बिहार : जोड़ा शिवालय मंदिर प्रांगण में सप्ताहिक नि: शुल्क संस्कृत पाठशाला का शुभारंभ - Live Aaryaavart

Breaking

प्रबिसि नगर कीजै सब काजा I ह्रदय राखि कौसलपुर राजा II, हरिजन जानि प्रीति अति गाढ़ी। सजल नयन पुलकावलि बाढ़ी॥, मंगल भवन अमंगल हारी I द्रवहु सुदसरथ अजिर बिहारी II, हरि अनंत हरि कथा अनंता I कहहि सुनहि बहुबिधि सब संता II, दीन दयाल बिरिदु संभारी । हरहु नाथ मम संकट भारी।I, माता पिता की सेवा करें....बुजुर्गों का ख्याल रखें...अपनी प्रतिभा और आचरण से देश का नाम रौशन करें...

रविवार, 9 फ़रवरी 2020

बिहार : जोड़ा शिवालय मंदिर प्रांगण में सप्ताहिक नि: शुल्क संस्कृत पाठशाला का शुभारंभ

free-sanskrit-education-bihar
बेतिया,09 फरवरी। पश्चिम चम्पारण के बेतिया नगर क्षेत्र अंतर्गत जोड़ा शिवालय मंदिर प्रांगण में 9 फरवरी 2020 (रविवार) को देश की संस्कृति, सभ्यता और धर्म चेतना को जगाने हेतु बच्चों के उत्कृष्ट भविष्य को देखते हुए एक नए पहल की शुरुआत हेतु हिंदू जागरण मंच, बेतिया, पश्चिमी चंपारण के सदस्यों द्वारा जोड़ा शिवालय मंदिर प्रांगण में सप्ताहिक नि: शुल्क संस्कृत पाठशाला का शुभारंभ किया गया। जहां काफी संख्या में संस्कृत विषय में रुचि रखने एवं वैदिक मंत्रोचार को जानने हेतु काफी बच्चे सहित लोग उपस्थित हुए। वहीं इस मंत्रोच्चार व संस्कृत ज्ञान को दीक्षा देने आए मुजफ्फरपुर से संस्कृत शिक्षक परमानंद दुबे द्वारा कहा गया कि इस संस्कृत दीक्षा पर जितनी प्रकाश डाली जाए वह कम है, पौराणिक एवं धार्मिक चेतना को जगाने वाली संस्कृत विषय काफी सरल विषय हैं। इसे अगर लग्न, आत्ममंथन द्वारा ज्ञान इसकी अर्जित किया जाए तो काफी आगे के भविष्य सुखद व सफल दायक सिद्ध होगा। हमारे पूर्वज एवं वेद ग्रंथों में देखा जाए तो देश का प्रथम विषय संस्कृति है। जो पहले के ऋषि मुनि द्वारा रचित जितनी भी रचनाएं एवं वेदों में मंत्रोचार दर्शाए गए हैं वह सभी संस्कृत लिपि में दर्शाए गए हैं। पहले के राजा, महाराजा एवं वेद गुरु द्वारा शुद्ध संस्कृत की बोली बोली जाती थी। इसलिए अपनी सभ्यता व संस्कृति को बचाने के लिए हमें संस्कृत ऐसे विषय को उच्च स्तर पर ले जाने हेतु इस ज्ञान का प्रचार- प्रसार बहुत जरूरी है जो कि नगर ही नहीं बल्कि ग्रामीण क्षेत्रों में भी इस विषय पर विशेष रूप से ज्ञान देना जरूरी है जिसकी शुरुआत आज यहां से प्रारंभ किया जा रहा है इस संस्कृत पाठशाला को आज हिंदू जागरण मंच द्वारा प्रारंभ करने के लिए मैं हार्दिक धन्यवाद करता हूं। हिन्दू जागरण मंच के जिला महामंत्री आशुतोष कुमार बरनवाल ने कहा कि संस्कृत पाठशाला से हमारे समाज और हमारे बच्चों में वैदिक ज्ञान और संस्कार के साथ संस्कृति का पुनर्जन्म होगा।

कोई टिप्पणी नहीं: