत में मिली 'फूट डालो और राज करो' की नीति को आगे बढ़ा रही है। मुख्यमंत्री ने कहा कि कांग्रेस आज इस कानून का विरोध कर रही है लेकिन मनमोहन सिंह के नेतृत्व वाली उसकी ही तत्कालीन सरकार ने इस संबंध में शुरूआत की थी। उन्होंने कहा, ‘‘पाकिस्तान में अल्पसंख्यकों की जनसंख्या विभाजन के समय 23 फीसदी से घटकर वर्ष 2011 में 3.7 फीसदी हो जाने के कारण संसद ने इस अधिनियम को पारित किया है।’’ रावत ने कहा कि इसके विपरीत भारत में मुसलमानों की जनसंख्या आजादी के समय चार करोड़ से बढ़कर वर्तमान में 20 करोड़ हो गयी है। उन्होंने कहा कि मुस्लिम बाहुल्य वाले पड़ोसी देशों में धार्मिक अल्पसंख्यकों को प्रताड़ित किया जा रहा है और उन्हें धर्म बदलकर मुसलमानों से विवाह करने को मजबूर किया जा रहा है। मुख्यमंत्री ने यह भी कहा कि उत्तराखंड के ऋषिकेश, हरिद्वार और उधमसिंह नगर जिले में रहने वाले करीब 200 परिवार इस संशोधित नागरिकता कानून के दायरे में आ रहे हैं।

कोई टिप्पणी नहीं:

Loading...