मधुबनी : दो दिवसीय ई-गवर्नेंस सूचना सुरक्षा एवं जागरूकता कार्यशाला का आयोजन - Live Aaryaavart

Breaking

प्रबिसि नगर कीजै सब काजा I ह्रदय राखि कौसलपुर राजा II, हरिजन जानि प्रीति अति गाढ़ी। सजल नयन पुलकावलि बाढ़ी॥, मंगल भवन अमंगल हारी I द्रवहु सुदसरथ अजिर बिहारी II, हरि अनंत हरि कथा अनंता I कहहि सुनहि बहुबिधि सब संता II, दीन दयाल बिरिदु संभारी । हरहु नाथ मम संकट भारी।I, माता पिता की सेवा करें....बुजुर्गों का ख्याल रखें...अपनी प्रतिभा और आचरण से देश का नाम रौशन करें...

मंगलवार, 25 फ़रवरी 2020

मधुबनी : दो दिवसीय ई-गवर्नेंस सूचना सुरक्षा एवं जागरूकता कार्यशाला का आयोजन

e-governance-workshop-madhubani
मधुबनी (आर्यावर्त संवाददाता) : राष्ट्रीय इलेक्ट्राॅनिक एवं सूचना प्रावैधिकी संस्थान, भारत सरकार(एन0आई0ई0एल0आई0टी0) के द्वारा मंगलवार को डी0आर0डी0ए0 स्थित सभागार में श्री अजय कुमार सिंह, उप-विकास आयुक्त, मधुबनी एवं श्री अशोक कुमार त्रिपाठी, प्रभारी, अपर समाहर्ता, मधुबनी  के द्वारा दो दिवसीय ई-गवर्नेंस जागरूकता कार्यशाला का उद्घाटन किया गया। इस अवसर पर श्री अशोक कुमार त्रिपाठी, प्रभारी, अपर समाहत्र्ता, मधुबनी, श्री सुधीर कुमार, जिला कृषि पदाधिकारी, मधुबनी, श्री आलोक नंदन सिंह, जिला सूचना विज्ञान पदाधिकारी, मधुबनी, श्री बुद्धप्रकाश, भूमि सुधार उप-समाहत्र्ता, सदर मधुबनी, श्रीमती रेणु कुमारी, प्रभारी, जिला सूचना एवं जनसंपर्क पदाधिकारी, मधुबनी, प्रशिक्षक के रूप में श्री विशाल कुमार, परियोजना प्रबंधक, श्री यशवंत झा, आई0टी0 प्रबंधक, श्री अतुल कुमार, वरीय संकाय समेत काफी संख्या में अन्य पदाधिकारीगण उपस्थित थे।  कार्यशाला को संबोधित करते हुए श्री विशाल कुमार, परियोजना प्रबंधक के द्वारा ई-गवर्नेंस और सूचना सुरक्षा शिक्षा एवं जागरूकता के बारे में उपस्थित पदाधिकारियों को विस्तारपूर्वक जानकारी दी गयी। जिसमें बताया गया कि कैसे डिजिटल हस्ताक्षर के माध्यम से वित्तीय निकासी में धोखाधड़ी आदि को रोका जा सकता है। साथ ही सुरक्षित ढ़ंग से डिजिटल हस्ताक्षर के द्वारा कैसे फाइलों के निपटारें में आसानी हो रही है। ई-गवर्नेंस के तहत नोटसीट बनाने, डाटा/फाइलों को सालों-साल तक सुरक्षित रखने, ई-रक्तकोश के द्वारा सभी सूचीबद्ध अस्पतालों में रक्त अधिकोश में रक्त की उपलब्धता तथा रक्तदान करनेवालों का रक्त किस रक्त अधिकोश में किस अवस्था में है,उसकी जानकारी उपलब्ध हो पायेगी। डिजिटल लाईफ सर्टिफिकेट के माध्यम से सेवानिवृत कर्मियों को बायोमैट्रिक मशीन के द्वारा डिजिटल लाइफ सर्टिफिकेट एप्प के माध्यम से अंगूठा लगाकर लाइफ सर्टिफिकेट का प्रमाण दिया जा सकता है। उन्होंने इसके साथ ही ई-राही एप्प, डिजी लाॅकर, पी0एम0जी0 दिशा, डिजिटल पेमेंट्स, ई-हाॅस्पीटल, फोन आधारित आर0टी0आई0, ऑनलाईन शिकायत, ऑनलाईन बिजली बिल भुगतान, गवर्नमेंट टेंडर, गुड गवर्नेंस, ई-डिस्ट्रिक्ट, वेवसाईट डायरेक्ट्री, जेम पोर्टल आदि के सुरक्षित इस्तेमाल के बारे में विस्तारपूर्वक जानकारी दी गयी। वरीय संकाय, श्री अतुल कुमार के द्वारा सुरक्षित ई-मेल के इस्तेमाल, फेक मैसेज से होनेवाले नुकसान तथा सोशल मीडिया पर लुभावने ऑफर आदि से परहेज करने एवं कैसे क्रेडिट और डेविट कार्ड के माध्यम से होनेवाले धोखाधड़ी से बचा जा सके इसके बारे में भी जानकारी दी गयी।

कोई टिप्पणी नहीं:

Loading...