शिक्षाविद एवं कवि ओबैद सिद्दीकी का निधन - Live Aaryaavart

Breaking

प्रबिसि नगर कीजै सब काजा I ह्रदय राखि कौसलपुर राजा II, हरिजन जानि प्रीति अति गाढ़ी। सजल नयन पुलकावलि बाढ़ी॥, मंगल भवन अमंगल हारी I द्रवहु सुदसरथ अजिर बिहारी II, हरि अनंत हरि कथा अनंता I कहहि सुनहि बहुबिधि सब संता II, दीन दयाल बिरिदु संभारी । हरहु नाथ मम संकट भारी।I, माता पिता की सेवा करें....बुजुर्गों का ख्याल रखें...अपनी प्रतिभा और आचरण से देश का नाम रौशन करें...

शुक्रवार, 10 जनवरी 2020

शिक्षाविद एवं कवि ओबैद सिद्दीकी का निधन

obaid-siddiqi-passes-away
नयी दिल्ली, 10 जनवरी, कवि एवं शिक्षाविद् ओबैद सिद्दीकी का निधन गाजियाबाद के एक अस्पताल हो गया। वह 63 साल के थे । सिद्दीकी के सहकर्मी ने इसकी जानकारी दी ।  सिद्दीकी के सहकर्मी रहे कुर्बान अली ने बताया कि सिद्दीकी कई तरह की बीमारियों से जूझ रहे थे और उनका इलाज गाजियाबाद के कौशाम्बी में पिछले एक सप्ताह से चल रहा था । उन्होंने बताया कि उनका निधन बृहस्पतिवार सुबह हो गया। उनके परिवार में एक बेटी और दो भाई हैं।  अली ने कहा कि उन्हें जामिया कब्रिस्तान में शुक्रवार की नमाज के बाद सुपुर्द-ए-खाक किया जाएगा। उनका जन्म मेरठ में 1957 में हुआ और उन्होंने उच्च शिक्षा अलीगढ़ मुस्लिम विश्वविद्यालय से हासिल की और 1988 में ऑल इंडिया रेडियो से जुड़ गए। इसके बाद वह बीबीसी की उर्दू सेवा में काम करने के लिए लंदन चले गए और वहां वह 1996 तक रहे। इसके बाद 2004 में वह जामिया मिल्लिया इस्लामिया के एजेके जन संचार अनुसंधान केंद्र से जुड़ गए और बाद में इसके निदेशक बने। उन्होंने एनडीटीवी के साथ भी काम किया और वह उर्दू कवि के रूप में भी जाने जाते हैं।

कोई टिप्पणी नहीं:

Loading...