बिहार : पटना स्टेशन स्थित न्यू मार्केट के पास डंपिंग ग्रांउड बनाना बंद करे सरकार : माले - Live Aaryaavart

Breaking

प्रबिसि नगर कीजै सब काजा I ह्रदय राखि कौसलपुर राजा II, हरिजन जानि प्रीति अति गाढ़ी। सजल नयन पुलकावलि बाढ़ी॥, मंगल भवन अमंगल हारी I द्रवहु सुदसरथ अजिर बिहारी II, हरि अनंत हरि कथा अनंता I कहहि सुनहि बहुबिधि सब संता II, दीन दयाल बिरिदु संभारी । हरहु नाथ मम संकट भारी।I, माता पिता की सेवा करें....बुजुर्गों का ख्याल रखें...अपनी प्रतिभा और आचरण से देश का नाम रौशन करें...

गुरुवार, 19 मार्च 2020

बिहार : पटना स्टेशन स्थित न्यू मार्केट के पास डंपिंग ग्रांउड बनाना बंद करे सरकार : माले

माले विधायक दल नेता महबूब आलम पटना डीएम से मिले, कचड़ा हटाने की मांग की.
cpi-ml-demand-stop-dumping-ground
पटना 19 मार्च, भाकपा-माले विधायक दल नेता महबूब आलम ने आज राजधानी पटना के न्यू मार्केट इलाके से डंपिंग ग्राडंड हटाने के सवाल पर डीएम पटना से मुलाकात की. डीएम ने नगर विकास आयुक्त को इस सिलसिले में आवश्यक निर्देश जारी किए हैं. माले विधायक ने कहा कि यदि इस पर अविलंब कार्रवाई नहीं होती है, तो आंदोलन किया जाएगा. कहा कि इस मसले में मुख्यमंत्री नीतीश कुमार व विधानसभा अध्यक्ष को भी सूचित किया गया है, लेकिन अब तक कोई कार्रवाई नहीं हुई है.माले विधायक ने कहा कि आज पूरी दुनिया कोरोना की चपेट में है. साफ-सफाई पर खासा ध्ध्यान दिया जा रहा है, लेकिन पटना के व्यस्तम इलाके को कचड़े के ढेर में बदल दिया गया है.  कहा है कि राजधानी पटना में स्मार्ट सिटी परियोजना के नाम पर व्यवसायिक रूप से शहर के अत्यंत व्यस्त इलाके न्यू मार्केट एरिया को आज कचड़ा घर बना दिया गया है. कुछ दिन पहले वहां के सैंकड़ों गरीब-दुकानदारों की दुकानों को ढाह दिया गया था और यह कहा गया था कि उपरोक्त 8 एकड़ जमीन पर स्मार्ट सिटी का निर्माण किया जाएगा. कई महीने बीत जाने के बाद भी निर्माण की प्रक्रिया कहीं आरंभ नहीं हुई है. हुआ है तो यह कि अब उस 8 एकड़ जमीन पर शहर का कचड़ा जमा किया जा रहा है. पूरा इलाका आज दुर्गंध के कारण नारकीय हो गया है. उसी इलाके में पटना स्टेशन सहित शहर की सबसे पुरानी मस्जिद व हनुमान मंदिर भी है. कचड़ा के लगातार सड़ने से कई तरह की बीमारियों के फैलने की संभावना उत्पन्न हो गई है. एक ओर, गंदगी का अंबार है तो दूसरी ओर उस इलाके के सभी दुकानदारों के रोजगार का विनाश है. रोजगार तो न मिले, न ही सड़क किनारे सामान बेचने वाले दुकानदारों का सर्वेक्षण करवाकर उनकी अब तक कोई व्यवस्था की गई है, लेकिन जीपीओ से लेकर स्टेशन गोलबंर तक दुकानदारों से पार्किंग के नाम पर अवैध वसूली अवश्य हो रही है. भाकपा-माले मंाग करती है कि इस महत्वपूर्ण जगह को कचड़ा डंपिंग ग्राउंड न बनाया जाए. और इलाके के दुकानदारों के लिए ठोस उपाय किए जाएं.

कोई टिप्पणी नहीं:

Loading...