केन्द्रीय मंत्री अर्जुन राम मेघवाल ने मीडिया महोत्सव में की जेनरिकोनॉमिक्स का लोकार्पण - Live Aaryaavart

Breaking

प्रबिसि नगर कीजै सब काजा I ह्रदय राखि कौसलपुर राजा II, हरिजन जानि प्रीति अति गाढ़ी। सजल नयन पुलकावलि बाढ़ी॥, मंगल भवन अमंगल हारी I द्रवहु सुदसरथ अजिर बिहारी II, हरि अनंत हरि कथा अनंता I कहहि सुनहि बहुबिधि सब संता II, दीन दयाल बिरिदु संभारी । हरहु नाथ मम संकट भारी।I, माता पिता की सेवा करें....बुजुर्गों का ख्याल रखें...अपनी प्रतिभा और आचरण से देश का नाम रौशन करें...

सोमवार, 24 फ़रवरी 2020

केन्द्रीय मंत्री अर्जुन राम मेघवाल ने मीडिया महोत्सव में की जेनरिकोनॉमिक्स का लोकार्पण

  • स्वास्थ्य पत्रकार आशुतोष कुमार सिंह ने लिखी है जेनरिक दवाइयों पर पुस्तक
  • भोपाल में आयोजित मीडिया महोत्सव में हुआ लोकार्पण

book-on-general-medicine-inaugrated
भोपाल (आर्यावर्त संवाददाता) जेनरिक दवाइयों के बारे में देश की जनता को जागरूक करने के लिए लिखी गई पुस्तक जेनरिकोनॉमिक्स का लोकार्पण केन्द्रीय मंत्री अर्जुन राम मेघवाल ने की। भोपाल के इंदिरा गांधी मानव संग्रहालय के में आयोजित मीडिया महोत्सव के उद्घाटन सत्र में इस पुस्तक का लोकार्पण किया गया। श्री मेघवाल ने इस पुस्तक के लिए स्वास्य्् कार्यकर्ता आशुतोष कुमार सिंह को बधाई देते हुए कहा कि आज देश को जनऔषधि की जरूरत है। इस किताब के बारे में बताते हुए लेखक आशुतोष कुमार सिंह ने बताया कि इस किताब के माध्यम से उन्होंने लोगों को जनऔषधि यानी जेनरिक दवाइयों के बारे में लोगों में फैले भ्रम को दूर करने का प्रयास किया है। उन्होंने कहा कि भारत जैसे देश में जहां महंगी दवाइयों के कारण लोग गरीब बन रहे हैं, वहां पर जनऔषधि का विकल्प मिलना बहुत जरूरी है। उनके इस किताब द्वितीय संस्करण के प्रकाशन एवं लोकार्पण के लिए प्रधानमंत्री भारतीय जनऔषधि परियोजना के सीइओ सचिन कुमार सिंह एवं राज्य सभा के उपसभापति हरिवंश जी ने शुभकामनाएं प्रेषित की है। गौरतलब है कि आशुतोष कुमार सिंह विगत 8 वर्षों से स्वस्थ भारत अभियान के अंतर्गत जेनरिक दवाइयों के बारे में देश की जनता को जागरुक करने का प्रयास कर रहे हैं। इसके लिए उन्होंने दो बार में 50 हजार किमी की भारत यात्रा भी की है। मूल रूप से बिहार के सीवान जिला के रजनपुरा के रहने वाले आशुतोष कुमार सिंह की हाल ही भोजपुरी में भी एक पुस्तक ‘अंजुरी भर चाउर’ आई है, जिसका लोकार्पण दिल्ली पुस्तक मेला में पद्मश्री मालिनी अवस्थी ने किया था।

कोई टिप्पणी नहीं:

Loading...