मुख्य सचिव द्वारा वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के माध्यम से दिये गए आवश्यक निदेश - Live Aaryaavart

Breaking

प्रबिसि नगर कीजै सब काजा I ह्रदय राखि कौसलपुर राजा II, हरिजन जानि प्रीति अति गाढ़ी। सजल नयन पुलकावलि बाढ़ी॥, मंगल भवन अमंगल हारी I द्रवहु सुदसरथ अजिर बिहारी II, हरि अनंत हरि कथा अनंता I कहहि सुनहि बहुबिधि सब संता II, दीन दयाल बिरिदु संभारी । हरहु नाथ मम संकट भारी।I, माता पिता की सेवा करें....बुजुर्गों का ख्याल रखें...अपनी प्रतिभा और आचरण से देश का नाम रौशन करें...

बुधवार, 25 मार्च 2020

मुख्य सचिव द्वारा वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के माध्यम से दिये गए आवश्यक निदेश

chief-secretery-guideline-on-vc
मधुबनी (आर्यावर्त संवाददाता) : मुख्य सचिव, बिहार के द्वारा बुधवार को जिला स्तर, अनुमंडल स्तर, प्रखंड स्तर के सभी पदाधिकारी एवं जनप्रतिनिधि, मुखिया के साथ सीधे वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग से संवाद किया गया। वी.सी. के दौरान बताया गया कि बाहर से आये लोगों को घर मे रखने का स्पष्ट प्रयास करते हुए कार्रवाई करें। अगर जरूरत हो तो बाहर से आये लोगों को स्कूल में रख सकते है, लेकिन लॉक डाउन की स्थिति में स्कूल में रहने में लोगों को कहा जाय कि वे अपना आवश्यक जरूरी सामान घर से मंगवा लें। लेकिन जरूरी सुविधा यथा-पानी, बिजली, शौचालय की व्यवस्था मुखिया द्वारा किया जायेगा। यदि मास्क नही है तो वे साफ रुमाल, गमछा का प्रयोग कर सकते है। सभी होम क्वारंटाइन वाले घर के बाहर पम्पलेट लगाना है। इस अवधि में खाने-पीने की समस्या न हो, इसके लिए जरूरी है कि कदम उठाया जाये। मुखिया स्थानीय किराना दुकान एवं सब्जी विक्रेता से बात-चीत कर कोशिस करें कि वो सामान की होम डिलीवरी कर दें, ताकि लोगों को घर से बाहर न निकलना पड़े। सभी राशन कार्ड धारी के खाते में 1000 रु. भेजा जा रहा है। 31 मार्च तक छात्र-छात्राओं के खाता में छात्रवृति की राशि भेजने का निदेश दिया गया है। उन्होंने कहा कि इस महामारी की स्थिति में अच्छा काम करनेवाले जनप्रतिनिधियों को सम्मानित भी किया जायेगा। कल पंचायत कार्यालय में बैठक कर कार्य योजना बना लेना है। मुखिया घर-घर घूमकर लोगों को घर मे ही रहने के लिए दबाव दें। साथ ही पंचम वित्त आयोग  के अनुदान मद से मुखिया दो-तीन दिन तक घर मे रहने के लिए माइक से प्रचार करा दें। साथ ही आपातकालीन सेवाओं को संचालित करने में मदद करेंगे। मनचलों एवं बगैर किसी काम के इधर-उधर घुमनेवालों  से सख्ती से निपटने का निदेश दिया गया। गांव घर मे भी लोग आपस में न मिले, यह संदेश भी लोगों को देने का निदेश दिया गया।

कोई टिप्पणी नहीं:

Loading...