झाबुआ (मध्यप्रदेश) की खबर 24 फ़रवरी - Live Aaryaavart

Breaking

प्रबिसि नगर कीजै सब काजा I ह्रदय राखि कौसलपुर राजा II, हरिजन जानि प्रीति अति गाढ़ी। सजल नयन पुलकावलि बाढ़ी॥, मंगल भवन अमंगल हारी I द्रवहु सुदसरथ अजिर बिहारी II, हरि अनंत हरि कथा अनंता I कहहि सुनहि बहुबिधि सब संता II, दीन दयाल बिरिदु संभारी । हरहु नाथ मम संकट भारी।I, माता पिता की सेवा करें....बुजुर्गों का ख्याल रखें...अपनी प्रतिभा और आचरण से देश का नाम रौशन करें...

सोमवार, 24 फ़रवरी 2020

झाबुआ (मध्यप्रदेश) की खबर 24 फ़रवरी

कल षिरडी साई बाबा मंदिर का स्थापना दिवस धुमधाम से मनाया जावेगा धर्मप्राण जनता से सहभागी होने की अपील की

jhabua news
झाबुआ । श्री शिरडी साई मंदिर का स्थापना दिवस पूरी भक्ति भावना के साथ साई भक्तों द्वारा कल 25 फरवरी को मनाया जावेगा । साई मंदिर के पूजारी दिनेश गोस्वामी ने जानकारी देते हुए बताया कि श्री शिरडी साई मंदिर के पाटोत्सव के अवसर पर  मंगलवार 25 फरवरी को प्रातः 6 बजे साईनाथ की कांकड आरती की जावेगी । प्रातः 6-30 बजे बाबा का मंत्रोच्चार के साथ अभिषेक किया जावेगा तथा प्रातः 7-30 बजे बाबा की मंगला आरती की जावेगी । रात्री में 8 बजे श्री साईनाथ भगवान की महामंगल आरती की जावेगी ।तथा इस अवसर पर छप्पनभोग अर्पण किया जावेगा । मंदिर के पूजारी  दिनेश गोस्वामी ने बताया कि शुद्ध देसी घी की नुकती की प्रसादी प्रत्येक श्रद्धालु को सम्मान पूर्वक वितरण की जावेगी । उन्होने नगर की धर्मप्राण जनता से अनुरोध किया है कि श्री साई मंदिर के स्थापना दिवस के अवसर पर सभी कार्यक्रमों में पधारकर धर्मलाभ लेवें ।

चिकित्सको ने सुषेण चिकित्सक प्रात्सोहन योजना लागू करने के लिये स्वास्थ्य मंत्री को सौपा ज्ञापन

jhabua news
झाबुआ। इंडियन मेडिकल एसोसिएशन के डाॅक्टरो ने शनिवार को सर्किं हाउस में प्रदेश के आदिवासी विकासखंडो में लोक स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण विभाग के अंतर्गत संचालित स्वास्थ्य संस्थानो में डाॅक्टरो की उपलब्धता सुनिश्चित करने के लिये सुयोग्य सुष्ण चिकित्सक प्रात्सोहन योजना लागू की गई है। सम्पूर्ण झाबुआ जिला आदिवासी बहूल्य अतः इस योजना में झाबुआ जिले के जिला चिकित्सालय झाबुआ ,सिविल हास्पीटल पेटलावद, एवं थांदला को सम्मिलित नही किया गया है। जिससे यहा के कार्यरत डाॅक्टरो में असंतोष व्याप्त है। जिले चिकित्सालय झाबुआ में प्रथम श्रेणी के डाॅक्टरो की स्वीकृत पद 32 पदो में से 28 पद रिक्त है। सिविल अस्पताल पेटलावद में प्रथम श्रेणी के डाॅक्टरो के स्वीकृत पद 14 पदो में 11 पद रिक्त है। इसी प्रकार थांदला अस्पताल में प्रथम श्रेणी के डाॅक्टरो में 14 पद स्वीकृत होने के बाद भी 14 पद रिक्त है। स्पष्ट है यहा भी डाॅक्टर आना नही चाहते। जिला चिकित्सालय झाबुआ रैफरल सेंन्टर है अतः यहा पर सामुदायिक स्वास्थ्य केन्द्र एवं डिलेवरी पाईंट से रैफर किये गये है। रैफर किये गये मरीज ईलाज हेतु यहा आते है। यदि इन स्थानो पर भी सुप्रेण चिकित्सक प्रोत्साहन योजना लागू की जाती है तो चिकित्सको के रिक्त पदो की पूर्ति तो होगी ही साथ ही वर्तमान में इन संस्थाओ में कार्यरत चिकित्सको का मनोबल भी बढेगा। अतः मंत्रिजी से चिकित्सको ने अनुरोध किया है कि जिला चिकित्सालय झाबुआ , सिविल चिकित्सालय पेटलावद एवं थांदला में भी स्रुप्रेण चिकित्सक योजना लागू करवाने का कष्ट करे। स्वास्थ्य मंत्री श्री सिलावट ने पूर्ण रूप से आश्वस्त किया है कि सुषेन योजना का लाभ झाबुआ के अलावा थांदाल, पेटलावद, आलिराजपुर, ओर जोबट अस्पतालो को भी दिया जायेगा। इस अवसर पर बीएस बघेल, डाॅ व्ही एस निनामा, डाॅ ऐ के दुबे, डाॅ. एस चैहान, डाॅ. आई एस चैहान, डाॅ . एस चैपडा आदि उपस्थित थे। 

नव निर्मित वरदान हास्पीटल का प्रदेष के स्वास्थ्य मंत्री एवं चिकित्सा षिक्षा मंत्री ने किया लोकार्पण
  • आदिवासी अंचल में आरोग्य का केन्द्र बनेगा वरदान हास्पीटल- स्वास्थ्य मंत्री तुलसी सिलावट
  • हजारों की उपस्थिति में हुआ अस्पताल का शुभारंभ

jhabua news
झाबुआ । नगर को वरदान चिकित्सालय के रूप में एक बड़ी सौगात मिली है शनिवार को राम कृष्ण नगर में पूर्वान्ह 11 बजे के करीब वरदान हॉस्पिटल का शुभारंभ प्रदेश के लोक स्वास्थ्य मंत्री तुलसी सिलावट के मुख्य आतिथ्य एवं चिकित्सा शिक्षा एवं आयुष मंत्री सुश्री विजयालक्ष्मी साधौ के अध्यक्षता में तथा प्रभारी मंत्री सुरेंद्र सिंह बघेल, किसान कल्याण कृषि विकास उद्यानिकी मंत्री सचिन यादव तथा अपेक्स बैंक के चेयरमैन अशोकसिंह के विशेष अथित्य में विधिवत रूप से शुभारंभ हुआ। सर्वप्रथम अतिथियों का ढोल धमाकों के साथ वरदान चिकित्सालय लाया गया वहां पर उन्होंने फीता काटकर एवं राधा कृष्ण की मूर्ति पर माल्यार्पण कर दीप प्रज्वलित कर मंत्रोच्चार के बीच विधिवत रूप से हॉस्पिटल का शुभारंभ किया। ममंत्रीगणों ने नव निर्मित सर्व सुविधायुक्त वरदान हॉस्पिटल का अवलोकन किया। इसके पश्चात सभा का आयोजन किया गया इस सभा में सभी अतिथियों का भूरिया परिवार द्वारा आत्मीय स्वागत किया गया। स्वागत भाषण देते हुए डॉ विक्रांत भूरिया ने कहा कि मेरा सपना था कि झाबुआ के में एक अच्छे हॉस्पिटल का निर्माण हो जिसका उपयोग यहां के ग्रामीण एवं शहरी लोगों का समुचित इलाज किया जा सके । डाक्टर भूरिया ने आगे कहा कि कई वर्षों से लोगों की मांग थी कि झाबुआ में एक बड़ा चिकित्सालय सर्व सुविधा युक्त बने जिससे कि यहां के लोगों को इलाज के लिए अन्यत्र नहींें जाना पड़े । मेरा और मेरे परिवार की भी यह सपना रहा था कि झाबुआ के लोगों की हम लोग सेवा कर सके तथा गंभीर रूप से मरीजों का यहां पर तत्काल इलाज प्रदान कर उन्हें आरोग्यमय  करने का प्रयास करें । डा. विक्रांत भूरिया ने कहां की वरदान हॉस्पिटल में हम सभी को अच्छी से अच्छी सुविधा प्रदान करेंगे साथ ही हर प्रकार के स्पेशलिस्ट के सुविधा प्राप्त हो ऐसी व्यवस्था करेंगे । डा.शीना भूरिया ने सभी से आशीर्वाद मांगते हुए कहा कि आप लोगों के आशीर्वाद से ही इस अस्पताल में हम लोग आपकी सेवा कर सके ऐसा आशीर्वाद दीजिए हम आपकी  आशाओं पर खरा उतारने का प्रयास करेंगे।  