धरासायी हो रही है कच्चे तेल (क्रूड ऑयल)का भाव - Live Aaryaavart

Breaking

प्रबिसि नगर कीजै सब काजा I ह्रदय राखि कौसलपुर राजा II, हरिजन जानि प्रीति अति गाढ़ी। सजल नयन पुलकावलि बाढ़ी॥, मंगल भवन अमंगल हारी I द्रवहु सुदसरथ अजिर बिहारी II, हरि अनंत हरि कथा अनंता I कहहि सुनहि बहुबिधि सब संता II, दीन दयाल बिरिदु संभारी । हरहु नाथ मम संकट भारी।I, माता पिता की सेवा करें....बुजुर्गों का ख्याल रखें...अपनी प्रतिभा और आचरण से देश का नाम रौशन करें...

गुरुवार, 23 अप्रैल 2020

धरासायी हो रही है कच्चे तेल (क्रूड ऑयल)का भाव

crude-oil-price-colapsed
अरुण शाण्डिल्य (बेगूसराय) कोरोना वायरस के संकट के कारण दुनिया में अब कच्चा तेल पानी से भी सस्ता होने की संभावना है। सोमवार को अमेरिकी क्रूड ऑयल की कीमत जीरो से भी नीचे लुढ़कते हुए -40 डॉ़लर प्रति बैरल पर पहुँच गया है। यह पहला मौका है,जब कच्चे तेल की कीमतों में इतनी बड़ी गिरावट देखने को मिली है।सऊदी अरब से लेकर रुस और अमेरिका तक की ओर से कच्चे तेल के लगातार उत्पादन और मांग में कमी के चलते यह स्थिति पैदा हुई है।हालात यह है कि आज दुनिया भर में कच्चा तेल यानी (क्रूड ऑयल) का कोई खरीददार ही नहीं है।  उल्लेखनीय है कि दूसरे विश्व युद्ध के बाद यह पहला मौका है,जब कच्चे तेल की कीमत जीरो के लेवल पर पहुँच गई है।कच्चे तेल की कीमतों में गिरावट कोरोना के संकट से पहले से ही जारी थी।इसके बाद कोरोना ने क्रूड ऑयल के लिए कोढ़ में खाज जैसा काम कर दिया है। बीते कई महीनों से लुढ़क रहे कच्चे तेल के दाम मार्च के अंत में 20 डॉलर प्रति बैरल तक पहुँच गए थे।इसका सीधा गणित है कि  इस समय माँग से कहीं अधिक आपूर्ति है।खासतौर पर ओपेक देशों की सप्लाई और फिर अमेरिका की ओर से जारी आपूर्ति के बाद यह संकट और गहरा गया है।वजह यह है कि दोनों ही पक्षों की ओर से कटौती पर समय रहते सहमति नहीं बन पाई। गौरतलब है कि कीमतों का निगेटिव में जाने का अर्थ है कि बेचने के लिए सामान के साथ खरीददार को भी कीमत चुकानी पड़ती है। ज्ञात हो कि कोरोना वायरस के कारण दुनिया में जारी लॉक डाउन के मद्देनजर उड़ाने बंद हैं।वहानों के पहिये थम गये हैं।इस स्थिति में कच्चे तेल की माँग में गिरावट तो स्वभाविक ही है।माँग की तुलना में आपूर्ति अधिक होने के कारण कच्चे तेल की कीमतों में भारी गिरावट जारी है।इसपर भी आश्चर्य तो यह है कच्चा तेल जब टेलशोधकों जैसी शुद्धता की प्रक्रिया से गुजरते हुए जब मार्केट के व्यवसायीक संस्थान (पेट्रोल पम्प)पर जब आती है तो उसकी कीमत आज भी यथावत ही है।

कोई टिप्पणी नहीं:

Loading...