बिहार में कोरोना थमने का नाम नहीं ले रहा है - Live Aaryaavart

Breaking

प्रबिसि नगर कीजै सब काजा I ह्रदय राखि कौसलपुर राजा II, हरिजन जानि प्रीति अति गाढ़ी। सजल नयन पुलकावलि बाढ़ी॥, मंगल भवन अमंगल हारी I द्रवहु सुदसरथ अजिर बिहारी II, हरि अनंत हरि कथा अनंता I कहहि सुनहि बहुबिधि सब संता II, दीन दयाल बिरिदु संभारी । हरहु नाथ मम संकट भारी।I, माता पिता की सेवा करें....बुजुर्गों का ख्याल रखें...अपनी प्रतिभा और आचरण से देश का नाम रौशन करें...

मंगलवार, 21 अप्रैल 2020

बिहार में कोरोना थमने का नाम नहीं ले रहा है

जिलावार स्थिति पर नजर डालें तो सबसे अधिक सीवान में - 29,  नालंदा- 28 , मुंगेर- 20,बेगूसराय-9, पटना-7, गया-5, बक्सर- 4,नवादा-3, गोपालगंज- 3,  सारण- 1, लखीसराय- 1, भागलपुर- 1, वैशाली- 1और भोजपुर-1 है
corona-case-increasing-bihar
पटना,20 अप्रैल। मुख्यमंत्री नीतीश कुमार की सलाह पर स्वास्थ्य विभाग ने डोर-टू-डोर स्क्रीनिंग अभियान चला रखा है। एक बार सर्वे करने के पांच दिनों के बाद कोविड वाला घरों में दुबारा भ्रमण करना है। दुबारा भ्रमण के समय घरों पर (RV) अंकित करना है एवं इसका प्रतिवेदन भेजने के लिए अलग से Google sheets दिया जाएगा।मतलब कोरोना को लॉकअप कर देना है।

महिला कोरोना वारियर को सांप ने डंसा
सर्पदंश से मरने वाली कोरोना वारियर की पहचान आशा कर्मी इंदु देवी के रूप में हुई है।आशा कर्मी इंदु देवी नवादा के रोह पीएचसी में कार्यरत थीं। बिहार के नवादा में कोरोना वायरस  के शिकार संदिग्ध लोगों का पता लगाने के लिये स्क्रीनिंग करने के दौरान एक आशा कर्मी की मौत हो गई।सर्प दंश से मरने वाली कोरोना वारियर की पहचान आशा कर्मी इंदु देवी के रूप में हुई है। मृतका के पति कमलेश कुमार पांडेय ने बताया कि उनकी पत्नी सरकार के आदेशानुसार सुबह अपने गांव महरामा से स्क्रीनिंग करने के लिए घर से निकली थी तभी आधे घंटे के बाद वो भाग कर आई और उसने बताया कि सांप ने उनको डंस लिया है।

इलाज के दौरान हुई मौत
आनन-फानन में परिजनों ने उनको रोह पीएचसी में दिखाया जहां से डॉक्टरों ने उनको नवादा सदर अस्पताल रेफर कर दिया। नवादा सदर अस्पताल में आशा कर्मी की मौत इलाज के दौरान हो गई।आशा कर्मी इंदु देवी नवादा के रोह पीएचसी में कार्यरत थीं। इस घटना के बाद परिवार वालों एवं गांव के जनप्रतिनिधियों ने सरकार से मुआवजे की मांग की है, ताकि उनके गरीब परिवार का भरण पोषण हो सके

डोर-टू-डोर स्क्रीनिंग कर रही है सरकार
मालूम हो कि बिहार सरकार कोरोना को रोकने के लिए डोर-टू-डोर स्क्रीनिंग की मुहिम चला रही है ताकि कोरोना के संदिग्ध मरीजों की पहचान हो सके।बिहार में इस बीमारी के शिकार लोगों की संख्या में लगातार इजाफा हो रहा है। राज्य में कोरोना मरीजों की संख्या बढ़कर 113 पहुंच गई है जबकि सिर्फ नालंदा में 28 कोरोना मरीज है।मुंगेर में ही 20 लोगों में कोरोना का संक्रमण हो चुका है। जाहिर है मुंगेर में लगातार कोरोना का चेन बन रहा है।हालांकि सबसे अधिक अभी भी सीवान में 29 कोरोना मरीज हैं।

बिहार में  16 नए कोरोना पॉजिटिवा मरीजों की पहचान हुई। इसके साथ ही बिहार में कोरोना पीड़ितों का आंकड़ा बढ़कर 113 पर पहुंच गया है। स्वास्थ्य विभाग की ओर से इसकी पुष्टि की गई है।  सभी 16 कोरोना संक्रमित मरीज नालंदा के बिहारशरीफ में मिले। इनमेंसे 6 महिला और 10 पुरुष कोरोना पॉजिटिव पाए गए।  इसके साथ ही नालंदा में कोरोना पॉजिटिव की संख्या बढ़ कर 28 हुई। संजय कुमार की ओर से मिली जानकारी के मुताबिक ये सभी मरीज नालंदा जिले के रहने वाले हैं। जिसमें 17, 21, 23, 26, 45 और 50 साल की 6 महिलाएं शामिल हैं। इसके आलावा 14, 16, 18, 18, 19, 22 और 50 साल के मरीज शामिल हैं। इसके अतिरिक्त 60 साल के 3 और मरीज इसी जिले के रहने वाले बताए जा रहे हैं। इससे पहले बीते 24 घंटे में 4 कोरोना के पेशेंट सामने आए थे।  स्वास्थ्य विभाग के प्रधान सचिव संजय कुमार ने बताया कि नालंदा से जिस महिला की रिपोर्ट पॉजिटिव आई है वह महिला दुबई से लौटे कोरोना मरीज के संपर्क में आने से संक्रमित हुई है।  इससे पहले रविवार की देर रात 3  कोरोना मरीजों की पहचान की गई।  ये मरीज मुंगेर जिले के जमालपुर के रहने वाले हैं। जिनकी उम्र 30 साल, 36 साल और 52 साल  है। ये सभी मरीज कोरोना पॉजिटिव मरीज के संपर्क में आने से संक्रमित हुए हैं।   श्री कुमार ने बताया कि नालंदा का यह एक पॉजिटिव मरीज अब तक 10 लोगों को संक्रमित कर चुका है। जिसमें नालंदा के बिहारशरीफ का एक डाक्टर भी शामिल है। इसी मरीज के कारण पटना में भी एक पॉजिटिव मरीज सामने आया है, जो इसका ससुर बताया जा रहा है। पटना सिटी में सुल्तानगंज थाना इलाके के मेवा लाल साव लेन में यह मरीज सामने आया था। बिहार स्वास्थ्य विभाग की ओर से जारी ताजा आंकड़े के मुताबिक सूबे में 42 पॉजिटिव लोग अब तक कोरोना जैसी जानलेवा बीमारी को हराकर नए जीवन को हासिल किया है। सूबे में अभी फिलहाल 52 केस एक्टिव हैं।  बिहार में अब तक 11339 कोरोना के संदिग्ध मरीजों की जांच की गई है।  स्वास्थ्य विभाग के मुताबिक 2 लोगों की मौत अब तक कोरोना के कारण बिहार में हुई है।  एक व्यक्ति की मौत इसी तीन दिन के अंदर ही हुआ है।  राज्य में 302 क्वारंटाइन केंद्र बनाये गए हैं।

कोरोना संक्रमितों की जिलावार संख्या
जिलावार स्थिति पर नजर डालें तो सबसे अधिक सीवान में - 29,  नालंदा- 28 , मुंगेर- 20,बेगूसराय-9, पटना-7, गया-5, बक्सर- 4,नवादा-3, गोपालगंज- 3,  सारण- 1, लखीसराय- 1, भागलपुर- 1, वैशाली- 1और भोजपुर-1 है।

कोई टिप्पणी नहीं:

Loading...