बेगूसराय : बिजली उपभोक्ताओं के लिए इलेक्ट्रिसिटी बोर्ड ने दी राहत भरी खबर - Live Aaryaavart

Breaking

प्रबिसि नगर कीजै सब काजा I ह्रदय राखि कौसलपुर राजा II, हरिजन जानि प्रीति अति गाढ़ी। सजल नयन पुलकावलि बाढ़ी॥, मंगल भवन अमंगल हारी I द्रवहु सुदसरथ अजिर बिहारी II, हरि अनंत हरि कथा अनंता I कहहि सुनहि बहुबिधि सब संता II, दीन दयाल बिरिदु संभारी । हरहु नाथ मम संकट भारी।I, माता पिता की सेवा करें....बुजुर्गों का ख्याल रखें...अपनी प्रतिभा और आचरण से देश का नाम रौशन करें...

मंगलवार, 31 मार्च 2020

बेगूसराय : बिजली उपभोक्ताओं के लिए इलेक्ट्रिसिटी बोर्ड ने दी राहत भरी खबर

electricity-board-relaef-bihar
अरुण शाण्डिल्य (बेगूसराय) विश्वव्यापी कोरोना के कारण फैली इस आपदा की घड़ी में बिजली बोर्ड ने बिजली उपभोक्ताओं के लिए यह राहत भरी खबर देते हुए कहा है कि,विभाग अभी बिजली बिल नहीं जमा करने पर फिलहाल किसी का भी कनेक्शन नहीं काटेगी।बिजली बिल का मैसेज भेजने के दौरान कनेक्शन काटने वाले ऑपशन को कंपनियों ने फिलहाल हटा लिया है।कोरोना के कारण राज्य के एक करोड़ 60 लाख से अधिक उपभोक्ताओं को घर-घर बिजली बिल भेजना मुश्किल है, जिसके लिए बिजली कंपनियां मैसेज और ईमेल पर लोगों को बिजली बिल भेज रही है।लेकिन तय समय में भुगतान नहीं होने पर कनेक्शन काटना संभव नहीं है।चुकी लोगों में सोशल डिस्टेंसिंग का पालन करना जरूरी है इसलिए कनेक्शन काटने में ऐसा संभव नहीं हो पाएगा।इसके साथ ही कर्मचारियों को घर-घर भेजना मतलब उनके ऊपर कोरोना का खतरा मंडराना होगा।अतः कंपनियों ने यह तय किया है कि किसी भी उपभोक्ताओं का बिजली कनेक्शन फिलहाल नहीं काटा जाएगा।सोशल डिस्टेंसिंग का पालन करते हुए अभी लोगों का मीटर रीडिंग संभव नहीं है, इसे देखते हुए भी बिजली कंपनियों ने उपभोक्ताओं को और औसतन बिजली बिल देने की बात कही है।इसके लिए बिजली कंपनियों के तरफ से लोगों को मैसेज कर इसकी जानकारी दी जा रही है।इसका मतलब उपभोक्ता कतई ये नहीं समझें कि उनको बिल आगे भी जमा नहीं करना पड़ेगा।उपभोक्ता इस बात के लिए भी तैयार रहें कि जैसे ही ये आपदा खत्म होगी बिजली विभाग वाले फिर सख्ती से पेश आना भी शुरु कर देंगे।उस वक्त आप या तो उन्हें पैसे देंगे या वो आपका कनेक्शन डिस्कनेक्ट कर देंगे,इतना ही नहीं कानूनी कारवाई भी कर सकते हैं।जबकि सरकार को चाहिए कि इस मामले में भी बिल की माफी पर विचार करे क्योंकि जनता तो पूरी तरह से इस आपदा में कंगाल हो चुका है।

कोई टिप्पणी नहीं:

Loading...