चाईबासा मंडल कारा से पैरोल और अंतरिम जमानत पर छोड़े जाएंगे 87 बंदी - Live Aaryaavart

Breaking

प्रबिसि नगर कीजै सब काजा I ह्रदय राखि कौसलपुर राजा II, हरिजन जानि प्रीति अति गाढ़ी। सजल नयन पुलकावलि बाढ़ी॥, मंगल भवन अमंगल हारी I द्रवहु सुदसरथ अजिर बिहारी II, हरि अनंत हरि कथा अनंता I कहहि सुनहि बहुबिधि सब संता II, दीन दयाल बिरिदु संभारी । हरहु नाथ मम संकट भारी।I, माता पिता की सेवा करें....बुजुर्गों का ख्याल रखें...अपनी प्रतिभा और आचरण से देश का नाम रौशन करें...

सोमवार, 13 अप्रैल 2020

चाईबासा मंडल कारा से पैरोल और अंतरिम जमानत पर छोड़े जाएंगे 87 बंदी

चाईबासा के कोविड 19 के बढ़ते संक्रमण को देखते हुए सुप्रीम कोर्ट के आदेशानुसार चाईबासा मंडल कारा से 87 बंदियों को पैरोल और अंतरिम जमानत पर छोड़ा जाएगा. जेल प्रशासन की ओर से बंदियों को छोड़ने के लिए तीव्र गति से कार्य किया जा रहा है.
87-prisioner-will-be-reliesed
चाईबासा (आर्यावर्त संवाददाता)  कोविड 19 के बढ़ते संक्रमण को देखते हुए सुप्रीम कोर्ट के आदेशानुसार चाईबासा मंडल कारा से 87 बंदियों को पैरोल और अंतरिम जमानत पर छोड़ा जाएगा. सुप्रीम कोर्ट से जारी आदेश पर झारखंड हाईकोर्ट से जारी निर्देश के अनुसार झालसा सचिव द्वारा गठित 3 सदस्यीय समिति ने राज्य के सभी जेलों में बंद बंदियों को पैरोल या अंतरिम जमानत पर छोड़ने का निर्देश दिया है.चाईबासा कारा मंडल में बंद बंदियों में 76 बंदियों को पैरोल और 11 बंदियों को छोड़ने के लिए आवेदन तैयार कर लिए गए हैं. जेल प्रशासन की ओर से कैदियों को छोड़ने के लिए तीव्र गति से कार्य किया जा रहा है. पैरोल और अंतरिम जमानत की प्रक्रिया पूर्ण करके बंदियों को जल्द ही छोड़ दिया जाएगा. जो बंदी जेल से छोड़े जाएंगे उन्हें जेल प्रशासन की तरफ से प्रमाण पत्र दिया जाएगा. ताकि बाहर निकलने पर अपने घर जाने-आने में उन्हें प्रशासन की ओर से किसी तरह से रोका न जाए. कोरोना वायरस के बढ़ते खतरे को ध्यान में रखते हुए पूर्व के दिनों में 100 बंदियों को चाईबासा जेल से रांची की होटवार जेल स्थानांतरित किया गया है. जेलर बबलु गोप ने बताया कि 0 से 7 वर्ष के बीच संभावित सजा पाने वाले बंदियों को पैरोल और अंतरिम जमानत पर छोड़ने के आदेश प्राप्त हुए हैं. जिसके लिए उनकी सूची तैयार कर ली गई है. जिसमें 76 बंदियों की सूची बनाई गई है और 11 अस्थाई पैरोल के लिए भी आवेदन दिए गए हैं. कुल 87 बंदियों का आवेदन तैयार कर भेजा गया है. जिसके बाद कोर्ट से निर्णय आने के बाद बंदियों को छोड़ा जाएगा. पैरोल के नियमानुसार पुलिस अधीक्षक उपायुक्त के रिपोर्ट आने के बाद जेल आईजी को भेजा जाएगा. जिसके बाद जेल आईजी के निर्णय के बाद बंधुओं को पैरोल पर छोड़ा जाएगा. जेल में ओवरक्राउड हो चुका है वह क्राउड घटेगा. 50 बंदियों को अन्यत्र जेल में स्थानांतरित करने के लिए भी जेल प्रशासन की ओर से आवेदन दिया गया है. गार्ड की सुविधा मिलती है तो चाईबासा मंडल कारा से 50 बंदी कम हो जाएंगे. फिलहाल कारा में बंदियों की संख्या 832 है, 50 बंदियों के स्थानांतरित हो जाने से काफी हद तक बंदियों की संख्या कम हो जाएगी. इसके बाद 76 पेरोल और 11 अंतरिम जमानत मिल जाती है, तो जेल में मात्र 695 बंदी बचेंगे जो लगभग जेल की क्षमता के अनुसार रहेगा. बंदियों की पैरोल और अंतरिम जमानत की प्रक्रिया काफी तीव्र गति से हो रही है जो जल्द से जल्द प्रक्रिया पूरी करके बंदियों को छोड़ दिया जाएगा.

कोई टिप्पणी नहीं: