बिहार : राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के द्वारा भारत माता पूजनोत्सव - Live Aaryaavart

Breaking

प्रबिसि नगर कीजै सब काजा I ह्रदय राखि कौसलपुर राजा II, हरिजन जानि प्रीति अति गाढ़ी। सजल नयन पुलकावलि बाढ़ी॥, मंगल भवन अमंगल हारी I द्रवहु सुदसरथ अजिर बिहारी II, हरि अनंत हरि कथा अनंता I कहहि सुनहि बहुबिधि सब संता II, दीन दयाल बिरिदु संभारी । हरहु नाथ मम संकट भारी।I, माता पिता की सेवा करें....बुजुर्गों का ख्याल रखें...अपनी प्रतिभा और आचरण से देश का नाम रौशन करें...

सोमवार, 27 जनवरी 2020

बिहार : राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के द्वारा भारत माता पूजनोत्सव

rss-celebrate-republic-day
पटना,27 जनवरी. आज गजब माहौल की दौर से बांसकोठी,दीघा के लोग गुजरे.दीघा न्यू कॉलोनी के पास सीएए के विरूद्ध लोगों को संबोधित किया जा रहा था तो बांसकोठी देवी मंदिर के सामने राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के द्वारा भारत माता पूजनोत्सव . पूजा के अवसर पर दीघा में गणतंत्र की रक्षा का संकल्प लिया गया. हिंदू एकता पर जोर दिया. राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ (आरएसएस) ने 26 जनवरी को ‘भारत माता’ पूजन दिवस के रूप में मनाया . इस अवसर पर ‘भारत माता’ की चित्र का पूजन किया गया और प्रजातंत्र की रक्षा की शपथ ली गयी.  उल्लेखनीय है कि प्रसिद्ध चित्रकार अवनींद्रनाथ ठाकुर ने 1905 में सर्वप्रथम भारत माता का चित्र बनाया था.  हिंदू देवी की शैली में भारत माता या मदर इंडिया की पहली पेंटिंग थी, जिसका सचित्र चित्रण किया गया था. भारतीय स्वतंत्रता संग्राम में स्वदेशी आंदोलन को बढ़ावा देने में भारत माता के चित्र ने महत्वपूर्ण भूमिका निभायी थी. श्री राय ने कहा कि यह पहला अवसर नहीं है, जब गणतंत्र दिवस को ‘भारत माता’ पूजन दिवस के रूप में मनाया जा रहा है. इसके पहले भी मनाया जाता रहा है, लेकिन इस वर्ष यह पूजनोत्सव का आयोजन बृहत्तर रूप से किया गया. आरएसएस 15 अगस्त, स्वतंत्रता दिवस को अखंड भारत दिवस के रूप में मनाता रहा है. जिस तरह से विरोधी दलों के समर्थकों के प्रजात्रांतिक अधिकारों का हनन हो रहा है. सत्तारूढ़ दल द्वारा वोट बैंक की राजनीति के लिए तुष्टीकरण की नीति अपनायी जा रही है और एक विशेष संप्रदाय के लोगों को विशेष संरक्षण दिया जा रहा है. नागरिकता संशोधन कानून के विरोध के दौरान राष्ट्रीय संपत्ति की तोड़फोड़ व आगजनी पर भी उनके खिलाफ कोई कार्रवाई नहीं की जाती है. वैसी स्थिति में ‘भारत माता’ की पूजा राष्ट्रवादी ताकतों को मजबूत करेगी और उन्हें एकजुट होकर मुकाबला करने के लिए प्रेरित करेगी.

कोई टिप्पणी नहीं:

Loading...