पीएम और सीएम को किसानों को लेकर लिखेंगे पत्र अनंत सिंह - Live Aaryaavart

Breaking

प्रबिसि नगर कीजै सब काजा I ह्रदय राखि कौसलपुर राजा II, हरिजन जानि प्रीति अति गाढ़ी। सजल नयन पुलकावलि बाढ़ी॥, मंगल भवन अमंगल हारी I द्रवहु सुदसरथ अजिर बिहारी II, हरि अनंत हरि कथा अनंता I कहहि सुनहि बहुबिधि सब संता II, दीन दयाल बिरिदु संभारी । हरहु नाथ मम संकट भारी।I, माता पिता की सेवा करें....बुजुर्गों का ख्याल रखें...अपनी प्रतिभा और आचरण से देश का नाम रौशन करें...

रविवार, 15 मार्च 2020

पीएम और सीएम को किसानों को लेकर लिखेंगे पत्र अनंत सिंह

anant-singh-will-write-letter-to-pm-cm-for-farmer
अरुण शाण्डिल्य (बेगूसराय) मोकामा विधायक अनंत सिंह टाल के किसानों की दलहन फसल बर्बाद होने के एवज में मुआवजे के लिए पीएम नरेन्द्र मोदी और सीएम नीतीश कुमार को लिखेंगे पत्र।देश में दलहन का खान कहे जाने वाला इलाका बाढ़ के मोकामा टाल,पंडारक टाल और घोसवरी टाल में दलहन की फसल चौपट हो गयी है। जिसके कारण किसान भूखमरी की कगार पर पहुँच गये हैं।ऐसे में किसानों की पीड़ा से पीड़ित विधायक अनंत सिंह ने अपनी आवाज बुलंद करते हुए कहा है कि,सरकार अगर किसानों की समस्या पर गंभीरता से विचार नहीं करेगी तो किसानों के हित में आंदोलन पर उतरेंगे।विधायक अनंत सिंह के प्रतिनिधि बंटू सिंह ने कहा कि बेमौसम बरसात की वजह से किसानों की फसल बर्बाद हो गयी है। लेकिन सरकार को इसकी कोई सुध नहीं है।बाढ़ इलाके के किसानों के सामने भूखों मरने की नौबत आ गयी है।लेकिन नीतीश कुमार,सरकार बचाने में लगे हुए हैं और उनके सांसद मंत्री बनने की जुगाड़ में जनता की उन्हें कोई फिक्र ही नहीं है।उन्होनें कहा कि इलाके के जनप्रतिनिधि सांसद राजीव रंजन सिंह और मंत्री नीरज कुमार क्षेत्र के किसानों के उपर  कोई ध्यान नहीं दे रहे हैं।ये नेता लोग बस पीएम मोदी और अमित शाग के पिछलग्गू बने हुए हैं। सब मिलकर केवल हिंदु-मुसलमान की ही राजनीति में लगे हैं। बंटू सिंह ने कहा कि विधायक अनंत सिंह माननीय प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और मुख्यमंत्री नीतीश कुमार के नाम किसानों की समस्या को लेकर लिखित पत्र भेजने वाले हैं। बावजूद इसके अगर सरकार किसानों के हित में कोई अहम कदम नहीं उठायी तो हम किसानों के हित में आंदोलन पर उतरने के लिए बाध्य होंगे।देश की रीढ़ कहे जाने वाले किसानों को कोई नहीं सुनेगा तो लोगों के भोजन पर भी आफत आ जाएगी।कोरोना-कोरोना कर सरकार बड़ी-बड़ी एडवायजरी जारी कर रही है लेकिन हालात ये हैं कि अस्पताल में एक अच्छे डॉक्टरों तक की व्यवस्था नहीं है।सरकार अपना वोट अपनी कुर्शी के पीछे दिमाग लगा रही है और यहाँ मरते किसानों को देखनेवाला कोई नहीं।

कोई टिप्पणी नहीं:

Loading...