चाईबासा: नोवामुंडी टाटा स्टील के ठेकेदार और मजदूरों ने अपनी मांगों को लेकर काम किया ठप्प - Live Aaryaavart

Breaking

प्रबिसि नगर कीजै सब काजा I ह्रदय राखि कौसलपुर राजा II, हरिजन जानि प्रीति अति गाढ़ी। सजल नयन पुलकावलि बाढ़ी॥, मंगल भवन अमंगल हारी I द्रवहु सुदसरथ अजिर बिहारी II, हरि अनंत हरि कथा अनंता I कहहि सुनहि बहुबिधि सब संता II, दीन दयाल बिरिदु संभारी । हरहु नाथ मम संकट भारी।I, माता पिता की सेवा करें....बुजुर्गों का ख्याल रखें...अपनी प्रतिभा और आचरण से देश का नाम रौशन करें...

गुरुवार, 13 फ़रवरी 2020

चाईबासा: नोवामुंडी टाटा स्टील के ठेकेदार और मजदूरों ने अपनी मांगों को लेकर काम किया ठप्प

strike-tata-steel
चाईबासा (आर्यावर्त संवाददाता) पश्चिम सिंहभूम जिले के नोवामुंडी के टाटा स्टील कंपनी के अधीन संग्रामसाई कैंप में आवासीय कॉलोनी निर्माण काम चल रहा है. जिस पर स्थानीय ठेकेदारों ने कई महीने से पेमेंट भुगतान नहीं करने का आरोप लगाते हुए काम पूरी तरह से ठप्प कर दिया है. वहीं, ठेकेदारों का मजदूरों ने भी पूरा साथ दिया है. पश्चिम सिंहभूम जिले के नोवामुंडी के टाटा स्टील कंपनी के अधीन संग्रामसाई कैंप में आवासीय कॉलोनी निर्माण काम चल रहा है. वहीं, टाटा पावर प्रोजेक्ट लिमिटेड कंस्ट्रक्शन कंपनी के खिलाफ स्थानीय ठेकेदारों ने कई महीने से पेमेंट भुगतान नहीं करने का आरोप लगाते हुए काम पूरी तरह से ठप्प कर दिया है. ठेकेदारों और मजदूरों ने अपनी विभिन्न मांगों को लेकर करीब 3 बजे शाम से रात 7 बजे तक काम पूरी तरह से ठप्प कर दिया. इसके साथ ही टीपीएल कंस्ट्रक्शन कंपनी के खिलाफ जमकर विरोध प्रदर्शन भी किया गया. टाटा प्रोजेक्ट लिमिटेड कंस्ट्रक्शन के अधीन करीब 16 ठेकेदार आते हैं, जिसके अधीन 600 से अधिक मजदूर कार्यरत हैं. ठेकेदारों के आंदोलन का मजदूरों ने भी समर्थन करते हुए कंपनी पर वादा के अनुसार मजदूरों को ओभर टाइम से वंचित रखने, नाश्ता करने जाने से वंचित रखने का आरोप लगाया और अपने-अपने ठेकेदारों का जमकर समर्थन किया. शाम 7 बजे तक दोनों पक्षों में कंपनी के अधिकारियों ने समझौता करवाने का प्रयास करते रहे. जानकारी हो कि जब से टीपीएल कंस्ट्रक्शन कंपनी ने भवन निर्माण कार्य प्रारंभ किया है, तब से अब तक मजदूरों और ठेकेदारों ने विभिन्न मांगो को लेकर कई बार आंदोलन कर चुके हैं. फिलहाल आरसीएम सुधीर कुमार और एचआर हेड राकेश रंजन ने आपसी बातचीत के बाद मामले को सुलझा कर बंद काम को चालू करवाने की हर संभव प्रयास किया जा रहा है, लेकिन ठेकेदार और मजदूर अपने वेतन भुगतान और अन्य विभिन्न मांगों को लेकर अड़े हुए हैं और काम पूरी तरह से ठप्प कर दिया है.

कोई टिप्पणी नहीं: