मानवता हुई शर्मसार, सड़क पर बेसुध पड़े युवक को किसी ने नहीं पहुंचाया अस्पताल - Live Aaryaavart

Breaking

प्रबिसि नगर कीजै सब काजा I ह्रदय राखि कौसलपुर राजा II, हरिजन जानि प्रीति अति गाढ़ी। सजल नयन पुलकावलि बाढ़ी॥, मंगल भवन अमंगल हारी I द्रवहु सुदसरथ अजिर बिहारी II, हरि अनंत हरि कथा अनंता I कहहि सुनहि बहुबिधि सब संता II, दीन दयाल बिरिदु संभारी । हरहु नाथ मम संकट भारी।I, माता पिता की सेवा करें....बुजुर्गों का ख्याल रखें...अपनी प्रतिभा और आचरण से देश का नाम रौशन करें...

शुक्रवार, 24 अप्रैल 2020

मानवता हुई शर्मसार, सड़क पर बेसुध पड़े युवक को किसी ने नहीं पहुंचाया अस्पताल

सरायकेला में एक युवक अचानक बेसुध होकर सड़क पर गिर गया, लेकिन किसी ने उसे उठाकर अस्पताल नहीं पहुंचाया. घंटों बाद किसी ने उसकी पहचान की, जिसके बाद उसके परिजनों को मामले की जानकारी दी गई. परिजनों ने मौके पर पहुंचकर उसे उठाया और अस्पताल में भर्ती करवाया.
humanity-fall-saraikela
सरायकेला (आर्यावर्त संवाददाता) : कोरोना वायरस का खौफ देश और दुनया के लोगों बना हुआ है. इस खतरनाक वायरस से बचाव को लेकर लोग अपने आप को पूरी तरह सुरक्षित रखने का प्रयास कर रहे हैं. लोग कोरोना के खौफ मे मानवता को भी भूल गए हैं. कुछ ऐसा ही मामला सरायकेला जिले के आदित्यपुर रेलवे स्टेशन के पास देखने को मिला. मंगलवार को सरायकेला जिले के आदित्यपुर रेलवे स्टेशन के पास एक सेवानिवृत्त रेलकर्मी बीमार होने के कारण सड़क पर अचानक गिर पड़ा और उसकी सांसे भी तेज चलने लगी. उस सड़क से कई लोग गुजरे, लेकिन किसी ने भी उसे उठाकर अस्पताल नहीं पहुंचाया. घंटों बाद कुछ स्थानीय लोगों ने सड़क पर बेसुध गिरे व्यक्ति की पहचान सेवानिवृत्त रेलकर्मी के रूप में की और उसके परिजनों को सूचना दी, जिसके बाद परिजनों ने उसे अस्पताल में भर्ती करवाया, जहां सेवानिवृत्त रेलकर्मी का इलाज जारी है. उसकी स्तिथि भी गंभीर बनी हुई है. कोरोना वायरस के संक्रमण का खतरा अब लोगों के बीच दिन-ब-दिन बढ़ता जा रहा है. आलम यह है कि लोग अब सोशल डिस्टेंस का इतना ज्यादा ख्याल रखने लगे हैं, कि किसी भी बीमार लोगों की सहायता करने से कतराने लगे हैं.

कोई टिप्पणी नहीं: