हंगामे के कारण राज्य सभा की कार्यवाही दिन भर के लिए स्थगित - Live Aaryaavart

Breaking

प्रबिसि नगर कीजै सब काजा I ह्रदय राखि कौसलपुर राजा II, हरिजन जानि प्रीति अति गाढ़ी। सजल नयन पुलकावलि बाढ़ी॥, मंगल भवन अमंगल हारी I द्रवहु सुदसरथ अजिर बिहारी II, हरि अनंत हरि कथा अनंता I कहहि सुनहि बहुबिधि सब संता II, दीन दयाल बिरिदु संभारी । हरहु नाथ मम संकट भारी।I, माता पिता की सेवा करें....बुजुर्गों का ख्याल रखें...अपनी प्रतिभा और आचरण से देश का नाम रौशन करें...

बुधवार, 11 मार्च 2020

हंगामे के कारण राज्य सभा की कार्यवाही दिन भर के लिए स्थगित

rajya-sabha-potpond-for-roar
नयी दिल्ली,11 मार्च, विपक्ष के हंगामे के कारण बुधवार को राज्यसभा में शून्यकाल और प्रश्नकाल नहीं हो सका और दो अध्यादेशों के स्थान पर लाये गये विधेयक पर चर्चा को लेकर सहमति न होने के कारण सदन की कार्यवाही तीन बार स्थगित होने के बाद दिन भर के लिए स्थगित कर दी गई। होली के अवकाश के बाद जब आज सुबह सदन की कार्यवाही शुरू हुई तो विपक्षी सदस्यों ने दो मलयाली चैनलों को गत दिनों प्रतिबंधित किये जाने का मामला उठाकर जोरदार हंगामा किया जिसके कारण सदन की कार्यवाही भोजनावकाश तक स्थगित कर दी गई। अपराह्न दो बजे के बाद सदन की कार्यवाही शुरू हुई तो विदेश मंत्री एस. जयशंकर ने कोरोना वायरस के कारण ईरान में फंसे भारतीयों के बारे में बयान दिया। इसके बाद संविधान (अनुसूचित) जनजाति आदेश (संशोधन) विधेयक 2019 हंगामे के दौरान पारित किया गया। इस विधेयक में केवल दो शब्द बदलने थे। इसके बाद उप सभापति हरिवंश ने कहा कि सदन में दिवाला एवम् शोधन अक्षमता से सम्बंधित अध्यादेश और खान एवम् खनिज अध्यादेश के स्थान पर विधेयक लाने की बात कही जिस पर विपक्षी सदस्य भड़क गए। ये दोनों अध्यादेश कल समाप्त हो रहे हैं। विपक्ष का कहना था कि ये दोनों विधेयक कार्यसूची में नहीं थे। इसलिए इस पर कल चर्चा होगी। श्री हरिवंश ने सदन की कार्यवाही 20 मिनट के लिए स्थगित कर दी। इसके बाद उनके कक्ष में सत्ता पक्ष और विपक्ष के बीच विचार-विमर्श हुआ। इस दौरान सदन की कार्यवाही दो बार स्थगित कर दी गई और अंत में करीब चार बजे सदन की कार्यवाही दिन भर के लिए स्थगित कर दी गई। उप सभापति हरिवंश ने घोषणा की कि कल इन दोनों विधेयकों पर सुबह 11 बजे चर्चा होगी और बाद में दिल्ली की हिंसा पर चर्चा होगी। 

कोई टिप्पणी नहीं:

Loading...