विदिशा (मध्यप्रदेश) की खबर 19 मार्च - Live Aaryaavart

Breaking

प्रबिसि नगर कीजै सब काजा I ह्रदय राखि कौसलपुर राजा II, हरिजन जानि प्रीति अति गाढ़ी। सजल नयन पुलकावलि बाढ़ी॥, मंगल भवन अमंगल हारी I द्रवहु सुदसरथ अजिर बिहारी II, हरि अनंत हरि कथा अनंता I कहहि सुनहि बहुबिधि सब संता II, दीन दयाल बिरिदु संभारी । हरहु नाथ मम संकट भारी।I, माता पिता की सेवा करें....बुजुर्गों का ख्याल रखें...अपनी प्रतिभा और आचरण से देश का नाम रौशन करें...

गुरुवार, 19 मार्च 2020

विदिशा (मध्यप्रदेश) की खबर 19 मार्च

क्षतिग्रस्त फसलों का जायजा  सर्वे दल गठित 

vidisha news
विदिशा जिले में आज गुरूवार  की प्रातः हुई अचानक ओलावृष्टि से क्षतिग्रस्त हुई फसलों का जायजा विदिशा विधायक श्री शशांक भार्गव, कलेक्टर डॉ पंकज जैन, जिला पंचायत सीईओ श्री मयंक अग्रवाल के अलावा अपर कलेक्टर श्री वृदांवन सिंह तथा डिप्टी कलेक्टर श्री प्रवीण प्रजापति एवं श्री लोकेन्द्र सरल के द्वारा चिन्हित ग्रामों का भ्रमण कर जायजा लिया गया है। कलेक्टर डॉ पंकज जैन ने कहा कि प्राकृतिक आपदा से प्रभावित किसानों को नियमानुसार राहत राशि उपलब्ध कराई जाएगी। इसके लिए क्षति का आंकलन करने हेतु सर्वे दल गठित किए गए है। उन्होंने बताया कि प्रारंभिक तौर पर प्राप्त सूचनाओं के आधार पर जिले के कुल 45 ग्रामों में ओलावृष्टि होने के कारण फसले क्षतिग्रस्त हुई है जिसमें सर्वाधिक ग्यारसपुर तहसील क्षेत्र के 24 ग्राम, गुलाबगंज के 16 तथा बासौदा तहसील के पांच ग्राम शामिल है।

पीड़ितों से रू-ब-रू हुए 
विदिशा विधायक श्री शशांक भार्गव एवं अन्य जनप्रतिनिधियों के अलावा कलेक्टर डॉ पंकज जैन ने ग्यारसपुर, गुलाबगंज तथा बासौदा क्षेत्र के प्रभावित ग्रामों का दौरा कर पीड़ित कृषकों को ढांढस बंधाते हुए कहा कि शीघ्र ही सर्वे कार्य के उपरांत नियमानुसार राहत राशि वितरण करने के प्रावधानो का क्रियान्वयन किया जाएगा। कलेक्टर डॉ जैन ने कहा कि संकट की इस घड़ी में शासन प्रशासन पीड़ितों के साथ है उन्हें हर संभव मदद मुहैया कराई जाएगी। कलेक्टर डॉ पंकज जैन ने पीड़ित कृषकों से संवाद स्थापित कर उन्हें आश्वस्त कराया कि आरबीसी के प्रावधानो के तहत नियमानुसार शीघ्र ही सर्वे कर पीड़ितो को नियमानुसार राहत राशि मुहैया कराई जाएगी। कलेक्टर डॉ पंकज जैन के अलावा अन्य अधिकारियों ने आज ग्राम मढ़ीपुर में श्री निहाल सिंह, श्री जसवीर रघुवंशी तथा ग्राम दिघौरा में पीड़ित कृषक श्री नंदराम के खेत में पहुंचकर क्षतिग्रस्त फसल का जायजा लिया है। इसके अलावा अटारीखेजड़ा, बिलरई एवं अम्बार ग्राम का भी भ्रमण कर क्षतिग्रस्त का अवलोकन खेतों में पहुंचकर किया है। डिप्टी कलेक्टर श्री लोकेन्द्र सरल एव बासौदा तहसीलदार श्री यशवर्धन सिंह ने बासौदा तहसील क्षेत्र में ओलावृष्टि से प्रभावित ग्रामों का भ्रमण कर पीडित कृषकों  से संवाद कर ढांढस बंधाया और उन्हें शीघ्र ही नियमानुसार आर्थिक सहायता उपलब्ध कराए जाने से आश्वस्त कराया है। अधिकारियों के द्वारा ग्राम बामोरी हसन, आटासेमर, हिरनोदा, बरबटी, भैरोगढ, नानूखेडी, देरखी एवं ग्यारसपुर तहसील के दूरस्थ ग्राम धौखेडा में पहुंचकर क्षतिग्रस्त का जायजा लिया गया है। इस दौरान नायब तहसीलदार श्री दौरजीराम अहिरवार के अलावा ग्रामों के पटवारी तथा गणमान्य नागरिक एवं पीडित कृषक साथ मौजूद थे। 

माध्यमिक शिक्षा मण्डल द्वारा 20 से 31 मार्च तक की परीक्षाएं स्थगित  

माध्यमिक शिक्षा मण्डल के सचिव श्री अनिल सुचारी ने बताया कि कोरोना वायरस के संक्रमण से बचाव हेतु मण्डल द्वारा आयोजित हाई स्कूल एवं हायर सेकेण्डरी परीक्षा तथा अन्य मुख्य परीक्षाएं जो वर्ष 2020 में बीस मार्च से 31 मार्च के दरम्यिन आयोजित की जानी थी को तत्काल प्रभाव से स्थगित किया गया है के आश्य का आदेश संबंधितों के लिए जारी किया जा चुका है। सचिव श्री सुचारी ने बताया कि राज्य में लोक स्वास्थ्य एवं लोकहित में नोबल कोरोना वायरस के संक्रमण से बचाव हेतु एवं विद्यालयों में एक स्थान पर विद्यार्थियों के समूह में एकत्रित उपस्थित होने के परिणाम स्वरूप उक्त बीमारी के संभावित खतरों की रोकथाम करने के उद्वेश्य से वर्तमान परिस्थितियों की गंभीरता को दृष्टिगत रखते हुए 20 मार्च 2020 से 31 मार्च 2020 तक आयोजित होने वाली मण्डल की समस्त परीक्षाएं तत्काल प्रभाव से स्थगित की गई है। माध्यमिक शिक्षा मण्डल के सचिव श्री सुचारी ने बताया कि 21 मार्च से प्रारंभ होने वाला उत्तरपुस्तिकाओं के मूल्यांकन कार्य भी 31 मार्च तक के लिए तत्काल प्रभाव से स्थगित किये गए है। मण्डल की स्थगित परीक्षाओं के कार्यक्रम की तिथियां एवं मूल्यांकन कार्य प्रारंभ करने की तिथियां पृथक से घोषित की जाएगी। माध्यमिक शिक्षा मण्डल के सचिव श्री अनिल सुचारी के द्वारा ततसंबंध में समस्त केन्द्राध्यक्ष, सहायक केन्द्राध्यक्ष को यह भी निर्देशित किया गया है कि संबंधित केन्द्र हेतु पूर्व में आवंटित दिनांक 20 मार्च से 31 मार्च तक की आयोजित परीक्षाओं के प्रश्न पत्र संबंधित थानो में ही आगामी आदेश तक सुरक्षित रखे जाएं तथा इस दौरान प्रश्न पत्र के सील्ड बंद बाक्स को किसी भी दशा में मण्डल, कलेक्टर की अनुमति के बिना नही खोले जाएं। इस प्रकार के सभी निर्देश सर्वसंबंधितों तक प्रसारित कराने हेतु निर्देशित किया गया है। 

अंतरर्विभागीय अधिकारी प्रशिक्षित हुए

नोबल कोरोना वायरस के प्रति जनजागृति लाने तथा बचावों के उपायों से आमजनों को अवगत कराने हेतु हर स्तर पर जिले में प्रयास किए जा रहे है। कलेक्टर डॉ पंकज जैन के द्वारा ततसंबंध में दिए गए निर्देशो के अनुपालन में अंतरर्विभागीय अधिकारियों के लिए गुरूवार को एक दिवसीय प्रशिक्षण कार्यक्रम का आयोजन किया गया था। मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी डॉ केसी अहिरवार ने बताया कि कोरोना वायरस के फैलने के कारक जैसे संक्रमित व्यक्ति के सम्पर्क में आने से कैसे यह वायरस फैलता है कि जानकारी प्रायोगिक तौर पर प्रशिक्षणर्थियों को दी गई है। उन्होंने बताया कि संक्रमित व्यक्ति के सम्पर्क में जाने से बिना हाथ साफ किए अपनी आंखो, कान, नाक इत्यादि के बचाव का अधिक से अधिक प्रयास करें। कोरोना वायरस के लक्षण के संबंध में बताया गया कि सर्दी, खांसी, निमोनिया, गले में दर्द,  के अलावा बुखार आना इत्यादि लक्षण में शामिल है। यदि किसी व्यक्ति को पूर्व उल्लेखित लक्षणों में से किसी भी प्र्रकार की तकलीफ होती है तो अविलम्ब नजदीक के चिकित्सक से सम्पर्क कर चिकित्सक के द्वारा दिए गए मार्गदर्शन के अनुसार दवाओं का सेवन करना सुनिश्चित करें। अंतरर्विभागीय समन्वय के उक्त प्रशिक्षण में संबंधितों को अवगत कराया गया कि एक विभाग दूसरे विभागों के कार्यार् में कैसे सुगमता से अपना सहयोग, योगदान देकर लक्ष्यों की पूर्ति कर सकते है। कोरोना वायरस के संबंध में फैली भ्रांतियों को कैसे दूर किया जाए पर भी गहन प्रकाश प्रशिक्षणार्थियों के द्वारा दिया गया है। कोरोना वायरस के फैलने के मुख्य कारण, लक्षण एवं बचाव तथा सावधानियों पर आधारित साहित्य भी प्रशिक्षणार्थियों को उपलब्ध कराया गया है। प्रशिक्षण में स्वास्थ्य विभाग, स्कूल शिक्षा विभाग, कृषि विभाग, पशु चिकित्सा विभाग, महिला एवं बाल विकास विभाग, खाद्य विभाग सहित अन्य विभागों के अधिकारी, कर्मचारी मौजूद थे।  मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी के सभाकक्ष मे सम्पन्न हुई उक्त प्रशिक्षण में शामिल प्रशिक्षणार्थियों की जिज्ञासाओं का समाधान चिकित्सकों द्वारा किया गया है उनके द्वारा कोरोना वायरस के बचाव उपायों का अनुसरण करने की अपेक्षा संबंधितों से व्यक्त की गई है। 

कोई टिप्पणी नहीं:

Loading...