हिंदी हमारी संस्कृति का अभिन्न हिस्सा : अशोक गहलोत - Live Aaryaavart

Breaking

प्रबिसि नगर कीजै सब काजा I ह्रदय राखि कौसलपुर राजा II, हरिजन जानि प्रीति अति गाढ़ी। सजल नयन पुलकावलि बाढ़ी॥, मंगल भवन अमंगल हारी I द्रवहु सुदसरथ अजिर बिहारी II, हरि अनंत हरि कथा अनंता I कहहि सुनहि बहुबिधि सब संता II, दीन दयाल बिरिदु संभारी । हरहु नाथ मम संकट भारी।I, माता पिता की सेवा करें....बुजुर्गों का ख्याल रखें...अपनी प्रतिभा और आचरण से देश का नाम रौशन करें...

शुक्रवार, 10 जनवरी 2020

हिंदी हमारी संस्कृति का अभिन्न हिस्सा : अशोक गहलोत

hindi-our-culture-ashok-gahlot
जयपुर, 10 जनवरी, राजस्थान के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने शुक्रवार को कहा कि हिंदी मात्र एक भाषा नहीं बल्कि वह हमारी संस्कृति का अभिन्न हिस्सा है। गहलोत के साथ साथ उपमुख्यमंत्री सचिन पायलट ने भी विश्व हिंदी दिवस की शुभकामनाएं दी हैं।  गहलोत ने शुभकामनाएं देते हुए ट्वीट किया है, 'हिन्दी मात्र एक भाषा नहीं, बल्कि हमारी संस्कृति का एक अभिन्न हिस्सा है। हिन्दी हमारे राष्ट्र की एकता और अखण्डता की महत्वपूर्ण कड़ी है।'  गहलोत ने आगे लिखा है कि भाषा किसी भी राष्ट्र की सामाजिक एवं सांस्कृतिक धरोहर की संवाहक होती है। दैनिक व्यवहार में हिन्दी भाषा का अधिक से अधिक उपयोग करने पर जोर देते हुए गहलोत ने लिखा है,' यह गर्व का विषय है कि हमारी भाषा बहुत ही समृद्ध और शालीन है और दुनिया में सबसे ज्यादा बोली जाने वाली भाषाओें में से एक है।'  उपमुख्यमंत्री पायलट ने विश्व हिंदी दिवस की शुभकामनाएं देते हुए ट्वीट किया है कि विश्व की अनेकों भाषाओं में हमारी राजभाषा हिंदी अपनी मधुरता एवं अपने साहित्य के लिए सम्पूर्ण विश्व में विख्यात है। उन्होंने लिखा है, ‘ हिंदी मनुष्य के व्यवहार, विचार और जीवन जीने का महत्वपूर्ण माध्यम है।’ 

कोई टिप्पणी नहीं: