गोपालमैदान आयोजित जिला स्तरीय मुख्य समारोह मे उपायुक्त ने किया झंडोतोलन - Live Aaryaavart

Breaking

प्रबिसि नगर कीजै सब काजा I ह्रदय राखि कौसलपुर राजा II, हरिजन जानि प्रीति अति गाढ़ी। सजल नयन पुलकावलि बाढ़ी॥, मंगल भवन अमंगल हारी I द्रवहु सुदसरथ अजिर बिहारी II, हरि अनंत हरि कथा अनंता I कहहि सुनहि बहुबिधि सब संता II, दीन दयाल बिरिदु संभारी । हरहु नाथ मम संकट भारी।I, माता पिता की सेवा करें....बुजुर्गों का ख्याल रखें...अपनी प्रतिभा और आचरण से देश का नाम रौशन करें...

रविवार, 26 जनवरी 2020

गोपालमैदान आयोजित जिला स्तरीय मुख्य समारोह मे उपायुक्त ने किया झंडोतोलन

उपायुक्त ने जिले वासियों को गणतंत्र दिवस की हार्दिक शुभकामनायें एवं बधाई दी, भारत के स्वतंत्रता सेनानियों को नमन- उपायुक्त 
flag-hosting-jamshedpur
जमशेदपुर : (आर्यावर्त संवाददाता) उपायुक्त एवं वरीय आरक्षी अधीक्षक ने किया परेड का निरीक्षण उपायुक्त, वरीय आरक्षी अधीक्षक, उप-विकास आयुक्त ने स्वतंत्रता सेनानियों के परिजनों *को शॉल ओढ़ाकर किया सम्मानित गणतंत्र दिवस के शुभ अवसर पर गोपाल मैदान, बिष्टुपुर में जिला स्तरीय मुख्य समारोह का आयोजन किया गया। उपायुक्त श्री रविशंकर शुक्ला एवं वरीय आरक्षी अधीक्षक श्री अनूप बिरथरे ने संयुक्त रूप से परेड का निरीक्षण कर कार्यक्रम की विधिवत शुरूआत की। इस अवसर पर उपायुक्त श्री रविशंकर शुक्ला द्वारा झंडातोलन किया गया।  जिलेवासियों के नाम अपने संबोधन में उपायुक्त श्री रविशंकर शुक्ला ने कहा कि आज के ही दिन 26 जनवरी 1950 को हमारा देश गणतंत्र घोषित हुआ था तथा भारत का अपना संविधान लागू हुआ था। हमारा देश दुनिया के सबसे बड़े एवं मजबूत लोकतंत्र के रूप में विख्यात है 

एकजुट होकर देश को विकास के उच्चतम शिखर तक पहुंचाने का प्रयास करें- उपायुक्त
उपायुक्त श्री रविशंकर शुक्ला ने कहा कि हमारा देश प्रशासनिक गतिशीलता, आधारभूत संरचना, निर्माण कार्य, वैज्ञानिक अनुसंधान, स्वास्थ्य, शिक्षा, रक्षा एवं विकास के नये आयामों की ओर प्रगति के पथ पर अग्रसर है। गणतंत्र दिवस के अवसर पर हमारा यह पुनित कर्तव्य होगा कि हम एकजुट होकर पूर्ण निष्ठा, ईमानदारी एलवं लगन के साथ चुनौतियों का सामना करें एवं देश को विकास के उच्चततम शिखर तक पहुंचाने का हर संभव प्रयास करें।  उपायुक्त ने कहा कि हमारा यह लक्ष्य है कि पूर्वी सिंहभूम जिले के प्रत्येक गांव में विद्यालय और विद्यालयों में गुणवत्तायुक्त शिक्षा तथा अस्पतालों में डॉक्टर एवं दवाईयां उपलब्ध रहे। सभी लोगों को स्वच्छ पेयजल और शौचालय की सुविधा हो। जब हम एक विकसित जिले की परिकल्पना करते हैं तो हमें यह सुनिश्चित करना है कि विकास के उपरोक्त आयाम क्षेत्र के सुदूरवर्ती गांव के अंतिम व्यक्ति तक पहुंचे तथा अभिवंचित वर्ग के लोगों को विकास की योजनाओं का लाभ मिले।     
     
शांति व्यवस्था के बिना विकास की परिकल्पना अधूरी- उपायुक्त
उपायुक्त ने कहा कि शांति व्यवस्था कायम रखने में जिला प्रशासन, पुलिस बल तथा अर्धसैनिक बल सदा तत्पर रहे हैं। शांति व्यवस्था के बिना विकास की परिकल्पना नहीं की जा सकती है। आज हमें संकल्प लेना है कि हम समाज और देश के प्रति अपनी व्यक्तिगत जिम्मेदारी को निभायेंगे और सौहार्द्र तथा भाईचारे की भावना का संचार कर सामाजिक समरसता को प्रगाढ़ करते हुए लोकतंत्र की नींव को सुदृढ़ करेंगे। 

उपायुक्त ने बताए जिले की उपलब्धियां

शिक्षा
1. सभी सरकारी विद्यालयों में डेस्क-बेंच, आंतरिक विद्युत वायरिंग तथा 95 फीसदी विद्यालयों में विद्युतिकरण का कार्य पूर्ण कर लिया गया है। 
2. गुणवत्तापूर्ण,  वैज्ञानिक पद्धति से शिक्षा तथा ब्लैक बोर्ड से स्मार्ट बोर्ड द्वारा शिक्षा के उद्देश्य की पूर्ति हेतु जिले के सभी उच्च विद्यालयों में स्मार्ट क्लास की योजना कार्यान्वित की जा रही है तथा मध्य विद्यालयों में भी स्मार्ट क्लास अधिष्ठापन की कार्रवाई की जा रही है। 
3. जिले के विभिन्न विद्यालयों के लगभग 145000 बच्चों को निशुल्क पोशाक तथा 179000 बच्चों को निशुल्क पुस्तक उपलब्ध कराया गया है। 
4. मैट्रिक तथा इंटर परीक्षा परिणाम में सुधार के उद्देश्य से जिले के वरीय पदाधिकारियों द्वारा विद्यालयों को गोद लिया गया है तथा उनके द्वारा गोद लिए गए विद्यालयों में शिक्षण एवं विद्यालय के क्रियाकलापों के अनुश्रवण का कार्य किया जा रहा है। 
5. ई-विद्यावाहिनी एवं ज्ञानसेतु योजना के कार्यान्वयन में पूर्वी सिंहभूम जिला राज्य में लगातार प्रथम स्थान प्राप्त करता रहा है।
6. जिले के सभी पंचायतों में पंचायत पुस्तकालय स्थापित करने की योजना डीएमएफटी मद से स्वीकृत की गई है। 

ग्रामीण विकास विभाग
1. मनरेगा के तहत अबतक कुल 231062 परिवारों को मनरेगा जॉब कार्ड निर्गत किया गया है। वित्तीय वर्ष 2019-20 में क्रियान्वित कुल 23016 योजनाओं में से 8614 योजनायें पूर्ण कर ली गई हैं। 
2. प्रधानमंत्री आवास योजना, बिरसा आवास योजना तथा बाबा साहेब अंबेदकर योजना के अंतर्गत जरूरतमंद लाभुकों को आवास उपलब्ध कराया जा रहा है। वित्तीय वर्ष 2016-20 तक प्राप्त कुल लक्ष्य 232875 के विरूद्ध अबतक 22654 आवास का निर्माण पूर्ण कर लिया गया है जिसमें कुल 35612.9 लाख रूपए खर्च हुए शेष आवासों का निर्माण कार्य जारी है। 
3. राष्ट्रीय ग्रामीण आजीविका मिशन अंतर्गत झारखंड स्टेट लाईवलीहुड प्रमोशन सोसाइटी, पूर्वी सिंहभूम में इसका शुभारंभ फरवरी, 2016 में 4 प्रखंडों पोटका, पटमदा, धालभूमगढ़ एवं घाटशिला में सभी सखी मंडल के गठन के साथ किया गया वहीं आज सबी 11 प्रखंडों में एनआरएलएम का कार्य चल रहा है।  जिसके अंतर्गत अभी तक 13843 सखी मंडल, 979 ग्राम संगठन एवं 24 संकुल आधारित संघों का गठन किया जा चुका है, इन सभी सखी मंडलों में अबतक 167491 ग्रामीण बहनों को जोड़ा जा चुका है।  

आईटी एंड ई-गवर्नेंस
1. भारत नेट परियोजना अंतर्गत पूर्वी सिंहभूम जिले के 231 पंचायत एवं 11 प्रखंड मुख्यालय में उपकरण का अधिष्ठापन किया गया है, जिसमें 86 पंचायतों को इंटरनेट से जोड़ दिया गया है, शेष कार्य प्रगतिशील है। 

स्वास्थ्य विभाग
1. स्वास्थ्य विभाग के अंतर्गत संस्थागत प्रसव तथा नियमित टीकाकरण के साथ-साथ मिशन इंद्रधनुष के अंतर्गत जिले का प्रदर्ठशन संतोषजनक रहा है। 
2. वर्ष 2018-19 तथा 2019-20 में स्वास्थ्य व्यवस्था में उत्कृष्ट सुधार हेतु सदर अस्पताल, जमशेदपुर को कायाकल्प अवार्ड से पुरस्कृत किया गया है तथा NQAS प्रमाणित किया गया है। 
3. जिले के चाकुलिया सीएचसी तथा हल्दीपोखर सीएचसी को भी कायाकल्प पुरस्कार से सम्मानित किया गया है। 
4. सदर अस्पताल में टेलीमेडिसिन की सुविधा हेतु सत्यसाई संजीवनी अस्पताल, रायपुर से एमओयू पर चिकित्सा कार्य कराया जा रहा है। 

समाज कल्याण एवं महिला विकास विभाग  
1. डीएमएफटी मद से कुल 80 आंगनबाड़ी केन्द्रों के नये भवन का निर्माण कार्य कराया जा रहा है। 
2. जिले के 100 आंगनबाड़ी केन्द्रों को मॉडल आंगनबाड़ी केन्द्र बनाने का कार्य किया जा रहा है। 
3. आंगनबाड़ी केन्द्र की सेविका एवं सहायिका के क्रियाकलाप में सुधार एवं उन्मुखीकरण हेतु उन्हें प्रशिक्षित करने की योजना डीएमएफटी मद से स्वीकृत की गई है। 
4. एनिमिया की जांच एवं रोकथाम हेतु सभी एएनएम को हिमोग्लोबिनोमीटर उपलब्ध कराने हेतु सीएसआर मद से योजना स्वीकृत करने की कार्रवाई की जा रही है। 

कल्याण विभाग 
1. प्री मैट्रिक छात्रवृत्ति के तहत वित्तीय वर्ष 2019-20 में प्री मैट्रिक छात्रवृत्ति योजनान्तर्गत कक्षा 01 से 10 तक में अध्ययनरत अनुसूचित जाति, जनजाति एवं पिछड़ी जाति के कुल 82953 छात्रों को पीएफएमएस के माध्यम से 9.88 करोड़ रुपए भुगतान कर दिया गया है। 
2. साइकिल वितरण के तहत वित्तीय वर्ष 2019-20 में कक्षा अष्टम में अध्ययनरत कुल 11726 छात्र-छात्राओं का साइकिल क्रय हेतु राशि का भुगतान किया गया है। 

आपूर्ति विभाग 
1. राष्ट्रीय खाद्य सुरक्षा अधिनियम पूर्वी सिंहभूम जिले में अक्टूबर 2015 से लागू हो चुका है। इसके तहत जिले में 349964 पूर्वविक्ता प्राप्त गृहस्थ परिवार के 1464423 सदस्यों का एवं अंत्योदय अन्न योजना के तहत 58,741 परिवारों के 1,97,199 सदस्यों का लराशन कार्ड बनाया गया है। इस प्रकार पूर्वी सिंहभूम जिले में कुल 4,08.705 परिवारों का राशन कार्ड बनाया गया है जिसमें कुल सदस्यों की संख्या 16,61,622 है। 
2. धान अधिप्राप्ति योजना के तहत किसानों से 2000 रुपए प्रति क्विंटल की दर से धान का क्रय किया जा रहा है।
3. पीवीटीजी डाकिया योजना के तहत जिले में निवास करने वाले आदिम जनजाति परिवारों को 35 किलोग्राम चावल का पैकेट उनके घर तक निशुल्क पहुंचाया जा रहा है। वर्तमान में पूर्वी सिंहभूम जिले में कुल 5210 आदिम जनजाति परिवारों को िस योजना से लाभान्वित कराया जा रहा है। 
4. मुख्यमंत्री कैंटीन योजना के तहत जिले के शहरी क्षेत्र में कुल 8 वाहनों से अन्नामृता फाउंडेशन के सहयोग से इस योजना का संचालन किया जा रहा है। इस योजना के तहत आमजनों को 10 रूपए प्रति प्लेट पौष्टिक एवं गुणवत्तायुक्त भोजन उपलब्ध कराया जा रहा है। 

झारखंड राज्य आकस्मिक खाद्यान कोष 
जिले में किसी भी व्यक्ति की भूख से मृत्यु नहीं हो यह सुनिश्चित करने के लिए सरकार द्वारा जिले में आकस्मिक खाद्यान कोष का गठन किया गया है। इसके तहत सभी ग्राम पंचायतों के मुखिया को 10 हजार रुपए का आकस्मिक कोष के लिए राशि उपलब्ध कराया गया है। साथ ही सभी निकायों को भी एक-एक लाख रुपए इस कोष के लिए राशि उपलब्ध कराया गया है। 

प्रधानमंत्री उज्ज्वला योजना के अंतर्गत जिले के 1,50,000 लाभुकों को मुफ्त गैस कनेक्शन उपलब्ध कराया गया है। 
उपायुक्त श्री रविशंकर शुक्ला ने कहा कि इन सभी सरकारी योजनाओं के क्रियान्वयन के क्रम में आधारभूत संरचनाओं के निर्माण पर विशेष ध्यान दिया जा रहा है हालांकि अभी भी शिक्षा, स्वास्थ्य, कृषि, सिंचाई, विद्युत, सड़कों, कनेक्टिविटी एवं नागरिक सुविधा के क्षेत्र में सतत प्रयास करने एवं वस्तुस्थिति में सुधार की आवश्यकता है। तथापि इन क्षेत्रों में हमारे पास पारा शिक्षकों,शिक्षकों, बीआरपी, सीआरपी, स्वास्थ्य सहिया, एएनएम, आंगनबाड़ी सेविका-सहायिका, रोजगार सेवक, जनसेवक, पंचायत सेवक, कृषक मित्र, एसएचजी के सदस्यों, पीडीएस डीलर, वीएलई, पंचायत प्रतिनिधियों, पुलिसकर्मियों, नगरीय प्रशासन, राजस्व कर्मियों, अभियंताओं आदि के महत्वपूर्ण योगदान से हम आशातीत सफलता प्राप्त करेंगे। 

कोई टिप्पणी नहीं:

Loading...