बिहार : एकता परिषद, उत्तर बिहार के बैनर तले एक दिवसीय स्वाहा-यज्ञ महा आंदोलन संपन्न - Live Aaryaavart

Breaking

प्रबिसि नगर कीजै सब काजा I ह्रदय राखि कौसलपुर राजा II, हरिजन जानि प्रीति अति गाढ़ी। सजल नयन पुलकावलि बाढ़ी॥, मंगल भवन अमंगल हारी I द्रवहु सुदसरथ अजिर बिहारी II, हरि अनंत हरि कथा अनंता I कहहि सुनहि बहुबिधि सब संता II, दीन दयाल बिरिदु संभारी । हरहु नाथ मम संकट भारी।I, माता पिता की सेवा करें....बुजुर्गों का ख्याल रखें...अपनी प्रतिभा और आचरण से देश का नाम रौशन करें...

मंगलवार, 3 मार्च 2020

बिहार : एकता परिषद, उत्तर बिहार के बैनर तले एक दिवसीय स्वाहा-यज्ञ महा आंदोलन संपन्न

जिलाधिकारी आलोक रंजन घोष से शिष्टमंडल मिलकर आवासीय भूमिहीनों,बेरोजगार युवक-युवतियों की समस्या अंत करने को कहा
ekta-parishad-maha-yagya
कुढ़नी,03 मार्च। एकता परिषद, उत्तर बिहार के बैनर तले एक दिवसीय स्वाहा-यज्ञ महा आंदोलन संपन्न हो गया। इस बीच एकता परिषद के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष प्रदीप प्रियदर्शी के नेतृत्व में स्वाहा-यज्ञ महा आंदोलन से जुड़े नेताओं का एक शिष्टमंडल मुजफ्फरपुर जिले के जिलाधिकारी आलोक रंजन घोष से मिलकर आवासीय भूमिहीनों,बेरोजगार युवक-युवतियों की समस्या आदि मांग को पूरा करने का आग्रह किया। जिलाधिकारी आलोक रंजन घोष से मिलकर आने वाले शिष्टमंडल में से एक अभियान के संयोजक विजय गोरैया ने कहा कि हमलोग सुबह 10 से 2 बजे तक तुर्की सकरी के बीच फोरलेन के पश्चिमी लेन पर आंदोलन चलाया।उन्होंने कहा कि इसके पूर्व राष्ट्रपिता महात्मा गांधी की तस्वीर से सुसज्जित मंच के दायीं  और बायीं ओर कुल छह हवन कुंड बनाया गया।इसमें एकता परिषद के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष प्रदीप प्रियदर्शी, पुष्पा जी,मंजू जी,रामलखेन्द्र,शिवनाथ पासवान, अभियान संयोजक विजय गोरैया सहित हजारों की संख्या में साथियों ने हविस डाला। हजारों की संख्या में आगत सत्याग्रहियों ने आवासीय भूमिहीनों को घर के लिए 10 डिसमिल जमीन सरकार के द्वारा खरीदकर देने का कानून बनाने और बेरोजगार युवक-युवतियों को स्थायी रोजगार मुहैया कराने के लिए मूल अधिकार का कानून बनाने सहित अन्य मांगों को लेकर तुर्की-सकरी फोरलेन के बगल में जुटे थे। महा आंदोलन में शामिल सत्याग्रही नारा बुलंद कर सरकार के समक्ष मांग रखें।घर की जमीन दिलाना होगा कानून नया बनाना होगा, चाहे जो होंवे सरकार रोजगार हो मूल अधिकार। स्वाहा यज्ञ का महा आंदोलन के अध्यक्ष शिवनाथ पासवान ने कहा कि विगत 20 वर्षों में लगभग हरेक दल की सरकारे बन चुकी हैॆ। बड़े बोल बोलने के बावजूद किसी भी दल ने आवासीय भूमिहीनता और बेरोजगारी पर कानून बनाने में कोई रूचि नहीं दिखाई है। हम चाहेंगे कि वे इस मुद्दे को अपनी प्राथमिकता में शामिल करें। उन्होंने कहा कि यह महा आंदोलन किसी के खिलाफ नहीं,सिर्फ अपने सवालों के पक्ष में हैं। भोजन, वस्त्र और आवास के लिए किसी भी व्यक्ति के पास आवास की भूमि तथा चतुर्दिक भरण-पोषण लायक स्थायी रोजगार होना जरूरी है।यह मानते हुए एकता परिषद,उत्तर बिहार के संयोजक रामलखेन्द्र ने कहा कि स्वाहा -यज्ञ का महा आंदोलन के माध्यम से लोगों के मन में आवासीय भूमिहीनता, बेरोजगारी, भ्रष्टाचार,गरीबी और किसानों की बेचारगी को भस्म करने की भावना जागृत करना चाहते हैं। हम प्रशासन और शासन को खबरदार भी करना चाहते हैं कि आप जितना नजर अंदाज करेंगे यह आंदोलन उतना ही पैना होता चला जायेगा।

कोई टिप्पणी नहीं:

Loading...