भारत निष्पक्ष तरीके से स्थिति की समीक्षा करे : चीन - Live Aaryaavart

Breaking

प्रबिसि नगर कीजै सब काजा I ह्रदय राखि कौसलपुर राजा II, हरिजन जानि प्रीति अति गाढ़ी। सजल नयन पुलकावलि बाढ़ी॥, मंगल भवन अमंगल हारी I द्रवहु सुदसरथ अजिर बिहारी II, हरि अनंत हरि कथा अनंता I कहहि सुनहि बहुबिधि सब संता II, दीन दयाल बिरिदु संभारी । हरहु नाथ मम संकट भारी।I, माता पिता की सेवा करें....बुजुर्गों का ख्याल रखें...अपनी प्रतिभा और आचरण से देश का नाम रौशन करें...

सोमवार, 24 फ़रवरी 2020

भारत निष्पक्ष तरीके से स्थिति की समीक्षा करे : चीन

hope-india-will-review-situation-in-objective-and-rational-manner-china
नयी दिल्ली 23 फरवरी, चीन ने घातक महामारी का रूप ले चुके कोरोना वायरस संकट के बीच रविवार को उम्मीद जताई कि भारत देश में कोरोनो वायरस से उत्पन्न स्थिति की समीक्षा ‘निष्पक्ष और तर्कसंगत’ तरीके से करेगा और दोनों देशों के बीच व्यापार तथा लोगों के आवागमन को फिर से शुरू करेगा। चीनी दूतावास के प्रवक्ता जी रोंग की यह प्रतिक्रिया चीनी चैरिटी संगठनों और कुछ चिकित्सा संस्थानों की शिकायत के बाद आयी है कि भारत ने कोरोनो वायरस महामारी के बाद चीन को चिकित्सा उत्पादों के निर्यात को प्रतिबंधित कर दिया है। श्री रोंग ने कहा कि विश्व स्वास्थ्य संगठन (डब्ल्यूएचओ) ने कोरोना वायरस के प्रकोप के बाद चीन पर किसी भी यात्रा और व्यापार प्रतिबंधों का बार-बार विरोध किया है और सभी पक्षों को वैश्विक निकाय (डब्ल्यूएचओ) की सिफारिशों का पालन करना चाहिए। श्री रोंग ने भारतीय प्रवक्ता के बयान पर प्रतिक्रिया व्यक्त करते हुए कहा,“उम्मीद की जाती है कि भारतीय पक्ष एक निष्पक्ष, तर्कसंगत और शांत तरीके से महामारी की स्थिति की समीक्षा करेगा। साथ ही सहयोगात्मक और रचनात्मक तरीके से चीन की बहु-आवश्यक वस्तुओं को संभालेगा और दोनों देशों के बीच सामान्य ढंग से लोगों का आदान-प्रदान और व्यापार को जल्द से जल्द फिर से शुरू करेगा।” गौरतलब है कि चीन में खतरनाक कोरोना वायरस के प्रकोप से अबतक करीब 2442 लोगों की मौत हो गयी है और कुल 76,936 लोग इस वायरस की चपेट में आ चुके है।गत सप्ताह चीन के राजदूत सुन वीडोंग ने व्यापार एवं लोगों के आवागमन पर लगायी गयी पाबंदियों की समीक्षा करने की अपील की थी। इससे पहले शनिवार की सुबह भारत ने इस बात पर रोष जताया था कि वुहान में कोरोना विषाणु की महामारी से निपटने के लिए चिकित्सा एवं राहत सामग्री वाले विमान को दो दिन के इंतजार के बाद भी चीन सरकार की ओर से वहां आने की अनुमति नहीं मिली है। सूत्रों ने कहा था कि राहत सामग्री वाले विमान से वुहान में फंसे भारतीयों को वापस लाना है और चीन सरकार जानबूझ कर विमान आने की अनुमति नहीं दे रही है। उन्होंने कहा कि चीन सरकार ने कहा था कि विमान को अविलंब अनुमति दी जायेगी। गुरुवार को विमान रवाना होना था लेकिन दो दिन के इंतजार के बाद भी अनुमति नहीं मिली है।  

कोई टिप्पणी नहीं:

Loading...