बिहार : पुलिस पिटाई से खफा एंबुलेंस चालक गए हड़ताल पर - Live Aaryaavart

Breaking

प्रबिसि नगर कीजै सब काजा I ह्रदय राखि कौसलपुर राजा II, हरिजन जानि प्रीति अति गाढ़ी। सजल नयन पुलकावलि बाढ़ी॥, मंगल भवन अमंगल हारी I द्रवहु सुदसरथ अजिर बिहारी II, हरि अनंत हरि कथा अनंता I कहहि सुनहि बहुबिधि सब संता II, दीन दयाल बिरिदु संभारी । हरहु नाथ मम संकट भारी।I, माता पिता की सेवा करें....बुजुर्गों का ख्याल रखें...अपनी प्रतिभा और आचरण से देश का नाम रौशन करें...

गुरुवार, 16 अप्रैल 2020

बिहार : पुलिस पिटाई से खफा एंबुलेंस चालक गए हड़ताल पर

ambulance-on-strike-muzaffarpur
मुजफ्फरपुर (आर्यावर्त संवाददाता) एसकेएमसीएच के शव वाहन चालक राकेश कुमार के साथ मीनाुपर पुलिस जवानों की ओर से मारपीट घटना को लेकर जिले के सभी सरकारी एम्बुलेेंस चालक ने सेवा ठप कर दी है। सदर अस्पताल व सभी पीएचसी से एम्बुलेंस लेकर एसकेएमसीएच परिसर में जुटकर अपना विरोध दर्ज करा रहे है। इंटक एम्बुलेंस कर्मचारी संघ के जिला सचिव रीतेश सिंह ने घटना की निंदा करते हुए सिविल सर्जन व पीजीपीएल एंड एसएस के एम्बुलेंस कंट्रोल पदाधिकारी राकेश कुमार को अल्टीमेटम देते हुए कहा कि चालक के साथ मारपीट के बाद अब आंदोलन होगा। जिलाध्यक्ष कमलेश कुमार ने कहा कि शव पहुंचाकर एम्बुलेंस चालक आ रहा था। सरकारी एम्बुलेंस चालक के साथ पुलिस इस तरह से रवैया करेगी तो कैसे सेवा दिया जाए। दोषी पुलिस पर सख्त एकशन हो उसके खिलाफ मुकदमा हो तभी हड़ताल वापस होगा। इधर संघ के नेता अकबर अली ने भी पुलिस की रवैया की निंदा की है। सचिव रीतेश सिंह ने कहा कि कोरोना में जान पर हाथ रखकर एम्बूलेंस चालक काम कर रहे है। गर्मी में एईएस में भी दिनरात काम करेंगे। लेकिन पुलिस के जवान दो दिन पहले एम्बुलेंस चालक की वाहन पकड़ ली। वह कागजात दिखा रहा था उसके बाद उससे दंड की राशि ली। पुलिस के जवान या अधिकारी कहीं भी घायल होंगे उसको एम्बुलेंस की सेवा नहीें दी जाएगी। इसके साथ पूरे जिले में सेवा ठप रहेगी। एसकेएमसीएच के शव वाहन चालक राकेश ने बताया कि वह मीनापुर मिल्की गांव से शव पहुंचाकर लौट रहे थे। गंज बाजार के पास पुलिस के जवानों ने रोका। जब हमने बताया कि एसकेएमसीएच का सरकारी वाहन चला रहे है। कोई कुछ सुनने को तैयार नहीं था। सभी आरोप लगा रहे थे कि शराब का काम करता है। हमने अपने अधिकारी से बातचीत करानी चाही। कोई नहीं सुना।  वाहन जांच किया और फिर जमकर पिटाई कर दी। थाने पर लाकर चाभी व मोबाइल छीन ली। कुछ देर बात थानाध्यक्ष आए तब चाभी व मोबाइल मिला। एसकेएमसीएच में आकर इलाज कराए। एसकेएमसीएच के प्रबंधक सुहैल अख्तर को लिखित शिकायत की है। अभी शव वाहन का परिचालन ठप दिया गया है।

मांग
– शव वाहन चालक के पिटाई करने वाले पुलिसकर्मी पर प्राथमिकी दर्ज कर जेल भेजा जाए।
– लॉक डाउन में लगातार काम कर रहे एम्बुलेंस चालकों के भोजन की व्यवस्था विभाग करे उनको भोजन पैकेज वाहन पर उपलब्ध कराया।
– सरकारी एम्बुलेंस व शव वाहन  चालकों को डियूटी से घर वापसी के समय बाइक से आने-जाने के वक्त सरकार की ओर से जारी परिचय पत्र के आधार पर पुलिस जाने दे उनके साथ मारपीट व गलत व्यवहार नहीं करे।

कोई टिप्पणी नहीं: