मधुबनी : भारत-नेपाल सीमा पर जांच के बाद लोगों को करने दिया जा रहा प्रवेश - Live Aaryaavart

Breaking

प्रबिसि नगर कीजै सब काजा I ह्रदय राखि कौसलपुर राजा II, हरिजन जानि प्रीति अति गाढ़ी। सजल नयन पुलकावलि बाढ़ी॥, मंगल भवन अमंगल हारी I द्रवहु सुदसरथ अजिर बिहारी II, हरि अनंत हरि कथा अनंता I कहहि सुनहि बहुबिधि सब संता II, दीन दयाल बिरिदु संभारी । हरहु नाथ मम संकट भारी।I, माता पिता की सेवा करें....बुजुर्गों का ख्याल रखें...अपनी प्रतिभा और आचरण से देश का नाम रौशन करें...

मंगलवार, 17 मार्च 2020

मधुबनी : भारत-नेपाल सीमा पर जांच के बाद लोगों को करने दिया जा रहा प्रवेश

no-entry-without-inspaction-nepal-border
मधुबनी (आर्यावर्त संवाददाता)  : कोविड-19 नोबल कोरोना वायरस को ले जयनगर अनुमंडल प्रशासन अलर्ट पर है, वहीं, इंडो-नेपाल बॉडर पर नोबल कोरोना वायरस को ले एस०एस०बी०  व अनुमंडल चिकित्सा महकमा अलर्ट पर है। नेपाल की ओर से आने वालो पर जवानो व बॉडर पर तैनात चिकित्सक की विशेष नजर है। बता दें कि कारोना के सीमावर्ती नेपाल व भारत में पसरते पेर के बाद से इंडो-नेपाल बॉडर पर चौकसी बढ़ा दिया है। इधर अस्पताल प्रशासन ने भी विशेष तैयारी कर रखी है। मधुबनी जिले से लगने वाली खुली हुई इंडो-नेपाल बॉडर के आने वाली बीओपी क्षेत्र के मुख्य केन्द्र नेपाली स्टेशन, इनरवा बलडिहा, बेतौन्हा, महिनाथपूर, खौना, पिपरोन, मठियानी समेत 15 केन्द्रो पर दो चिकित्सक एवं स्वास्थ्यकर्मियों की टीम तैनात है, जो नेपाल से आने वाले लोगो की टोह लेते है। संदिग्ध होने की स्थिति में जांच कराने की पहल करते है। इनरवा बॉडर पर तैनात डा० जीतेंद्र ने बताया कि सर्दी खासी वाले दो मरीज मिले, जो सिजनल सर्दी का लक्षण था। वहीं, जयनगर इस्तिथ एस०एस०बी० 48वीं बटालियन के कमांडेंट शंकर सिंह ने बताया कि बॉडर पर कारोना को लेकर भी जवान सतर्कता पर है। संदिग्ध होने पर अस्पताल प्रबंधन को सूचित करेंगे। फिर भी जिला प्रशासन द्वारा सात बॉडर प्वाइंटो पर चिकित्सक भी तैनात है, जो संदिग्ध की जांच कर रहे है। वहीं, जयनगर अनुमंडल पदाधिकारी शंकर शरण ओमी ने बताया कि फिलहाल ऐसी कोई भी संदिग्ध मरीज नही पाया गया है, हालांकि ऐसी इस्तिथि में अनुमंडल प्रशासन पूरी तरफ जागरूक है, ओर बारीक से नजर बनाए हुए हैं। वहीं, जयनगर अनुमंडल स्वास्थ प्रबंधक अर्चना भट्ट ने बताया कि यहाँ ऐसी संभावना से इनकार नही किया जा सकता है, जिसके मद्देनजर हमारी टीम हार जगह एसएसबी के साथ विभिन्न बॉर्डर पॉइंट्स पर तैनात है, ओर गहन जांच करने के बाद ही भारतीय सीमा में प्रवेश करने दिया जा रहा है नेपाल से आने वाले लोगों को। इस काम मे जयनगर अनुमंडल प्रशासन एवं एसएसबी हमारा साथ दे रही है। हालांकि अब जयनगर अनुमंडल अस्पताल में दो बेड वाला एक आइसोलेशन वार्ड बना दिया गया है। ऐसी इस्तिथि से निपटने के लिए, जब कोई कोविड-19 नोबल कोरोना वायरस का संदिग्ध पाया गया। आपको बता दें की बिहार सरकार पहले ही 31 मार्च तक सभी सरकारी और गैर-सरकारी स्कूल, कॉलेज, कोचिंग संस्थान, जू, सिनेमाघर बंद करवा चुकी है। कई जगहों पर धारा-144 लगा चुकी है। इसके अलावा लोगों से अपील की जा रही है लगातार की अपनी सेहत का ख्याल रखें और अपनी ओर आने आसपास साफ-सफाई का ख्याल रखें।

कोई टिप्पणी नहीं:

Loading...