हमलोग कोरोना वायरस से बचा रहे हैं, आप प्लीज़ हमें हिंसा से बचा लीजिए - Live Aaryaavart

Breaking

प्रबिसि नगर कीजै सब काजा I ह्रदय राखि कौसलपुर राजा II, हरिजन जानि प्रीति अति गाढ़ी। सजल नयन पुलकावलि बाढ़ी॥, मंगल भवन अमंगल हारी I द्रवहु सुदसरथ अजिर बिहारी II, हरि अनंत हरि कथा अनंता I कहहि सुनहि बहुबिधि सब संता II, दीन दयाल बिरिदु संभारी । हरहु नाथ मम संकट भारी।I, माता पिता की सेवा करें....बुजुर्गों का ख्याल रखें...अपनी प्रतिभा और आचरण से देश का नाम रौशन करें...

रविवार, 5 अप्रैल 2020

हमलोग कोरोना वायरस से बचा रहे हैं, आप प्लीज़ हमें हिंसा से बचा लीजिए

प्रधानमंत्री ने स्वास्थ्य वॉरियस की तुलना सीमा पर खड़े जवानों से की। लेकिन हम तो निहत्थे लड़ रहे हैं, हम आपको कोरोना वायरस से बचा रहे हैं, आप प्लीज़ हमें हिंसा से बचा लीजिए..
docter-appeal-please-save-us
इंदौर,05 मार्च (आर्यावर्त संवाददाता) । डॉ सारिका वर्मा कहती हैं 'मैं एक डॉक्टर हूँ'।वह कहती हैं कि पिछले दिनों के इंदौर की घटना का वीडियो देखकर सिहर गई हूं, ऐसा लगा मानो मुझपर हमला हो रहा है। बता दें कि इस तरह की घटना केवल इंदौर का ही नहीं है परंतु अनेकों जगहों में होने लगा है। कारण कि मानसिक तनाव का प्रतिफल है। लोग प्रतिष्ठा से जोड़कर देखने लगे हैं। तबलीगी जमात के बाद तो कोरोना को लेकर मुस्लिम जनित मर्ज बनाने में लग गये हैं।हालांकि यह एक कोरोना वायरस है।जो 190 से अधिक देशों में प्रसार कर गया है। 12,16,422 पुष्ट आकंड़ा है। 2,52,478 ठीक हुआ है और 65,711 लोगों की मौत हो गयी है। इन देशों से आने वालों की स्क्रीनिंग जरूरी है। आज भारत की स्थिति यह है कि 274 जिलों में प्रसार हो गया है। 3374 कोरोना वायरस की चपेट में हैं। 267 ठीक हो गए हैं। 79 लोगों की मौत हो गयी है। 24 घंटे में472 पॉजिटिव मरीज मिले हैं।वहीं बिहार में 32 पॉजिटिव मरीज हैं। एक मो.सैफ की मौत हो गयी है।चार पॉजिटिव मरीज निगेटिव हो गये। जब स्वास्थ्यकर्मी स्क्रीनिंग करने जाते हैं तो उन कर्मियों पर लोगों के द्वारा हमला कर दिया जा रहा है। ऐस लोग किसी तरह जान बचाकर भाग रहे हैं। दो महिला डॉक्टर घायल हो गईं, उनके पाँव में पत्थर से चोट लगी। हम डॉक्टरों पर पहले से ही इतना दबाव है। हम हर संभव कोशिश कर रहे हैं कि देशवासियों को कोरोना से बचा लें, पर हमें कौन बचाएगा? प्लीज़ हमारी मदद करें।प्रधानमंत्री जी डॉक्टरों और अन्य स्वास्थ्य कर्मियों के साथ किसी प्रकार की हिंसा को तुरंत गैर जमानती अपराध बनाएं। इससे हम बिना डरे अपने ड्यूटी कर पाएंगे। प्रधानमंत्री ने हमारी तुलना सीमा पर खड़े जवानों से की। लेकिन हम तो निहत्थे लड़ रहे हैं, हम आपको कोरोना वायरस से बचा रहे हैं, आप प्लीज़ हमें हिंसा से बचा लीजिए। सिवान के क्वारंटाइन सेंटर में शनिवार के दिन हुए हंगामे को नीतीश सरकार ने गंभीरता से लिया है। सरकार ने सिवान के डीएम और एसपी को इस मामले में जमकर क्लास लगाई है।सिवान के जिलाधिकारी और पुलिस अधीक्षक को यह निर्देश दिया गया है कि क्वारंटाइन सेंटर में हंगामा करने वाले कोरोना संदिग्धों के ऊपर एफआईआर दर्ज किया जाये।  राज्यके डीजीपी गुप्तेश्वर पांडे ने कहा है कि सिवान के क्वारंटाइन सेंटर में हंगामा करने वाले दोषियों के ऊपर सख्त कार्रवाई की जाएगी।सरकार ने कहा है कि इस मामले में जो भी दोषी हैं, उनके खिलाफ एफ आई आर दर्ज की जाएगी।उनकी क्वारंटाइन अवधि खत्म होने के बाद कानूनी कार्यवाही भी होगी। डीजीपी गुप्तेश्वर पांडे ने कहा है कि जो लोग भी कोरोना वायरस से निपटने के लिए सरकार की तरफ से उठाए जा रहे कदमों का विरोध कर रहे हैं।उनके खिलाफ कानूनी कार्यवाही की जाएगी और उन्हें जेल भी भेजा जायेगा। आपको बता दें कि सिवान में रघुनाथपुर के राजपुर मिडिल स्कूल में क्वारंटाइन सेंटर बनाया गया है जहां कोरोना के संदिग्धों को रखा गया था।लेकिन शनिवार को कोरोना के संदिग्धों ने वहां तैनात सरकारी कर्मचारियों पर हमला कर दिया था। इन संदिग्धों ने जमकर नारेबाजी भी की थी। जिसके बाद सरकारी कर्मचारी वहां से भाग खड़े हुए थे। सरकार ने इस मामले को बेहद गंभीरता से लेते हुए कड़ी कार्यवाही का आदेश दिया है।

कोई टिप्पणी नहीं:

Loading...