फेडरर को हराकर जोकोविच आस्ट्रेलियाई ओपन के फाइनल में - Live Aaryaavart

Breaking

प्रबिसि नगर कीजै सब काजा I ह्रदय राखि कौसलपुर राजा II, हरिजन जानि प्रीति अति गाढ़ी। सजल नयन पुलकावलि बाढ़ी॥, मंगल भवन अमंगल हारी I द्रवहु सुदसरथ अजिर बिहारी II, हरि अनंत हरि कथा अनंता I कहहि सुनहि बहुबिधि सब संता II, दीन दयाल बिरिदु संभारी । हरहु नाथ मम संकट भारी।I, माता पिता की सेवा करें....बुजुर्गों का ख्याल रखें...अपनी प्रतिभा और आचरण से देश का नाम रौशन करें...

गुरुवार, 30 जनवरी 2020

फेडरर को हराकर जोकोविच आस्ट्रेलियाई ओपन के फाइनल में

djocovich-beat-fedrar-in-semifinal
मेजबर्न, 30 जनवरी, नोवाक जोकोविच ने अपने चोटिल प्रतिद्वंद्वी रोजर फेडरर की उम्मीदों पर पानी फेरकर गुरुवार को रिकार्ड आठवीं बार आस्ट्रेलियाई ओपन फाइनल में जगह बनायी और 17वें ग्रैंडस्लैम खिताब की तरफ कदम बढ़ाये।  इन दोनों के बीच 50वें मुकाबले में सर्बियाई खिलाड़ी ने शुरुआत में थोड़ा ढिलायी बरती लेकिन जल्द ही दबदबा बना दिया और स्विट्जरलैंड के दिग्गज को 7-6 (7/1), 6-4, 6-3 से हराया।  जोकोविच फाइनल में पांचवीं वरीयता प्राप्त डोमिनिक थीम या सातवीं रैंकिंग के जर्मन अलेक्सांद्र जेवरेव से भिड़ेंगे। फाइनल में रिकार्ड जोकोविच के पक्ष में रहा। इससे पहले उन्होंने यहां सातों बार फाइनल में जीत दर्ज की।  यही नहीं रविवार को जीत दर्ज करने पर सर्बियाई दिग्गज फिर से नंबर एक रैंकिंग पर काबिज हो जाएगा क्योंकि राफेल नडाल क्वार्टर फाइनल से आगे नहीं बढ़ पाये थे।  मौजूदा चैंपियन जोकोविच ने 26वीं बार ग्रैंडस्लैम फाइनल में पहुंचने के बाद कहा, ‘‘आज कोर्ट पर उतरने के लिये रोजर का आभार क्योंकि वह वास्तव में चोटिल था और यहां तक कि अच्छी तरह से मूवमेंट भी नहीं कर पा रहा था।’’  जोकोविच ने कहा, ‘‘उसने पहले सेट में अच्छी शुरुआत की और मैं थोड़ा नर्वस था। मेरे लिये पहला सेट जीतना महत्वपूर्ण था। मानसिक रूप से मैं उसके बाद सहज हो गया था। ’’  मेलबर्न में यह चौथा अवसर है जबकि जोकोविच ने सेमीफाइनल में फेडरर को हराया। इससे पहले 2008, 2011 और 2016 में भी उन्होंने फेडरर को सेमीफाइनल से आगे नहीं बढ़ने दिया था।  यहां 2018 में खिताब जीतने वाले फेडरर ग्रोइन की चोट के बावजूद कोर्ट पर उतरे थे। वह टेनिस सैंडग्रेन के खिलाफ क्वार्टर फाइनल में चोटिल हो गये थे। उन्हें मैच से पहले अपने दायें पांव के ऊपरी हिस्से में पट्टी बांधे हुए देखा गया था और यह भी कहा जा रहा था कि वह मैच से हट सकते हैं। लेकिन यह 38 वर्षीय खिलाड़ी ऐसी प्रकृति का नहीं है। उन्होंने अपने करियर में केवल चार बार विरोधी खिलाड़ी को वाकओवर दिया है।

कोई टिप्पणी नहीं: