13 मार्च को जन्म दिन मनाया और 14 मार्च को दिल का दौरा पड़ने से मर गया - Live Aaryaavart

Breaking

प्रबिसि नगर कीजै सब काजा I ह्रदय राखि कौसलपुर राजा II, हरिजन जानि प्रीति अति गाढ़ी। सजल नयन पुलकावलि बाढ़ी॥, मंगल भवन अमंगल हारी I द्रवहु सुदसरथ अजिर बिहारी II, हरि अनंत हरि कथा अनंता I कहहि सुनहि बहुबिधि सब संता II, दीन दयाल बिरिदु संभारी । हरहु नाथ मम संकट भारी।I, माता पिता की सेवा करें....बुजुर्गों का ख्याल रखें...अपनी प्रतिभा और आचरण से देश का नाम रौशन करें...

रविवार, 15 मार्च 2020

13 मार्च को जन्म दिन मनाया और 14 मार्च को दिल का दौरा पड़ने से मर गया

died-after-heart-attack
जशपुर,15 मार्च। कोई शख्स 13 मार्च को जन्म दिन मनाता है, 14 मार्च को उनको दिल का दौरा पड़ने से मौत हो जाती है और 15 मार्च को कब्रिस्तान में दफना दिए जाते हैैं। जी यह सब विधि के विधान तहत डॉ.अभय फ्लेवियन खाखा के साथ हुआ। जल,जंगल और जमीन की समस्याओं से ग्रसित छत्तीसगढ़ जिले में है जशपुर गांव। डॉ.अभय फ्लेवियन खाखा का जन्म और पालन-पोषण छत्तीसगढ़ के जशपुर जिले में ही हुआ। यहीं से राष्ट्रीय क्षितिज पर चमकता सितारा बनकर डॉ.अभय निकले। जल्द ही राष्ट्रीय आदिवासी आन्दोलन के प्रणेता बन गए।जवाहरलाल नेहरू विश्वविद्यालय से पीएचडी प्राप्त की। एक आदिवासी मानवाधिकार कार्यकर्ता और समाज विज्ञानी के प्रशिक्षण के द्वारा, अभय, जमीनी स्तर पर जुड़े गैर-सरकारी संगठनों, अभियानों, एनजीओ, मीडिया, अनुसंधान संस्थानों के विभिन्न क्षमताओं के मुद्दे पर आदिवासी भूमि अधिकार मध्य भारत में काम किया है। राष्ट्रीय संयोजक, राष्ट्रीय अभियान पर आदिवासी अधिकार है । फ़र्स्टपोस्ट, इंडियास्पेंड, दलित कैमरा और आदिवासी पुनरुत्थान सहित विभिन्न प्रकाशनों में उनके कॉलम दिखाई दिए हैं।अभय ने उच्च शिक्षा प्रचारक के रूप में काम किया है जो दलित और आदिवासी छात्रों द्वारा अनुभव किए गए जातिगत भेदभाव पर केंद्रित है। बता दें कि डॉ.अभय ने 13 मार्च को जन्म दिन मनाया । 14 मार्च को दिल का दौरा पड़ने से मर जाते हैं और 15 मार्च को कब्रिस्तान में दफना दिए जाते हैैं। जी यह सब विधि के विधान तहत डॉ.अभय फ्लेवियन खाखा के साथ हुआ है।डॉ.अभय फ्लेवियन खाखा का निधन हो गया ।आदिवासी विद्वान और कार्यकर्ता काे शनिवार को दिल का दौरा पड़ने से अप्रत्याशित रूप से निधन हो गया। वे 37 साल के थे।

उनकी एक कविता पेश है

मैं आपका डेटा नहीं हूं

अभय फ्लेवियन खाखा द्वारा लिखित है

मैं आपका डेटा नहीं हूं, न ही मैं आपका वोट बैंक हूं,
मैं आपकी परियोजना या कोई विदेशी संग्रहालय वस्तु नहीं हूं,
मैं आत्मा नहीं हूँ जो फसल होने की प्रतीक्षा कर रहा हूँ,और न ही मैं वह प्रयोगशाला हूं जहां आपके सिद्धांतों का परीक्षण किया जाता है,

मैं आपकी तोप का चारा, या अदृश्य कर्मचारी नहीं हूँ,
या भारत निवास केंद्र में आपका मनोरंजन,
मैं तुम्हारा मैदान नहीं, तुम्हारी भीड़, तुम्हारा इतिहास,
आपकी मदद, आपका अपराध बोध, आपकी जीत के पदक,
मैं मना करता हूं, अस्वीकार करो, अपने लेबल का विरोध करो,
आपके निर्णय, दस्तावेज, परिभाषाएँ,
आपके मॉडल, नेता और संरक्षक,
क्योंकि वे मुझे मेरे अस्तित्व, मेरी दृष्टि, मेरे स्थान से वंचित करते हैं,
आपके शब्द, नक्शे, आंकड़े, संकेतक,
वे सभी भ्रम पैदा करते हैं और आपको कुर्सी पर डालते हैं,जहाँ से तुम मुझे देखते हो,

इसलिए मैं अपनी तस्वीर खींचता हूं, और अपने खुद के व्याकरण का आविष्कार करता हूं,
मैं अपनी लड़ाई लड़ने के लिए अपने खुद के उपकरण बनाता हूं,
मेरे लिए, मेरे लोग, मेरी दुनिया, और मेरे आदिवासी स्व!

कोई टिप्पणी नहीं:

Loading...