CAA और NRC के मुद्दे पर हंगामे के कारण राज्यसभा की कार्यवाही भोजनावकाश तक स्थगित - Live Aaryaavart

Breaking

प्रबिसि नगर कीजै सब काजा I ह्रदय राखि कौसलपुर राजा II, हरिजन जानि प्रीति अति गाढ़ी। सजल नयन पुलकावलि बाढ़ी॥, मंगल भवन अमंगल हारी I द्रवहु सुदसरथ अजिर बिहारी II, हरि अनंत हरि कथा अनंता I कहहि सुनहि बहुबिधि सब संता II, दीन दयाल बिरिदु संभारी । हरहु नाथ मम संकट भारी।I, माता पिता की सेवा करें....बुजुर्गों का ख्याल रखें...अपनी प्रतिभा और आचरण से देश का नाम रौशन करें...

सोमवार, 3 फ़रवरी 2020

CAA और NRC के मुद्दे पर हंगामे के कारण राज्यसभा की कार्यवाही भोजनावकाश तक स्थगित

rajysabha-postpond-on-caa-nrc
नयी दिल्ली, 03 फरवरी, राज्य सभा में सोमवार को नागरिकता (संशोधन) कानून (सीएए) और राष्ट्रीय नागरिक रजिस्टर(एनआरसी) के मुद्दे पर विपक्ष के हंगामे के कारण न तो शून्य काल हो सका और न ही प्रश्न काल हो सका तथा सदन की कार्यवाही दो बार स्थगित करनी पड़ी। शून्य काल शुरू होते ही सदन की कार्यवाही इन्हीं मुद्दों पर हुए हंगामे के कारण स्थगित की गयी और इसके बाद जैसे ही प्रश्न काल शुरू हुआ तो विपक्षी दलों के सदस्यों ने फिर इन्हीं मुद्दों पर हंगामा शुरू कर दिया जिसके कारण कार्यवाही भोजनावकाश तक स्थगित कर दी गयी। सदन की कार्यवाही आज शुरू होते ही सभापति एम वेंकैया नायडू ने इस मुद्दे पर विपक्ष के स्थगन प्रस्ताव को ठुकरा दिया। इससे विपक्षी सदस्य भड़क उठे और हंगामा करने लगे। विधायी दस्तावेज सदन के पटल पर रखे जाने के बाद श्री नायडू ने कहा कि उन्हें विधायी कामकाज रोककर सीएए और एनआरसी के मुद्दों पर नियम 267 के तहत चर्चा कराने के नोटिस मिले हैं। ये नाेटिस सर्वश्री गुलाम नबी आजाद, आनंद शर्मा, सतीश चंद्र मिश्रा, डेरेक ओ ब्रायन और के के रागेश आदि नेताओं ने दिये हैं। इसके अलावा श्री सुब्रमण्यम स्वामी और आर के सिन्हा ने भी इन्ही मुद्दों पर ध्यानाकर्षण प्रस्ताव का नोटिस दिया है। श्री नायडू ने कहा कि उन्होंने सभी नोटिसों का संज्ञान लेने के बाद इन्हें अस्वीकार करने का निर्णय लिया है। इन मुद्दों पर अलग से चर्चा कराने की जरूरत नहीं है क्योंकि सदस्य राष्ट्रपति के अभिभाषण पर धन्यवाद प्रस्ताव में चर्चा के दौरान अपनी पार्टी की विचारधारा और अपनी बात इन मुद्दों पर रख सकते हैं। अभिभाषण में इन मुद्दों का उल्लेख है और सदस्य उस समय अपनी चिंता भी व्यकत कर सकते हैं। श्री मिश्रा ने इस पर आपत्ति जताते हुए कुछ कहना चाहा। इसी बीच श्री ब्रायन और कांग्रेस के कुछ नेता भी अपनी जगहों पर खड़े हो गये। श्री नायडू ने कहा कि उन्होंने इस मुद्दे पर व्यवस्था दे दी है और कार्य मंत्रणा समिति की बैठक में भी बात हुई थी कि धन्यवाद प्रस्ताव में सदस्य अपनी बात रख सकते हैं। विपक्षी सदस्यों के अपनी जगहों पर खड़े होते ही सभापति ने सदन की कार्यवाही 12 बजे तक स्थगित कर दी। सदन की कार्यवाही 12 शुरू होते ही इसी मुद्दे पर फिर हुए हंगामे के कारण उप सभापति हरिवंश ने कार्यवाही दो बजे तक स्थगित कर दी।  

कोई टिप्पणी नहीं:

Loading...