सरकार को एयर इंडिया बचाना चाहिए : अधीर रंजन - Live Aaryaavart

Breaking

प्रबिसि नगर कीजै सब काजा I ह्रदय राखि कौसलपुर राजा II, हरिजन जानि प्रीति अति गाढ़ी। सजल नयन पुलकावलि बाढ़ी॥, मंगल भवन अमंगल हारी I द्रवहु सुदसरथ अजिर बिहारी II, हरि अनंत हरि कथा अनंता I कहहि सुनहि बहुबिधि सब संता II, दीन दयाल बिरिदु संभारी । हरहु नाथ मम संकट भारी।I, माता पिता की सेवा करें....बुजुर्गों का ख्याल रखें...अपनी प्रतिभा और आचरण से देश का नाम रौशन करें...

मंगलवार, 17 मार्च 2020

सरकार को एयर इंडिया बचाना चाहिए : अधीर रंजन

government-should-save-air-india-adhir-ranjan
नयी दिल्ली, 17 मार्च, कांग्रेस के अधीर रंजन चौधरी ने एयर इंडिया को बेचे जाने वाले पर सवाल उठाते हुए कहा कि बड़े बड़े काम करने का दावा करने वाली सरकार को इसे बचाने की कोशिश करनी चाहिए। श्री चौधरी ने वायुयान (संशोधन) विधेयक, 2020 पर चर्चा में हिस्सा लेते हुए कहा कि क्या सरकार इसे सुधार नहीं सकती है। 'मोदी है तो मुमकिन है' और 'शाह है तो संभव है' की बात करने वाली सरकार क्या एयर इंडिया को नहीं बचा सकती है। क्या सरकार उन्हीं कंपनियों को चलाना चाहती है जो आसानी से चल सके। सरकार को आसमान के महाराजा के नाम से जाने जाने वाले एयर इंडिया को अवश्य बचाने का प्रयास किया जाना चाहिए। उन्होंने कहा कि विमानन क्षेत्र में अब तक औपनिवेशिक सोच को लेकर आगे बढ रहे थे लेकिन नागर विमानन महानिदेशालय (डीजीसीए), नागर विमानन सुरक्षा ब्यूरो (बीसीएएस) और विमान दुर्घटना अन्वेषण ब्यूरो (एएआईबी) को संवैधानिक मान्यता दी जा रही है जो अच्छी पहल है। उन्होंने कहा कि सुरक्षा और संरक्षण के मामले में किसी भी हाल में समझौता नहीं किया जाना चाहिए लेकिन आये दिन सुरक्षा चूक की खबरें आती रहती है जिस पर विशेष ध्यान देने की जरूरत है। सुरक्षा की कमी के कारण 60 प्रतिशत दुर्घटनाएं बढी है। कांग्रेस नेता ने कहा कि देश में हर साल एक हजार पायलटों की आवश्यकता है जबकि हमारे यहां मात्र 200 से 250 पायलटों को प्रशिक्षण देने की व्यवस्था है। यह एक गंभीर मामला है सरकार को इस पर भी ध्यान दिये जाने की आवश्यकता है। उन्होंने कहा कि यह अच्छी बात है नागर विमानन क्षेत्र में सरकार अंतरराष्ट्रीय मानकों का प्रयोग कर रही है पर सुरक्षा के साथ समझौता करके इसे हासिल करना सही नहीं होगा।

कोई टिप्पणी नहीं:

Loading...