काेरोना वायरस को लेकर सतर्क है सरकार : हर्षवर्धन - Live Aaryaavart

Breaking

प्रबिसि नगर कीजै सब काजा I ह्रदय राखि कौसलपुर राजा II, हरिजन जानि प्रीति अति गाढ़ी। सजल नयन पुलकावलि बाढ़ी॥, मंगल भवन अमंगल हारी I द्रवहु सुदसरथ अजिर बिहारी II, हरि अनंत हरि कथा अनंता I कहहि सुनहि बहुबिधि सब संता II, दीन दयाल बिरिदु संभारी । हरहु नाथ मम संकट भारी।I, माता पिता की सेवा करें....बुजुर्गों का ख्याल रखें...अपनी प्रतिभा और आचरण से देश का नाम रौशन करें...

सोमवार, 10 फ़रवरी 2020

काेरोना वायरस को लेकर सतर्क है सरकार : हर्षवर्धन

india-prepare-for-coronavirus-harshwardhan
नयी दिल्ली,10 फरवरी, स्वास्थ्य और परिवार कल्याण मंत्री डा़ हर्षवर्धन ने कहा है कि केरल में कोरोना वायरस के तीन मामलों की कड़ी निगरानी की जा रही है और इन तीनों लोगों की हालत स्थिर है तथा सरकार इस बीमारी को फैलने से रोकने के लिए हरसंभव कदम उठा रही है। डा़ हर्षवर्धन ने सोमवार को इस संबंध में लोकसभा में दिये एक वक्तव्य में कहा कि भारत में इस वायरस का प्रवेश रोकने के लिए सरकार सीमा क्षेत्रों में काफी सावधानी बरत रही है और खासकर नेपाल सीमा में स्वास्थ्य चौकियां स्थापित की गई है तथा भूटान की मदद की जा रही है। उन्होंने बताया कि इस बीमारी से चीन में नौ फरवरी तक 37198 लोग संक्रमित हुए हैं और 811 लोगों की मौत हाे चुकी है। यह वायरस अब तक 27 देशों में फैल चुका है और इसके 354 मामलों की पुष्टि भी हो चुकी है। विश्व स्वास्थ्य संगठन ने पहले ही इसे वैश्विक आपदा घोषित कर दिया है। उन्होंने बताया कि चीन में इस बीमारी का पता 31 दिसंबर 2019 को लगा था। यह रोग वहां के वुहान प्रांत में फैला था और वुहान से 654 नागरिकों को वापस लाया जा चुका है। चीन से आने वाले हर भारतीय नागरिक को कड़ी जांच करने के लिए निगरानी मेें रखा जा रहा है और इनकी मनेसर तथा भारत तिब्बत सीमा पुलिस (आईटीबीपी) के छावला केन्द्रों में रखा गया है। यह बीमारी आपसी संपर्क से फैलती है सरकार इस बीमारी की गंभीरता को देखते हुए इसकी दैनिक समीक्षा कर रही है और राज्य सरकारों के साथ वीडियो कांफ्रेंसिंग के साथ जानकारी साझा की जा रही है। स्वास्थ्य मंत्री ने बताया कि चीन जाने वाले भारतीय यात्रियों के लिए विशेष यात्रा परामर्श जारी कर दिया गया है और चीनी नागरिकों का भारत आने वाला वीजा अमान्य घोषित कर दिया गया है। चीन का वुहान और हुबेई प्रांत इससे अधिक प्रभावित हैं। श्री हर्षवर्धन ने बताया कि इस बीमारी से पीड़ित मरीजों को एक हफ्ते में वेंटीलेटर पर रखना पड़ता और इसकी मृत्यु दर 2़ 1 प्रतिशत है। 

कोई टिप्पणी नहीं:

Loading...