देश के 66 जिलों में पिछले 14 दिनों में कोरोना का नया मामला नहीं - Live Aaryaavart

Breaking

प्रबिसि नगर कीजै सब काजा I ह्रदय राखि कौसलपुर राजा II, हरिजन जानि प्रीति अति गाढ़ी। सजल नयन पुलकावलि बाढ़ी॥, मंगल भवन अमंगल हारी I द्रवहु सुदसरथ अजिर बिहारी II, हरि अनंत हरि कथा अनंता I कहहि सुनहि बहुबिधि सब संता II, दीन दयाल बिरिदु संभारी । हरहु नाथ मम संकट भारी।I, माता पिता की सेवा करें....बुजुर्गों का ख्याल रखें...अपनी प्रतिभा और आचरण से देश का नाम रौशन करें...

सोमवार, 20 अप्रैल 2020

देश के 66 जिलों में पिछले 14 दिनों में कोरोना का नया मामला नहीं

66-district-no-corona-case
नयी दिल्ली 19 अप्रैल, देश के 30 राज्यों एवं केंद्र शासित प्रदेशों के 66 जिलों में पिछले 14 दिनों के दौरान कोरोना वायरस (कोविड 19) का कोई नया मामला सामने नहीं आया है जिससे पता चलता है कि संबंधित राज्य सरकारें अपने स्तर पर बेहतर काम कर रही हैं।  केंद्र शासित प्रदेश पुड्डुचेरी का माहे और कर्नाटक राज्य के कोडागु जिले ऐसे हैं जिनमें पिछले 28 दिनों से कोरोना वायरस का एक भी मामला सामने नहीं आया है। इन दो जिलों के अलावा देश में 23 राज्यों और केंद्र शासित प्रदेशों में 54 और ऐसे जिले हैं जिनमें पिछले 14 दिनों से कोरोना वायरस के नए मरीज सामने नहीं आए हैं और इनमें अब दस और नए जिले जुड़ गए है जिनमें बिहार का गया और सारण, उत्तरप्रदेश का बरेली, पंजाब का फतेहगढ़ साहिब रूपनगर, हरियाणा का भिवानी,हिसार और फतेहाबाद असम का कछार और लखीमपुर शामिल हैं।  देश में कोरोना का पहला मामला कर्नाटक के त्रिशूर जिले में सामने आया था तथा रविवार को संक्रमित आखिरी व्यक्ति के ठीक होने के बाद इसने खुद को कोविड मुक्त कर लिया है। चीन के हुबेई प्रांत की राजधानी वुहान से फैले इस वैश्विक महामारी की चपेट में त्रिशूर का नाम तब सामने आया था जब वुहान में पढ़ने वाली एक छात्रा 30 जनवरी को वहां से लौट कर आयी थी। कोरोना से संक्रमित उस छात्रा को ठीक होने के बाद 20 फरवरी को अस्पताल से छुट्टी दे दी गयी।  स्वास्थ्य विभाग के प्रवक्ता लव अग्रवाल ने आज यहां एक संवाददाता सम्मेलन में बताया कि केन्द्र सरकार की कोशिश यही है कि कोरोना वायरस से निपटने में हर स्तर पर अधिक सतर्कता बरती जाए। कोरोना की चुनौती से निपटने के लिए वैक्सीन तथा ड्रग के क्षेत्र में आज केन्द्र सरकार ने एक टास्क फोर्स का गठन किया है जिसमें नीति आयोग के सदस्य प्रधानमंत्री के प्रधान वैज्ञानिक सलाहकार सह अध्यक्ष हैं और इसमें आयुष, विज्ञान और तकनीकी विभाग, जैव प्राैद्योगिकी, सीएसआईआर, आईसीएमआर,डीआरडीओ ड्रग कंट्रोलर और महानिदेशक स्वास्थ्य सेवाएं इसके सदस्य हैं के प्रतिनिधि शामिल हैं और इनका मकसद इस अकादमिक, औद्योगिक जगत और अंतरराष्ट्रीय क्षेत्र में हो रहे नए नवाचारों को बढ़ाना है। इसके तहत देश में वैक्सीन का विकास करने के लिए जैव प्रौद्योगिकी विभाग को नोडल एजेंसी बनाया गया है जो वैक्सीन के विकास के नए आयामों की तलाश करेगी। इसबीच देश में कोरोना वायरस (कोविड-19) महामारी का प्रकोप बढ़ता जा रहा है और 1324 नये मामले सामने आने के बाद संक्रमितों की संख्या बढ़कर 16116 हो गयी तथा 31 और लोगों की मौत के बाद अब तक इस वायरस के संक्रमण से 519 लोगों की मौत हो गयी है। स्वास्थ्य मंत्रालय की ओर से आज शाम जारी किये गये आंकड़ों के मुताबिक कोरोना का प्रकोप देश के 33 राज्यों और केंद्र शासित प्रदेशों में फैल चुका है। देश में संक्रमण के अब तक कुल 16116 मामलों की पुष्टि हुई है जिनमें 77 विदेशी मरीज भी शामिल हैं। पिछले 24 घंटे के दौरान कोरोना से 31 और लोगों की मौत के बाद मृतकों का आंकड़ा 519 हो गया है। इसबीच कोरोना से संक्रमित लोगों के स्वस्थ होने की रफ्तार भी तेज हुई है और पिछले 24 घंटों में कोरोना से संक्रमित 287 लोगों के स्वस्थ होने के साथ ऐसे लोगों की संख्या 2302 पर पहुंच गयी है।

कोई टिप्पणी नहीं:

Loading...