नेहरू परिवार की ‘कहानियों’ पर किताब छपे तो : भाजपा - Live Aaryaavart

Breaking

प्रबिसि नगर कीजै सब काजा I ह्रदय राखि कौसलपुर राजा II, हरिजन जानि प्रीति अति गाढ़ी। सजल नयन पुलकावलि बाढ़ी॥, मंगल भवन अमंगल हारी I द्रवहु सुदसरथ अजिर बिहारी II, हरि अनंत हरि कथा अनंता I कहहि सुनहि बहुबिधि सब संता II, दीन दयाल बिरिदु संभारी । हरहु नाथ मम संकट भारी।I, माता पिता की सेवा करें....बुजुर्गों का ख्याल रखें...अपनी प्रतिभा और आचरण से देश का नाम रौशन करें...

शुक्रवार, 3 जनवरी 2020

नेहरू परिवार की ‘कहानियों’ पर किताब छपे तो : भाजपा

if-book-publish-on-nehru-family-bjp
नयी दिल्ली, 03 जनवरी, भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) ने कांग्रेस सेवादल की एक पुस्तिका में स्वतंत्रता सेनानी वीर सावरकर पर घृणास्पद टिप्पणी किये जाने पर तीखी प्रतिक्रिया व्यक्त करते हुए शुक्रवार को कहा कि नेहरू परिवार को लेकर प्रचलित ‘कहानियों’ को यदि कोई राजनीतिक दल किताब में छपवाकर प्रचारित करे तो क्या यह सही राजनीति होगी। भाजपा के प्रवक्ता जीवीएल नरसिंह राव ने यहां संवाददाताओं से कहा कि कांग्रेस ने महान देशभक्त स्वतंत्रता सेनानी वीर सावरकर का अपमान किया है। कांग्रेस ऐसा करके देश में गलत संस्कृति का सूत्रपात कर रही है। कांग्रेस को सोचना चाहिए कि नेहरू परिवार को लेकर तमाम कहानियां प्रचलित हैं। अगर कोई राजनीतिक दल इस प्रकार की कहानियों का प्रकाशन एवं प्रचार करे तो क्या यह सही राजनीति होगी। उन्होंने कहा कि यह बहुत दुख की बात है कि श्री राहुल गांधी के नेतृत्व में कांग्रेस इस कदर गिर चुकी है कि उसे देश की परिपाटी का ध्यान नहीं है। भाजपा प्रवक्ता ने महाराष्ट्र में कांग्रेस के साथ मिल कर सरकार चला रही शिवसेना पर भी तीखा प्रहार किया। उन्होंने कहा कि वीर सावरकर का अपमान बालासाहेब ठाकरे का अपमान है। अगर बालासाहेब जीवित होते तो वीर सावरकर के अपमान का इतना करारा जवाब देते कि जिसे कांग्रेस सोच भी नहीं सकती लेकिन शिवसेना प्रमुख उद्धव ठाकरे पूरी बेशर्मी पीकर वीर सावरकर के अपमान की अनदेखी कर रहे हैं। महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री को अब अपने नाम के आगे ठाकरे उपनाम हटा लेना चाहिए। वह या उद्धव ही लिखें अथवा उद्धव गांधी या उद्धव जिन्ना लिखने लगें। भाजपा के महासचिव अनिल जैन ने भी संवाददाताओं से कहा कि कांग्रेस के लिए गांधी परिवार के अलावा कोई भी पूजनीय नहीं है। सरदार पटेल, लालबहादुर शास्त्री, राजेन्द्र प्रसाद किसी को भी कांग्रेस ने प्रतिष्ठा नहीं दी।  

कोई टिप्पणी नहीं:

Loading...