किसान कल्याण मंत्री सचिन यादव ने इस अवसर पर अपनी ओर से बधाई देते हुए कहा कि वरदान चिकित्सालय  इस आदिवासी अंचल क्षेत्र के लिए विशेष सुविधा का केंद्र बन गया है अब यहां गंभीर से गंभीर मरीज अपना इलाज करा सकेंगे । अनुभवी डॉक्टरों की सुविधा प्राप्त कर सकेंगे । इस अवसर पर वरिष्ठ कांग्रेस नेता एवं पूर्व स्वास्थ्य मंत्री महेश जोशी ने अपना आशीर्वाद प्रदान करते हुए कहा कि डॉ विक्रांत भूरिया का जो प्रयास किया है वह पूरी तरह सफल होगा इस हॉस्पिटल की सफलता के लिए हम से जो भी बनेगा हम करेंगे । श्री जोशी ने कहा वरदान हास्पीटल आदिवासी अंचल के गरीबों, बेसहारों के लिये सेवा का साधन बने तथा कोइ्र भी गरीब मरीज निराश होकर नही जाये इस औ र डा. विक्रांत एवं डा. शीना भूरिया को मानवीय संवेदनाओं के साथ काम करना होगा । उन्होने  आशीर्वाद देते हुए कहा कि  अस्पताल जिले का ही नही वरन आसपास के जिलों में भी अपनी साख बनायें तथा अभी तक गुजरात, इन्दौर, बडौदा आदि स्थानों पर जो मरीज इलाज के लिये जाते है, वे यहांकी मानक चिकित्सा व्यवस्था को देखते हुए झाबुआ आकर अपना उपचार करावें । पूर्वकुलपति भरत छपरवाल ने भी इस अवसर पर वरदान हास्पीटल की सौगात को  इस आदिवासी अंचल के लिये सौगात बताते हुए डा. विक्रांत भूरिया की प्रसंशा करते हुए कहा कि आरोग्य सेवा के क्षेत्र में यदि वे चाहते तो महानगरों मे जाकर हास्पीटल खोल सकते थे किन्तु इस अंचल एवं जन्म भूमि के लोगोंको सेवा सुविधायें देने की ललक के कारण उन्होने झाबुआ को चयन किया तथा वसुदैव कुटुंबम की भावना को साकार किया है। प्रभारी मंत्री एवं नर्मदा घाटी एवं पर्यटन विकास मंत्री सुरेंद्र सिंह बघेल ने कहा कि कांतिलाल भूरिया ने गा्रमीण अंचल से निकल कर तमाम झंझावातों से लोहा लेते हुए राजनीति में देशव्यापी स्थान बनाया है । उसी तरह डा. विक्रांत भूरिया ने भी सर्जरी के क्षेत्र में भी अपनी कडी मेहनत के चलते गोल्ड मेडल हांसील करने के बाद भी महानगरों की ओर रूख करने की बजाय आदिवासी अंचल को ही चुना । चिकित्सा शिक्षा एवं आयुष मंत्री डा. विजयालक्ष्मी साधौ ने अध्यक्षीयसंाबेधन में  अपना आशीर्व्रचन देते हुए कहा किडा. विक्रांत  एवं डा. शीना भूरिया में नैसर्गिक प्रतिभा है।साथ ही उन्हे अपने परिवार से लोगों की सेवा करने का जज्बा विरासत मे मिला है।उन्होने अपने आप को झाबुआ के इस आदिवासी अंचल में जो सेवा करने का सपना था उसे पूरा किया है ।सुश्री साधौ ने कहा कि पिछले 15 सालों में तत्कालीन भाजपा सरकारके कार्यपाल में स्वास्थ्य सेवायें पर विपरित असर पडा है। हमने मध्यप्रदेश के मुख्यमंत्री कमलनाथ के नेतृत्व में एक साल के अन्दर ही बिगडी हुई व्यवस्था को सुधारनेका काम किया है । पहले  मप्र में केवल 5 मेडिकल कालेज थे अब उनकी संख्या 13 से अधिक हो गई है । हमारी पूरी मंशा है कि प्रदेश में अधिक से अधिक मेडिकल कालेज खाले जावे ताकि प्रदेश में डाक्टरों की कमी को पूरा किया जासके । उन्होने डा. विक्रांत भूरिया को पेरा मेडिकल प्रशिक्षण केन्द्र खोलने का भी आव्हान किया । जिससे कि  नर्सेस की आपूर्ति के साथ ही लोगों को राजगार भी प्राप्त हो सकें । विधायक कांतिलाल भूरिया ने भी इस अवसर पर संबोधित करते हुए सभी के सहयोगके लिये धन्यवाद ज्ञापित करते हुए वरदान हास्पीटल को सतत सहयोग देने का आग्रह किया । मुख्य अतिथि प्रदेश के स्वास्थ्य मंत्री तुलसी सिलावट ने कहा कि  वरदान हास्पीटल झाबुआ के लिये सौगात है। इसमे अत्याध्रुनिक उपकरण लगेहोने से इसमें इलाज करने में सुविधा प्राप्त होगी । हमारा लक्ष्य है कि मध्यप्रदेशके लोगों को स्वास्थ्य की बेहतर सुविधा प्राप्त हा इसलिये हम शासकीय स्तर पर भी हास्पीटलों में  सुविधाये प्रदोन करने का प्रयास का रहे है । हमने पीएससी के माध्यम से 600 से अधिक डाक्टरोंकी नियुक्तियां गा्रमीण क्षेत्रों में की है । तथा झाबुआ जिले में भी चिकित्सकों की कमी है वहां पर पूरा करने का पूरा प्रयास करेगें । तुलसी सिलावट ने आश्वस्त किया कि शुद्ध के लिये युद्ध अभियान के तहत पूरे  प्रदेश में अभियान चलाया जारहा है जिसके सकारात्मक परिणाम मिले हैतथा मिलावट खोरो के विरुद्ध रासूका मे कार्रवाही की गई है ।  उन्होने कहा कि चिकित्सा शिक्षा मंत्री को भी अनुरोध किया गया है कि मेडिकल कालेज से निकलने वाले डाक्टरों को एक वर्ष तक गा्रमीण अंचलों मेंकाम करने का अनुबंध कराया जावे जिसे उन्होने लागू करवाया है। कार्यक्रम का  संचालन मुंबई से आई एक्ट्रेस एवं एंकर हिमाली सेजपाल तथा इतिहासविद डा. केके त्रिवेदी ने किया । अन्त मे आभार प्रदर्शन सुरेशचन्द्र जैन पप्पु भैया ने किया ।  इस अवसर पर मुख्यमंत्री के ओएसडी प्रवीण कक्कड,पदमश्री महेशचन्द्र शर्मा, विधायकगण सचिन बिरला, मनोज चावला, कलावती भूरिया, वालसिंह, मुकेश पटेल, पाचुलाल मेडा, प्रताप ग्रेवाल, हर्ष विजय गेहलोद, प्रभाबेन, गुजरात व राजस्थान के एमएलए, महेश पटेल, निर्मल मेहता,प्रकाश रांका, मनोहर भंडारी,राजेश भट्ट,गुरू अरोडा,नगरसिंह भूरिया, सूरसिंह भूरिया, संदीप भूरिया,आस्था भूरिया, श्रीमती कल्पना भूरिया, वसुंधरा पंवार, अनिल पंवार,शांतिलाल पडियार, अरवीन्द जोशी, हर्ष भट्ट, नामदेव आचार्य,साबिर फिटवेल, कलेक्टर प्रबल सिपाहा, एसपी विनित जैन, एसडीएम अभय खराडी,मन्नुबेन डोडियार नपा अध्यक्ष, विनोद मिश्रा, प्रभू राठौर, सहित रतलाम झाबुआ,आलीराजपुर एवं आसपास के जिलो के जनप्रतिनिधिगण, समाजसेवी, गणमान्य नागरिक एवं महिलायेंु आदि बडी संख्या में उपस्थित थे  ।

शबरी माता जन्मोंत्सव आज धुमधाम से मनायेगें, नगर मे निकाली जावेगी भव्य शोभायात्रा

jhabua news
झाबुआ । शबरी माता जन्म उत्सव समितिआज 24 फरवरी को माता शबरी  जयंती के पावन पर्व पर झाबुआ नगर में बड़े धूमधाम से शोभायात्रा निकाली जाएगी जिसमें सबसे आगे माता शबरी अपने बैर के साथ विराजमान रथ उसके पीछे जन जाति वेशभूषा में जोड़े उसके पीछे नगर की माता बहने कलश उठाये हुवे ओर अंत मे नगर के सभी गणमान्य चलेंगे। शोभायात्रा झाबुआ बसस्टेंड से प्रातः 10 बजकर 30 मिनट से प्रारंभ होकर मुख्य मार्ग होते हुवे राजवाड़े राम मंदिर में माता शबरी व माता बहने अपने साथ बैर लेकर मंदिर में भगवान श्रीराम को भोग स्वरूप अर्पण कर समापन करेंगे। समितिने  झाबुआ नगर की माता बहने व गणमान्यो से निवेदन किया है कि अधिक से अधिक संख्या में पधारकर शोभायात्रा को भव्य बनाये ।

केमिस्ट एसोसिएशन ने स्वास्थ्य मंत्री को सौपा ज्ञापन, अवैध चिकित्सका व्यवसायियों पर स्वास्थ्य मंत्री ने कार्रवाही के दिये निर्देश

jhabua news
झाबुआ ।  जिले में बिना डिग्री की आड़ में उनके डॉक्टरों द्वारा अवैध अमानक ऐलोपैथिक दवाइयों से इलाज और उनका भंडारण का कार्य उनके क्लिनिक ओर अवैध गोडाउन पर किया जा रहा है। मानक एवं घटिया स्तर की दवाईयों का ग्रामीण अंचल के भोलेभाले मरीजों पर भारी मात्रा में उपयोग किया जा रहा है जिससे उनके स्वास्थ्य पर बुरा असर हो रहा है। शासन कि योजना श्शुद्ध के लिए युद्ध श् की कार्यवाही प्रदेश में काफी सराहनीय है सम्पूर्ण झाबुआ जिले के स्वास्थ्य के गिरते हुए ग्राफ को फर्जी चिकित्सकों को ऐलोपैथिक दवाइयों का अवैध भंडारण एवं उनसे इलाज करने से रोकने हेतु जिला केमिस्ट ऐसोशियन द्वारा एक ज्ञापन मध्य् प्रदेश शासन के स्वास्थ मंत्री तुलसीराम सिलावट एवं प्रभारी मंत्री हनीसिग बघेल को सौपते हुए सख्त कार्यवाही की मांग रखी।’   ’ज्ञापन  ऐसोशियन के जिला अध्यक्ष मनोज बाबेल,सचिव राजेश पोरवाल एवं जिला  ऐसोशियन के सदस्य लोकेन्द्र बाबेल, कमलेश तलेरा, हरीश अग्रवाल, दीपक डूंगरवाल, कपिल गादिया, महावीर जैन,  पंकज ललवानी, विशाल जोशी, प्रह्लाद चैहान एवं आशीष जोशी आदि ने सामूहिक रूप से सौपा। स्वास्थ मंत्री ने केमिस्ट ऐसोशियन को ज्ञापन के सम्बंध तत्काल कार्यवाही करने का आदेश प्रशासन को दिये।’

29 फरवरी को परमार्थ की परंपरा के तहत हलमा का षिवगंगा करेगी आयोजन निकलेगी गैती सम्मान यात्रा
  • पूरे समाज को इस कार्य में सामूहिक सहयोग देना नैतिक दायित्व बनता है- पद्मश्री महेष शर्मा
  • दो दिवसीय हलमा के दौरान हाथीपावा पहाडी पर बनायेगे 40 हजार कंटूर-ट्रेंचेस
jhabua news
झाबुआ । परमार्थ की परंपरा  के तहत प्यासी धरती मां के लिये परम्परागत रूप  से हलमा 2020 को लेकर रविवार को शिवगंगा प्रमुख पद्मश्री महेश शर्मा द्वारा पैलेस गार्डन में प्रेस वार्ता आयोजित करके आगामी 29 फरवरी एवं 1 मार्च को होने वाले हलमा के बारे में विस्तार से जानकारी दी तथा जनसहभागिता के बारे में अपील की । पद्मश्री महेश शर्मा ने कहा कि  धरती का तापमान 1 डिग्री कम करने तथा विश्वव्यापी  ग्लोबल वार्मिग को देखते हुए विश्व के सभी देश पर्यावरण को संतुलित करने के लियें करोडो की राशि व्यय कर रहे है।  उन्होने बताया कि शिवगंगा द्वारा आयोजित होने वाले हलमा के प्रभावी कार्यक्रम से पर्यावरण संरक्षण में हम सभी लाभार्थी है । हम सबको कर्तव्य भी है कि इस ग्लोबल वार्मिग को नियंत्रित करने में सभी सहयोग करें । श्री शर्मा ने आगे कहा कि झाबुआ जिले के जनजाती परंम्परा के तहत यहां के गा्रमीण जन एवं सभी सहभागी गेती, फावडा, आदि के साथ कण्टूर निर्माण के अलावा वृक्ष लगाने, तालाब बनाने आदि के पर्यावरण संरक्षण के कार्य करते है । पूरे समाज को इस कार्य में सामूहिक सहयोग देना नैतिक दायित्व बनता है । श्री शर्मा ने कहा कि 29 फरवरी से दशहरा मेैदान पर गांव गांव से हलमा करने वाले वनवासी माता बहिने एकत्रित होगें करीब 20 हजार से अधिक की संख्या में लोग हलवा में श्रमदान के लिये एकत्रित होगें  29 फरवरी को सायंकाल 4 बजे नगर में प्रवेश करने से लेकर पुनः कार्यक्रम स्थल आने तक गैती सम्मान यात्रा निकाली जावेगी । गैती फावडा, तगारी पर्यावरण सरंक्षण और संवर्धन के मुख्य आधार है इसलिये यह गैती सम्मान यात्रा ठीक वेसे ही निकलेगी जिस प्रकार सैनिक कांधे पर हथियार लेकर गर्व से चलता है, और इस गैती सम्मान यात्रा में किसान भाई नगर का भ्रमण करेगें । उन्होने कहा कि ग्लरोबल वार्मिग आज हम सभी का चिंता का सबब बन चुका है ।सामथ्र्य की तुलना में यह समस्या बडी नही है । विश्व के 7 हजार करोड व्यक्ति जानते हुए भी सामथ्र्य होने पर भी लगा नही पारहे है। इससे देश में चिंता का विषय है किन्तु झाबुआ के वनवासी किसान बरसों पूरानी हलमा परम्परा इस क्षेत्र में कारगार सिद्ध होरही है तथा इस परम्परा का लोक व्यापी प्रसार होना चाहिये । श्री शर्मा ने हाथीपावा की पहाडी पर प्रतिकात्मक रूप  सें होने वाले हलमा कार्यक्रम मे सभी लोगों को पर्यावरण सरक्षण, संवर्धन के लिये तथा जल रोकनेके इस कार्यक्रम में शारीरिक श्रम के अलावा वृक्षा रोपण करने के लिये भी आव्हान किया तथा 29 फरवरी को महत्वपूर्ण आयोजन में सहभागी होने तथा गैती सम्मान यात्रा के दौरान  नगरवासियों की ओर से स्वागतअभिनंदन करके इनके मनोबल को बढाने की बात भी भी कहीं । इस  अवसर पर शिवगंगा  के कार्यकर्ता राजाराम कटारा ने बताया कि आयोजन के लिये पिछले एक माह से 2 हजार से अधिक शिवगंगा कार्यकर्ता गांव गांव जाकर परिवारों को हलमा का निमंत्रण दे रहे है । अब तक 500 से अधिक गा्रमों में लगभग 70 हजार परिवारों निंमंत्रण दिया जा चुका है, अपेक्षा है कि करीबन 20हजारगा्रमवासी इस हलमा में भाग लेगें ।  उन्होने बताया कि 29 फरवरी को शुरू हो रहा यह हलमा हाथीपावा के बाद गांव गांव में भी होता है जिसमे लोग तालाबों का निर्माण करते है, ज्ञातव्य है कि पिछले 10 सालों से झाबुआ में चल रहे ’ जल आन्दोलन’ स ेअब से 65 बडे तालाब  बनाये जाचुके है जिनकी कुल क्षमता 400 करोड लीटर की है । इसके अलावा हलमा के माध्यम से 51 हजार पौधे भी लगाये जाचुके है । श्री कटारा ने बताया कि परमार्थ को लेकर वनांचन में हलमा एक सौगात बन चुका है और इसका अधिक से अधिक पुनर्जागरण हो तथा जल,जंगल,जमीन की जानकारी,उनके सरंक्षण तथा पर्यावरणसरंक्षण  के लिये जनभागीदारी बहुत ही जरूरी है । उन्होने बताया कि 2 हजार प्रशिखत कार्यकर्ताओं द्वारा 500 गांवों में 70 हजार परिवारों में घरघर जाकर जल संवर्धनके लिये प्रेरित करेगें ।इन गांवों में 20 हजार से ज्यादागा्रमवासी तथा देशभर के लोग हलमा में शामिल होकर हाथीपावा पहाडी  पर आयोजित हो रहे श्रमदान में सहभागी होने की अपील की । हाथीपावा पहाडी परं 40 हजार कंटूर ट्रेंचेस का हलमा के माध्यम से निर्माण किया जावेगा ।उन्होने कहा कि गा्रम गा्रम सेवनवासी भाई 29 फरवरी को ’’जाग जो म्हारा भाईयों कणी निद्रा में सोया हो’’ इस आयोजन में 150 से अधिक संतगणों के अलावा देश के बडे बडे शिक्षा संस्थानों,  से लोगों की सहभागीता होगी ।  आईआईटी  रूडकी से स्नातक कर पूर्णकालिक कार्यकर्ता शिवगंगा के साथ काम कर रहेनितिन धाकड ने बताया कि70 परिवारों तक पहूंचने की प्रग्रिया औए एक साथ 20 हजार लोगों के लिये खाने पीने,रहने की व्यवसा अपने आप में अध्ययन का विषय हैउन्होने बताया किइन बातों को सीखने समझाने के लिये आईआईटी दिल्ली, आईआईटी कानपुर, रूडकी और एनआईडी गांधीनगर सहित देशभर के विभिन्न संस्थानों से 150 से अधिक छात्र हलमा के लिये झाबुआ आ रहे है । इसके अलावा 100 के लगभग अलग अलग क्षेत्रों के पेशवर अनुभवी जन भी हलमा में आरहे है । शिवगंगा के वरिष्ठ  कार्यकर्ता रामसिंह मेडा नेकहा कि हलमा मानव मात्र के लिये कल्याणकारी एवं हितकारी है । शहरों एवं गांवों के लोग एकसाथ मिल कर हलमा में काम करेगें तो इसका सकारात्मक सन्देश जायेगा । पूरे देश में झाबुआ के ’’ हलमा’’ की प्रसंशा एवं सराहना हो रही है ।29 फरवरी को गैती सम्मान यात्रा में नगर के नागरिकों से भी सहभागी होने का आव्हान करते हुएउन्होने कहा कि तालाब का निर्माण होने से मानव जाकि अलावा पशु पक्षी के लिये भी पानी का पं्रबध होता है । शिवगंगा ने जिन तालाबांे का निर्माण हलमा के माध्यम से कियाउसमें बारह मास पानी रहता है।कार्यक्रम का संचालन करते हुए  नीरजसिंह राठौर ने कहा कि वर्ष 2010 से शिवगंगा द्वारा हलमा का आयोजन किया जारहा है जिसके सकारात्मक परिणाम भी सामने आये है।उन्होने हलमा के तहत 29 फरवरी को निकलने वाली गैती सम्मान यात्रा का जिक्र करते हुए कहा कि नगर की परम्परा के अनुसार नगर के सभी समाजों, वर्गो के अलावा सभी सामाजिक एवं घार्मिक संस्थाओं की ओर से गेती यात्रा का पुष्पवर्षा करके हर जगह स्वागत एवं अभिनंदन किया जावेगा । उन्होने कहा कि शिवगंगा के इस अभिनव आयोजन में नगर की जनता 29 फरवरी एवं 1 मार्च को  इसका गौरवशाली तरिके से  अभिनंदन स्वागत करके मनोबल बढाने में अपनी भूमिका का निर्वाह करेगी । अन्त में आभार प्रदर्शन शिवगंगा के महेश शाह ने व्यक्त किया ।

कोई टिप्पणी नहीं:

Loading...