बेगूसराय : जनता कर्फ़्यू अभियान को सशक्त बनाने इन्दु जी का देहात दौरा। - Live Aaryaavart

Breaking

प्रबिसि नगर कीजै सब काजा I ह्रदय राखि कौसलपुर राजा II, हरिजन जानि प्रीति अति गाढ़ी। सजल नयन पुलकावलि बाढ़ी॥, मंगल भवन अमंगल हारी I द्रवहु सुदसरथ अजिर बिहारी II, हरि अनंत हरि कथा अनंता I कहहि सुनहि बहुबिधि सब संता II, दीन दयाल बिरिदु संभारी । हरहु नाथ मम संकट भारी।I, माता पिता की सेवा करें....बुजुर्गों का ख्याल रखें...अपनी प्रतिभा और आचरण से देश का नाम रौशन करें...

रविवार, 22 मार्च 2020

बेगूसराय : जनता कर्फ़्यू अभियान को सशक्त बनाने इन्दु जी का देहात दौरा।

caimpaign-for-janta-curfew
अरुण शाण्डिल्य (बेगूसराय) कल 22 मार्च जनता कर्फ़्यू के लिए प्रेरित करने मोहन एघु से चलकर आज 21 मार्च प्रातः 8:00 बजे श्रीमती इन्दु देवी सबौरा,महना बीहट और अपने मायके पपरौर तक की दौरा पर रहीं।सभी सगे-सम्बन्धियों को यह बताने के लिए की कल के लिए जो संदेश माननीय भारत के प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी जी ने जो किया है उसे हम सबों को अक्षरसः पालन करते हुए इस कोरोना जैसी वैश्विक महामारी को भगाने के लिए हमसब मिलकर सहयोग करें।इन्दु जी के अनुसार!आज का दौर कुछ ऐसा आ गया है कि अगर बेटा को कोरोना हुआ हो तो पिता उसे छूने,लार-प्यार देने से वंचित और पिता को हुआ तो पुत्र यथोचित सेवा करने से भी दूर ही रहेगा।और यह सब उन कुरीतियों का परिणाम है जो धर्म,मजहब, जातिभेद, अबलाओं के साथ दुष्कर्म,एक जीव के द्वारा दूसरे जीवो की निर्मम हत्या आदि कर्मो का ही दुष्परिणाम है।यह एक ऐसी महामारी फैली है जो एक दूसरे से हाथ भी मिलाने से वंचित कर दिया है ये कोरोना वायरस।कोई किसी को छूने से भी कतरा रहा है।मीटर क्या किलोमीटर से भी वंचित रहना पड़ सकता है आनेवाले भविष्य में।आगे इन्दु कहती हैं कि अगर इस महामारी को दूर भगाना है,समूल नष्ट करना है तो अभी भी देर नही हुआ है,हमारे ऋषि-मुनियों ने हमारे लिए बहुत कुछ दे रक्खा है दीर्घायु जीवन जीने के लिए।आवश्यकता है तो बस उसे अपनाने की, उनके पदचिन्हों पर चलने की।तो आइए इस जंग को हम सब जातिभेद,धर्म और मजहब से ऊपर उठकर मानव मानव एक समान का चेतनाओं को अपने आप मे समावेश कर एकजुट होकर जनता कर्फ़्यू को सफल बनावें।ताकि हमारा भारत हर क्षण विश्व के पटल पर एक कदम आगे रहे।अपने संस्कृति,संस्कारों को अपनायें।पूजा-पाठ,जप-तप,हवन आदि क्रियाओं से ही इस आपदा से मुक्ति मिलना संभव है।अतः सभी अपने अपने धर्म-मजहबों के अनुसार कल 22 मार्च से इस शुभ कार्यों में अपना अपना योगदान अपने अपने सामर्थों के अनुसार इस शुभ कार्य में तन्मयता से लगें और औरोंको भी प्रेरित करें इस शुभ कार्य को करने के लिए,इस जंग पर विजय प्राप्ति के लिए शंखनाद करने के लिए आगे बढ़ें।

कोई टिप्पणी नहीं:

Loading...