लाॅकडाउन 2.0 की तैयारी, डीसी ने उठाए कई कदम, लोगों को भोजन देने समय सेल्फी लेने से किया मना - Live Aaryaavart

Breaking

प्रबिसि नगर कीजै सब काजा I ह्रदय राखि कौसलपुर राजा II, हरिजन जानि प्रीति अति गाढ़ी। सजल नयन पुलकावलि बाढ़ी॥, मंगल भवन अमंगल हारी I द्रवहु सुदसरथ अजिर बिहारी II, हरि अनंत हरि कथा अनंता I कहहि सुनहि बहुबिधि सब संता II, दीन दयाल बिरिदु संभारी । हरहु नाथ मम संकट भारी।I, माता पिता की सेवा करें....बुजुर्गों का ख्याल रखें...अपनी प्रतिभा और आचरण से देश का नाम रौशन करें...

गुरुवार, 16 अप्रैल 2020

लाॅकडाउन 2.0 की तैयारी, डीसी ने उठाए कई कदम, लोगों को भोजन देने समय सेल्फी लेने से किया मना

जमशेदपुर में डीसी ने कहा कि लॉकडाउन की अवधि बढ़ाने के बाद पहले की तरह ही सभी जरूरतमंद लोगों को भोजन कराया जाएगा. इसे लेकर डीसी ने नई रणनीति बनाई है. व्हाट्सएप और ईमेल के जरीए संबंधित संगठन सूचनाओं का आदान प्रदान करेके इलाके में भोजन वितरण करेंगे. 
dc-jamshedpur-order-folow-lock-down
जमशेदपुर (आर्यावर्त संवाददाता)  कोरोना वायरस के संक्रमण को रोकने के लिए सरकार ने एक बार फिर लाॅकडाउन की अवधि 3 मई तक बढ़ा दी है. वहीं जिले में जरूरतमंदों को पहले की तरह खाना और खाद्य सामग्री समय पर मिलती रहे, इसे लेकर जिले के उपायुक्त रवि शकंर शुक्ला ने एक नई रणनीति बनाई है. इसके लिए गैर सरकारी संगठनों और जिला प्रशासन के बीच समन्वय और समन्वित प्रयास करने के लिए डिस्ट्रिक्ट रिसोर्स को-ऑर्डिनेशन ग्रुप बनाया गया है. जिसका ईमेल drcgroupeastsinghbhum@gmail.com रखा गया है. इसके लिए व्हाट्सएप ग्रुप बनाया गया है. इस ईमेल और व्हाट्सएप ग्रुप में संबंधित संगठन सूचनाओं का आदान प्रदान करेंगे. इस दौरान उन्होंने खाना देने वाले समाजिक संगठनों से अपील की है कि खाना देते समय जरुरतमंदों की फोटो या सेल्फी न ले. वहीं गरीब और जरूरतमंद लोगों के बीच कई गैर सरकारी संस्था और टाटा स्टील के सीएसआर की ओर से बनाये भोजन के पैकेट वितरित किये जा रहे हैं. उन्हें जन वितरण प्रणाली के दुकानदारों के माध्यम से सरकार की ओर से राशन वितरण किया जा रहा है. विचार विमर्श के क्रम में पाया गया कि एक ही स्थान पर कई गैर सरकारी संस्थान खाद्य सामग्री उपलब्ध कराए जा रहे हैं. जबकि कुछ क्षेत्र में जरूरतमंद लोगों को अभी भी खाद्य सामग्री मिलने में दिक्कत हो रही है. इसके लिए एक गूगल फॉर्म तैयार किया जाएगा. उसका लिंक सभी संगठन को उपलब्ध कराया जाएगा. जिसमें वे खाद्यान्न वितरण से संबंधित सभी विवरण ही भर देंगे. इस विवरण के विश्लेषण के आधार पर खाद्यान्न बनाया हुआ भोजन, बांटने के लिए संस्थानों को चयनित स्थान चिन्हित किया जाएगा. उपायुक्त को मिली शिकायत के आधार पर जिला प्रशासन ने निर्णय लिया है कि एक संस्था जिस स्थान पर बनाया हुआ भोजन बांट रही है. उसी स्थान पर अगले 15 दिनों तक वो भोजन उपलब्ध कराएगी. वह बिना अनुमति के भोजन वितरण का स्थान बदल नहीं सकेंगे. भोजन वितरण घर-घर जाकर नहीं किया जाएगा, बल्कि निर्धारित जगह पर किया जाएगा. वितरण के समय सामाजिक दूरी और स्वच्छता के लिए मास्क, हैंड ग्लब्स भोजन के बर्तन की साफ-सफाई ढका हुआ भोजन होना चाहिए. वहीं सामाजिक संस्थाओं से अपील की गई है कि वे इससे दूर रहे जरूरतमंदों को भोजन देते समय सेल्फ न ले.

कोई टिप्पणी नहीं: