सीएए पर हंगामे के बीच सरकार ने चर्चा की अपील की - Live Aaryaavart

Breaking

प्रबिसि नगर कीजै सब काजा I ह्रदय राखि कौसलपुर राजा II, हरिजन जानि प्रीति अति गाढ़ी। सजल नयन पुलकावलि बाढ़ी॥, मंगल भवन अमंगल हारी I द्रवहु सुदसरथ अजिर बिहारी II, हरि अनंत हरि कथा अनंता I कहहि सुनहि बहुबिधि सब संता II, दीन दयाल बिरिदु संभारी । हरहु नाथ मम संकट भारी।I, माता पिता की सेवा करें....बुजुर्गों का ख्याल रखें...अपनी प्रतिभा और आचरण से देश का नाम रौशन करें...

सोमवार, 3 फ़रवरी 2020

सीएए पर हंगामे के बीच सरकार ने चर्चा की अपील की

government-appeal-debate-on-caa
नयी दिल्ली, 03 फरवरी, लोकसभा में नागरिकता संशोधन कानून (सीएए) को लेकर कांग्रेस, द्रविड़ मुनेत्र कषगम (द्रमुक) और तृणमूल कांग्रेस के सदस्यों के हंगामे के बीच संसदीय कार्यमंत्री प्रहलाद जोशी ने सोमवार को राष्ट्रपति के अभिभाषण पर चर्चा हाेने देने की अपील की। श्री जोशी ने कहा “ राष्ट्रपति के अभिभाषण पर कोई भी मसला उठाइए, मैं आप सभी से इस पर चर्चा की हाेने देने अपील कर रहा हूं।” इसी बीच कांग्रेस और द्रमुक सदस्य अध्यक्ष के आसन के समीप आकर हंगामा करने लगे। वे हाथों में तख्तियां लिए हुए थे जिन पर नारे लिखे थे। इसी दौरान तृणमूल कांग्रेस के सदस्य अपनी सीटों पर खड़े होकर शोरगुल करने लगे। लाेकसभा में कांग्रेस के नेता अधीर रंजन चौधरी ने सीएए का जिक्र करते हुए कहा कि देश के संविधान , राष्ट्रीय ध्वज और राष्ट्रीय गान गाने वाले लोगों को गोलियाें का निशाना बनाया जा रहा है। अध्यक्ष ओम बिरला ने कहा कि सीएए पर रात बारह बजे तक चर्चा हो चुकी है और नियमों के अनुसार इस पर दोबारा चर्चा नहीं हो सकती है। जैसे ही सदन की बैठक दोबारा शुरू हुई तो विपक्षी सांसदों ने फिर सीएए , एनपीआर और एनआरसी को लेकर विरोध करना शुरू कर दिया। विपक्ष के हंगामे के कारण अध्यक्ष ने सदन की कार्यवाही भोजनावकाश के लिए दिन में डेढ़ बजे तक स्थगित कर दी। 

कोई टिप्पणी नहीं:

Loading...