झाबुआ (मध्यप्रदेश) की खबर 26 अप्रैल - Live Aaryaavart

Breaking

प्रबिसि नगर कीजै सब काजा I ह्रदय राखि कौसलपुर राजा II, हरिजन जानि प्रीति अति गाढ़ी। सजल नयन पुलकावलि बाढ़ी॥, मंगल भवन अमंगल हारी I द्रवहु सुदसरथ अजिर बिहारी II, हरि अनंत हरि कथा अनंता I कहहि सुनहि बहुबिधि सब संता II, दीन दयाल बिरिदु संभारी । हरहु नाथ मम संकट भारी।I, माता पिता की सेवा करें....बुजुर्गों का ख्याल रखें...अपनी प्रतिभा और आचरण से देश का नाम रौशन करें...

सोमवार, 27 अप्रैल 2020

झाबुआ (मध्यप्रदेश) की खबर 26 अप्रैल

कोरोना वारिर्यस पुलिस कर्मचारीयो का पुष्प वर्षा कर किया स्वागत

jhabua news
पारा। कांेविड 19 कोरोना वायरस के चलते नगर मे एक माह से टोलटल लाकडाउन मे दिन रात अपनी सेवाए दे रहे पुलिस विभाग के कोराना वारिर्यस पुलिस कर्मचारीयो का पारा नगर के नागरीको ने पुष्प वर्षा कर स्वागत किया। शुक्रवार कि देर शाम को पारा नगर मे पुलिस के जवानो व अधिकारीयो ने नगर के प्रमुख मार्गो से फ्लेग मार्च निकाला जो कि पुलिस चौकि से आरंभ होकर बस स्टेण्ड राम मंदिर गली कोठारी मोहल्ला सदर बाजार,  बसेर चैक नया पुरा व राजगढ रोड होते हुवे पुनः पुलिस चोकि प्रांगण मे पहुचा। इसी दोरान ग्राम पंचायत पारा के सोजन्य से पुर्व सरपंच ओकारसिह डामोर उप सरपंच दिपेश जैन के नेत्त्व मे नगर के सभी नागरीको ने नगर मे अपनी जान जोखीम मे डालकर चिलचिलाती धुप मे अमुल्य सेवा दे रहै पुलिस विभाग के समस्त अधिकारीयो कर्मचारीयो व जवानो का ताली बजा कर व पुष्प वर्षा कर स्वागत किया वही महिलाओ ने थाली बजा कर स्वागत किया व पुलिस का मनोबल बढाया। इस दोरान सभी नगारीको ने मास्क लगाकर सोश्यल डिस्टेंसीग का पालन किया । साथ ही पारा पुलिस चैकि के पुर्व प्रभारी रमेश कोली का नागरीक अभीनंदन किया गया। इस अवसर पर चैकि प्रभारी केसर सिह पाडव, एएसआई रमेश गेहलोत सहीत दो दर्जन से भी ज्यादा पुलिस के जवान व नगर के समस्त गणमान्य नागरीक उपस्थित थे। उपस्थित नागरीको भारत माता कि जय जय कारा व वन्दंे मातरम के नारे लगाए।

कोरोना के कारण वर्षीतप तपस्वी का पारणा होगा निज निवास पर

jhabua news
पारा । जिनशासन में अक्षय तृतीया की बड़ी महत्ता होती है। जहाँ वर्षभर की तपस्याओं की  पूर्णाहुति की जाती है। गुरुदेव पूण्य सम्राट जयंतसेन सूरीश्वर जी मसा एवं वर्तमान गच्छाधिपति नित्यसेन सूरीश्वर जी कृपा से नगर की वरिष्ठ श्राविका श्रीमती निर्मला पत्रकार अमृतलाल जैन के दूसरे वर्षीतप आराधना की पूर्णाहुति आज अक्षय तृतीया पर अपने निजी निवास पर किया जाएगा।  लोकडाउन के चलते सभी सामाजिक एवं धार्मिक आयोजनों को प्रशासन के आदेशानुसार निरस्त कर दिए गए है।श्रीमती जैन ने बताया कि इस वर्षभर की तपस्या की पूर्णाहुति का पारणा गच्छाधिपति नित्यसेन सूरीश्वर जी मसा की निश्रा में विधायक चैतन्य काश्यप द्वारा किया जा रहा था लेकिन कोरोना के कारण अपने घर पर ही गच्छाधिपति से मांगलिक प्राप्त कर पारणा करेंगे। क्योंकि धर्म बड़ा परंतु वर्तमान की परिस्तिथियों के चलते देशहित के लिए घर पर ही पारणा किया जाएगा। 

विधायक कांतिलाल भूरिया षिवराज सरकार पर पडे भारी

jhabua news
झाबुआ। पूर्व केंद्रीय मंत्री झाबुआ विधायक कांतिलाल भूरिया के अथक प्रयास के चलते तथा उनके नेतृत्व रतलाम संसदीय क्षेत्र के विधायकगण सुश्री कलावती भूरिया, वाल सिंह मेड़ा, वीर सिंह भूरिया, मुकेश पटेल ,हर्ष विजय गहलोत, झाबुआ जिला कांग्रेस अध्यक्ष निर्मल मेहता अलीराजपुर जिला कांग्रेस अध्यक्ष महेश पटेल  युवा नेता डॉ विक्रांत भूरिया एवं कांग्रेस पदाधिकारियों के द्वारा पिछले 15 दिन से लगातार प्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चैहान से मध्य प्रदेश के प्रवासी मजदूर आदिवासी भाई जो हजारों की संख्या में लॉक डाउन के कारण देश के गुजरात राजस्थान महाराष्ट्र उत्तर प्रदेश एवं अन्य राज्यों में होने के कारण वहां दोहरी मार झेल रहे थे। एक तरफ से बेरोजगार हो गए थे तथा वे भुखमरी के कगार पर पहुंच गए थे। कई मजदूर खुले में होने के कारण बीमार पड़ने लगे थे किंतु उनकी सुध लेने वाला कोई नहीं था प्रवासी मजदूर परिवार बार-बार कांतिलाल भूरिया सहित अन्य विधायकों को फोन कर एवं वीडियो डालकर अपनी व्यथा बता रहे थे तथा घर वापसी की गुहार लगा रहे थे। श्री भूरिया ने प्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चैहान एवं प्रदेश के महामहिम राज्यपाल को पत्र लिखकर प्रदेश के प्रवासी मजदूरों को अपने घर पहुंचाने की मांग की गई थी  एवं दिनांक 23 तारीख को झाबुआ जिला मुख्यालय में कलेक्टर महोदय को महामहिम राज्यपाल के नाम ज्ञापन भी सौंपा था उसी दिन भाजपा के तथाकथित नेताओं द्वारा प्रशासन पर दबाव डालकर कांतिलाल भूरिया सहित अन्य कांग्रेसी नेताओं के खिलाफ जानबूझकर एफ आई आर दर्ज करवाई गई जिसकी पूरे प्रदेश में सरकार के प्रति गहरा आक्रोश व्याप्त होने लगा था ज्ञातव्य है कि रतलाम संसदीय क्षेत्र के भाजपा नेता एवं सांसद गुमान सिंह डामोर में पिछले हफ्ते मुख्यमंत्री को पत्र लिखकर इन मजदूरों को वहीं पर रहने की सलाह दी थी तथा उसे अपने घर लाने से मना करवा दिया थां। इस कारण झाबुआ अलीराजपुर रतलाम एवं अन्य जिलों के के आदिवासी समाज में गुमान सिंह के प्रति भी गहरा आक्रोश था। वहीं मध्य प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री एवं प्रदेश कांग्रेस के अध्यक्ष कमलनाथ ने भी भूरिया के प्रयासों का समर्थन करते हुए राज्य सरकार पर प्रवासी मजदूरों को मध्यप्रदेश में लाने का दबाव डाला था। मजबूर होकर शिवराज सिंह चैहान को भूरिया की बात माननी पड़ी एवं एवं प्रवासी मजदूरों को लाने के लिए जिला प्रशासन को निर्देश जारी करने पड़े मुख्यमंत्री श्री चैहान को निर्णय लेना पड़ा कि लॉक डाउन के कारण अन्य राज्यों में फंसे मजदूरों को सरकार मध्यप्रदेश में वापस लाएगी इसके लिए उन्होंने सभी कलेक्टर को निर्देशित किया है। इस संबध में राजस्थान गुजरात महाराष्ट्र उत्तर प्रदेश आदि के मुख्यमंत्रियों से उन्होंने प्रवासी बंधुओं को वापस भेजने हेतु सहायता मांगी है। मध्यप्रदेश में भी नहीं एक जिले से दूसरे जिले में फंसे मजदूर भी अपने-अपने घरों पर पहुंच सकेंगे इसके लिए आवश्यक कार्रवाई केंद्र सरकार की गाइडलाइन के आधार पर की जाएगी जिला कांग्रेस मैं मुख्यमंत्री के इस निर्णय का स्वागत किया है। आशा है कि जल्द ही प्रवासी मजदूर अपने परिवार से मिल सकेंगे। जिला कांग्रेस अध्यक्ष निर्मल मेहता पूर्व अध्यक्ष सुरेश चंद जैन जिला कांग्रेस कार्यवाहक अध्यक्ष हेमचंद डामोर रूप सिंह डामोर पूर्व विधायक जेवियर मेडा जिला पंचायत अध्यक्ष शांति डामोर नगर पालिका अध्यक्ष मनुबेन डोडियार ब्लॉक कांग्रेस अध्यक्ष कान्हा गूंडिया यामीन शेख गेंदाल डामोर अग्नि नारायण सिंह नरेंद्र पाल सिंह सलुनिया भूर सिंह कैंसर डामोर फतेह सिंह कैलाश डामोरशहर कांग्रेस अध्यक्ष गौरव सक्सेना प्रवक्ता गण आचार्य नामदेव हर्ष भट्ट संभागीय प्रवक्ता साबिर फित्वेल कांग्रेस नेता चंद्रवीर सिंह राठौड़ कलावती गहलोत शारदा डामोर आकमल सिंह डामोर संता तेरसिंह भूरिया विजय पांडे चंदू भाई पडियार मानसिंह मेड़ा शंकर भूरिया आशीष भूरिया राय सिंह गहलोत राजेश भट्ट बंटू अग्निहोत्री विनय भाबर मनीष व्यास गोपाल शर्मा विजय भाबर रिंकू रुनवाल अविनाश डोडियार विजय शाह आदि में मध्य प्रदेश के प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष कमलनाथ एवं कांतिलाल भूरिया एवं विधायक गणों के प्रति आभार व्यक्त किया।

भारतीय स्त्री संगठन ने देष सेवा में लगे पुलिसकर्मियों को वितरित किए ग्लूकोज के पैकेट और सेनेटाईजर

jhabua news
झाबुआ। भारतीय स्त्री संगठन की प्रदेष अध्यक्ष श्रीमती किरण शर्मा के नेतृत्व में संगठन की पदाधिकारी मातृ शक्तियों ने 24 अप्रेल, शुक्रवार को दोपहर कोरोना वायरस (कोविड-19) से रोकथाम हेतु शहर में लगे संपूर्ण लाॅकडाउन के बीच मुख्य बाजारों और तिराहो-चैराहों पर देष सेवा में लगे पुलिसकर्मियों को उनके स्थान पर जाकर ग्लूकोज के पैकेट और सेनेटाईजर का वितरण किया। भारतीय स्त्री संगठन की पदाधिकारियों में श्रीमती किरण शर्मा, प्रवीणा माथुर, वंदना जोषी, लता देवल, अंजु शर्मा, अर्चना सिसौदिया, अंबिका टवली आदि ने मुंह पर मास्क लगाकर एवं हाथों को सेनेटाईज कर शहर के मुख्य बाजारों में निकलते हुए मुख्य बाजारों और तिराहो-चैराहों पर संपूर्ण लाॅकडाउन के बीच शहर की जनता की सुरक्षा की दृष्टि से तैनात पुलिसकर्मियों को भीषण गर्मी में एनर्जी के लिए इलेक्ट्राल पाउडर के पैकेट और हाथों को सेनेटाईज करते रहने के लिए हेंड वाॅष का वितरण किया। साथ ही इस दौरान पुलिसकर्मियों से उनकी कुषलक्षेत्र भी पूछी गई। 

श्री संकट मोचन हनुमान मंदिर सेवा समिति द्वारा आयोजित घर बैठे आॅनलाईन गीत प्रतियोगिता के आए परिणाम, ये रहे विजेता

झाबुआ। श्री संकट मोचन हनुमान मंदिर सेवा समिति हनुमान टेकरी झाबुआ द्वारा कोरोना वायरस से रोकथाम हेतु लगे संपूर्ण लाॅकडाउन के बीच शहर के कक्षा प्रथम से लेकर 12वीं तक के विद्यार्थियों के लिए घर बैठे आॅनलाईन गीत प्रतियोगिता का आयोजन किया गया। जिसका विषय ईष्वर से वंदना-प्रार्थना (ईष वंदना) रखा गया। प्रतियोगिता में कुल 40 प्रतिभागियों ने हिस्सा लिया। यह प्रतियोगिता जूनियर एवं सीनियर वर्ग में रखी गई। जानकारी देते हुए समिति अध्यक्ष अरूण भावसार एवं वरिष्ठ सदस्य गजेन्द्रसिंह चंद्रावत ने बताया कि प्रतिभागियों द्वारा आॅनलाईन घर पर ही रहकर ईष्वर से प्रार्थना और वंदना का वीडियों बनाकर व्हाट्स पर समिति के सदस्यों को भेजे गए। जिनका चयन निर्णायक समिति में शामिल महेन्द्रकुमार खुराना, श्रीमती आभा इंदरसिंह तोमर, नितेष तिवारी एवं श्रीमती पूजा मुकेष कोठारी द्वारा किया गया। जिसमें जूनियर वर्ग में प्रथम माही पाटीदार, द्वितीय अवनी भावसार एवं आदर्ष गीते संयुक्त रूप से तथा तृतीय वैभवी त्रिवेदी रहीं। इसी प्रकार सीनियर वर्ग में प्रथम महिमा राणावत, द्वितीय स्वरा कोठारी एवं तृतीय मानस निनामा, सुदीप्ता नायडू तथा दिषा कटलाना रहीं। विजेताओं के साथ प्रतियोगिता में हिस्सा लेने वाले सभी प्रतियोगियों को भी पुरस्कार लाॅकडाउन समाप्ति के बाद सिसौदिया एकेडमी की ओर से जितेन्द्रसिंह सिसौदिया के सौजन्य से प्रदान किए जाएंगे।

जिला कोरन्टीन केंद्रों पर बेवजह निकट राज्यों के लोगो को किया आइसोलेट - कही जिलें को मुसीबत में ना डाल दे
प्रशासन ने स्थानीय 26 लोगो को छोड़ा शेष 52 का क्या कसूर
jhabua news
थांदला। जिलें में कलेक्टर प्रबल सिपाहा के निर्देश पर सभी विधानसभा क्षेत्रों पर एक से अधिक कोरन्टीन केंद्रों की स्थापना कर वहाँ बाहर से आने वाले लोगो की जाँच करते हुए उन्हें 14 दिन तक आइसोलेट कर छोड़ा जाना था। लेकिन झाबुआ जिले में जिले ही नही वरन मध्यप्रदेश के अन्य दूर दराज जिलों के साथ निकटवर्ती राज्य राजस्थान व गुजरात के लोगो को कोरन्टीन करना समझ से परे है। बताया जा रहा है कि ऐसे में कोरन्टीन हुए ये लोग स्वयं को कैदी महसूस करते हुए उपद्रव करते हुए आइसोलेट के लिये बनाये शासकीय भवन को क्षति पहुँचा रहे है वही कुछ तो भाग भी गए है जिनका पता भी पुलिस नही लगा पाई है जबकि सभी जिलों की सीमाएं भी सील है। ऐसे में इन लोगो का पहले तो रखा जाना फिर पुलिस के पहरे से भाग जाना अनेक सवालिया निशान खड़े करते हुए झाबुआ जिले को भो खतरें में डाल रहा है। पिछले कुछ दिनों पहले गुजरात बॉर्डर से कुछ गुजरात निवासी को लाकर थांदला आईटीआई (आइसोलेशन केंद्र) पर रखा गया था जबकि जिला कलेक्टर चाहते तो गुजरात कलेक्टर से बात कर उन्हें गुजरात ही भेज सकते थे। यही नही झाबुआ जिले के निकटवर्ती राज्य अपने यहाँ से मजदूरों को भगा रहे है अथवा मजदूर व अन्य वहाँ से चोर रास्ते से मध्यप्रदेश की सीमा में आसानी से प्रवेश कर रहे है यदि प्रशासन वाहन की व्यवस्था कर उनको उनके घरों तक पहुँचा कर उन्हें वहाँ के प्रशासन के सुपुर्द कर देता तो हो सकता है जिलें की कई समस्याओं का समाधान हो जाता लेकिन उनके ऐसा नही करने से एक तो शासकीय भवनों को क्षति पहुँच रही है वही तमाम सुविधाओं के लिये शासन की राशि का भी दुरुपयोग ही हो रहा है बावजूद ये लोग अपने आप को कैदी मान रहे है। 

प्रशासन ने स्थानीय 26 लोगो को छोड़ा शेष 52 का क्या कसूर
कोरोना संकट के पूर्व पलायन पर गए झाबुआ जिले की थांदला तहसील के 26 मजदूर जो सूरत से पैदल चलकर थान्दला की ओर आ रहे थे उन्हें 9 अप्रैल को स्थानीय प्रशासन द्वारा स्थानीय आईटीआई कॉलेज में क्वॉरेंटाइन सेंटर में रखा था, 14 दिन की समय अवधि पूर्ण होने पर उन्हें स्थानीय प्रशासन के माध्यम से स्वास्थ्य अधिकारी डॉ अनिल राठौर, डॉक्टर संजय कटारा व लैब टेक्नीशियन निखिलेश नामदेव द्वारा स्वास्थ्य परीक्षण कर उन्हें स्वस्थ पाए जाने पर छोड़ दिया गया इस अवसर पर अनुविभागीय राजस्व अधिकारी जी.एस बघेल ने क्वॉरेंटाइन अवधि पूर्ण होने वाले स्थानीय मजदूर जो समीपवर्ती ग्राम परवलिया काकनवानी मोरझरी के थे उन्हें कहा कि यदि उन्हें कोई स्वास्थ्य संबंधी परेशानी हो तो तत्काल प्रशासन को अवगत करवाएं वह कोरोना के चलते लॉक डाउन का सख्ती से पालन करें। लेकिन वही इनके पूर्व से ही 52 लोग जो मध्यप्रदेश, उत्तर प्रदेश व राजस्थान के है उन्हें आज एक माह होने को आया तब भी उन्हें घर भिजवाने की कोई व्यवस्था नही की गई है। उनका कहना है कि जिला उच्चाधिकारियों को अवगत करवा दिया गया है इस सम्बंध में वही निर्णय लेंगे। अब जिला कलेक्टर को तय करना है कि अबतक कोरोना महामारी से बचा हुआ यह जिला कही इस तरह की सीमावर्ती क्षेत्रों से जबरन रखे जाने वाले मजदूर व अन्य लोगों की वजह से खतरें में न पड़ जाए। वैसे भी जिलें के लोग अब बाहरी व्यक्तियों से डरे हुए है इसलिये शासन प्रशासन को भी चाहिए कि वह सभी बाहरी मजदूर व अन्य लोगो को उनके घरों तक पहुँचाये व उन्हें वही कोरन्टीन करने का निर्णय ले।

रमजान का महीना और रखे जाएंगे रोजे, नायक सदर कादर ने की अपील

jhabua news
थांदला। कोरोना संकट के बीच देश के कई हिस्‍सों में शुक्रवार को चांद दिखाई दिया है। इस तरह से मुस्लिमों के पवित्र महीने रमजान की शुरुआत हो चुकी है। थांदला मुस्लिम कमेटी के मौलाना ईस्माइल  कादरी, सदर कदरुद्दीन शेख व नायक सदर कादर शेख ने सभी मुसलमानों को बधाई देते रमजान मुबारक मैं सभी की सुरक्षा, कल्याण और समृद्धि के लिए प्रार्थना करते हुए कहा कि यह पवित्र महीना अपने साथ दया, सदभाव और करुणा लेकर आए। पूरा देश कोविड 19 के खिलाफ चल रही लड़ाई में एक साथ खड़ा है इस दिशा में थांदला के नयाब सदर कादर शेख ने तमाम मुसलमानों से हाथ जोड़कर गुजारिश कि है कि लॉक डाउन की स्थिति में आप सभी मस्जिद में न जाते हुए घर पर रहकर ही नमाज अदा करें व खुदा की इबादत कर तराबी रोजा इफ्तार भी अपने-अपने घर पर ही करें व लॉक डाउन का सख्ती से पालन करें। सभी रोजा रखकर फालतू बाजारों में ना घूमें एवं जिस तरह अल्लाह ताला को भी एकांत इबादत पसंद है वैसे ही अकेले रहकर ही खुदा की इबादत करें। सभी मुस्लिम हर नमाज रोजा खोलते वक्त अल्लाह से दुआ करें कि अल्लाह ताला हिंदुस्तान के कोने कोने से इस बीमारी को खत्म कर हिंदुस्तान की हिफाजत करें।

राष्ट्रीय मानवाधिकार एवं महिला बाल विकास आयोग की पहल पर मूक पक्षियों के लिए मिले जल-पात्र, झकनावदा क्षेत्र के लोगांे को उपलब्ध करवाएं

jhabua news
झाबुआ। वैश्विक महामारी कोरोना वायरस (कोविड-19) जैसी जानलेवा और भयावह महामारी के चलते झाबुआ जिले में संपूर्ण लाॅकडाउन लगा हुआ है। इस बीच जिले  झकनावदा क्षेत्र में भी संपूर्ण लाॅकडाउन का पूर्णतः पालन हो रहा है। झकनावदा में राष्ट्रीय पक्षी मोरांे की संख्या करीब 400 है। वर्तमान में भीषण गर्मी के कारण मोर प्रतिदिन आहार-जल की तलाष में विचरते हुए क्षेत्र की सडकों पर आ रहे है। जिससे उनके आवारा श्वान आदि का शिकार बनने की संभावना बढ़ गई है। जिसे देखते हुए राष्ट्रीय मानवाधिकार एवं महिला बाल विकास आयोग के प्रतिनिधि प्रदेश अध्यक्ष मनीष कुमट द्वारा पेटलावद वन विभाग के अधिकारी से मोबाइल पर संपर्क कर मूक-पक्षियों के साथ राष्ट्रीय पक्षी मोर के लिए भीषण गर्मी में वह सड़कों पर ना आए एवं उनके लिए पानी की व्यवस्था हो सके, इस हेतु जल पात्र उपलब्ध करवाने की मांग की गई। जिस पर वन परिक्षेत्र अधिकारी पेटलावद जूलियस पिपलाद ने अपनी टीम के साथ झकनावदा पहुंचकर प्रतिनिधि प्रदेश अध्यक्ष मनीष कुमट एवं संजय व्यास को 25 नग सीमेंट के जल पात्र प्रदान किए एवं कहा कि यह आपको जहां भी उचित लगे, जहां मूक पक्षी दाना-पानी चुगने के लिए आते हो, वहां सुरक्षित स्थान पर रखे एवं प्रतिदिन इनमें जल भरने की व्यवस्था करे। इस अवसर पर परिक्षेत्र सहायक मोहनसिंह सिंगार झकनावदा, बीट गार्ड शैलेष वसुनिया झकनावदा, बीट गार्ड कृपालसिंह मोहनिया मोकमपुरा आदि उपस्थित थे। इस कार्य हेतु श्री कुमट ने फॉरेस्ट विभाग की टीम का आभार माना एवं कहां कि चर्चा उपरांत मात्र 2 घंटे में जल पात्र उपलब्ध करवाएं।

लोगांे को जल-पात्र उपलब्ध करवाएं
क्षेत्र में जिन-जिन लोगों की छतों एवं चबूतरो पर मूक पक्षी तथा जिन स्थानों पर राष्ट्रीय मोर आदि का जमावड़ा होता है उन लोगों एवं स्थानों पर वहां जाकर मनीष कुमट एवं संजय व्यास ने जल पात्र प्रदान किए। उन्हें समझाईष दी गई कि आप इन जल पात्रों को प्रतिदिन धोकर भरे। शुद्ध जल भरकर अपनी-अपनी छतों और आंगनों में रखे। साथ ही हो सके तो पक्षियों के लिए चावल-गेहू दाना भी डाले। जिससे कोई भी मूक पक्षी भूखा-प्यासा ना रहे और उनकी मौत ना हो।

लाक डाउन में नगर का हर वर्ग दिखा रहा है देश सेवा का जज्बा

jhabua news
थांदला । लाक डाउन की घोषणा होने के बाद ही नगर के युवाओं ने समाजसेवियों ने पत्रकारों ने  एवं हर संस्थाओं ने यह ठान लिया था कि नगर में किसी भी प्रकार की तकलीफ को आने नहीं दिया जाएगा चाहे फिर वह दवाई की हो या भोजन की हो राशन की हो साफ सफाई की हो या आने-जाने की हो नगर में साफ सफाई की व्यवस्था नगर अध्यक्ष बंटी डामोर और उपाध्यक्ष मनीष बघेल ने अपने हाथ में लेते हुए वह नगर के हर वार्डों में सैनिटाइजर छिडकवाने का कार्य करवाया जा रहा है,, वहीं ब्लड डोनेशन टीम के अजय सेठिया गोलू उपाध्याय मोंटू उपाध्याय अतुल चैहान ,अर्पित लुणावत अन्य साथी जो कि लाक डाउन की घोषणा होने के बाद से ही लगातार नगर सेवा में लगे हुए हो चाहे फिर वह दवाईया उलब्ध  करवाने की जिम्मेदारी हो या गरीबों को भोजन के पैकेट पहुंचने  की हो या हॉस्पिटल में चाय और बिस्किट की व्यवस्था करवाने की हो यह युवा कहीं भी पीछे नहीं हट रहे हैं इनके साथ ही नगर के पत्रकार सुधीर शर्मा,चंदू प्रेमी , मनोज उपाध्याय समकित तलेरा ,राजेश डामर कादर शेख जितेंद्र घोड़ावत राजू धानक ,वत्सल आचार्य , कमलेश तलेरा ,धर्मेंद पांचाल ,अक्षय भट्ट, , पीटर बवेरिया ,मनीष वाघेला,, मुकेश भट्ट,पवन नहार ,अविनश गिरी निरंजन शर्मा ,कुलदीप वर्मा आदि का सहयोग कर रहे  हे ।  इन्ही  के साथ में श्याम परिवार से विपिन नागर ,,विक्रम सिंगोड़,राकेश सोनी ,भावेश भानपुरिया ,अमृतलाल चैहान हनी पांचाल,मुकेश पांचाल व नगर के अन्य साथी ऋतुराज कॉलोनी के युवा वर्ग भी भोजन पैकेट वितरण में अपनी सेवाएं दे रहा है ज्ञात रहे की उक्त भोजन वितरण नगर की व्यवसाय संस्था नेचुरल गोल्ड के सहयोग से इस संस्था के संचालक गण अलीसेठ उत्तम सेठ ,हुजैफाभाई  लोकेश जी गादीया श्रेणिक गादीया प्रदीप गादीया ,संजय वोहरा ,महेश बोहरा मानक लाल जी लोढा रजनीकांत जी लोढा ,रवि लोढा के सानिध्य से किया जा रहा है  व्यापारी संघ के अध्यक्ष अनिल भंसाली और प्रफुल तलेरा द्वारा प्रतिदिन गायों व कुत्तों के लिए रोटी बनवा कर अपने हाथों से नगर में घूम घूम कर वितरण किया जा रहा है वही नगर के युवा समाजसेवी मयूर तलेरा प्रफुल्ल तलेरा राकेश तलेरा के द्वारा भी भोजन किट वितरण का कार्य लगातार चालू है नगर में मवेशियों को प्रतिदिन हरा चारा व हरी सब्जी खिलाने का कार्य नगर के विकास अरोड़ा एवं प्रियंक मेहता,वर्धमान तलेरा  द्वारा लगातार किया जा रहा है नगर का जैन सोशल ग्रुप भी सेवा के क्षेत्र में लगातार लगा हुआ है वहीं प्रशासनिक सेवाओं में एसडीओपी श्री मनोहर गवली जी डॉ मनीष दुबे लगातार शहर को बीमारी की चपेट में आने से रोकने के लिए हर संभव प्रयास में लगे हुए हैं ऐसा लगता है मानो नगर का हर वर्ग यही चाहता है कि यह भयंकर बीमारी हमारे नगर को कभी ना लगे।

पालघर में माबलिचिंग में मारे गये संतो को झाबुआ वासीयों ने दी भावभीनी श्रद्धांजली 

झाबुआ । विगत दिनों महाराष्ट्र के पालघर में दो संतो की सामूहिक भीड द्वारा हत्या कर दिये जाने को लेकर आज झाबुआ के नागरिकों द्वारा उन्हे भाव भीनी श्रद्धांजली अर्पित की गई । महिला मंडल,पंतजली योग समिति,राजपूत महिला मंडल,सहित रामकृष्ण नगर में मनोहरसिंह वर्मा,श्रीमती शोभा,सुभाष मार्ग झाबुआ में सुश्री रूखमणी वर्मा सहित बडी संख्या में नागरिकों ने लाॅकडाउन के चलते अपने-अपने घरों से बहार निकलकर सोशल डिस्टेंसिंग रखते हुए संतो को दो मिनिट का मौन रखकर भावभीनी श्रद्धासुमन अर्पित किये ।  

सोच बदलेगी देश बदलेगा, रिसर्चर डाॅ.कविता कुंवर राठौर  सब्जियों को सुखाकर उन पर की जा रही है रिसर्च 

झाबुआ । झाबुआ की बहू और इंदौर की बेटी डाॅ.कविता कुंवर इन दिनों साग भाजी को सूखा कर उनके डब्बा बंद कर रखने और उसके मार्केटिंग प्रबंधन पर पी.एच.डी.रिसर्च इंदौर की सेज न्यूनिर्वसिटी से कर रही है । कविता की माने तो देश मेें एक बार फिर से पुरातन सभ्यता को जिवीत करने का समय आ गया है । पुराने समय में भारत देश की महिलाएं सब्जीयों को सुखा कर रख लेती थी और फिर गर्मी और बारिश के मौसम में जब सब्जीयां नहीं मिलती या कम आती थी तो उन सूखी सब्जीयों को घर में पका कर खाया जाता था । कुछ इसी तरह से वर्तमान समय में भी करने की आवश्यकता है, लाॅकडाउन के चलते इन दिनों सब्जी मंडिया बंद है और किसानों को सब्जीयां फेंकना पड रही है उनको उपज का वाजिब दाम भी नहीं मिल रहा है ऐसे में अगर कविता कुंवर की माने तो किसानों को अपने खेतों में पोलिथीन बिछाकर उन पर गीलकी, तरोई, भींडी, करेला, बेंगन, टमाटर, मैथी, पालक जैसी सब्जीयों को काटकर सूर्य की धूप में सूखा लेना चाहिये काटी गई सब्जीयों पर उपर से उन पर धूल मिटी नही लगे तो एक और पन्नी ढंक देना चाहिये पांच से सात दिनों में तेज धूप में सारी सब्जीयां सूख जायेगी तो उन्हे एयर डाइट डिब्बों में बंद कर रख देना चाहिये इस प्रकार से ये सब्जीयां लंबे समय तक सुरक्षीत रहेगी और सब्जीयों की कमी होने पर इन्हे बनाकर खाया जा सकता है सूर्य की रोशनी में सूखाये जाने से इनका स्वाद भी नहीं जाता है कविता कहती है की सब्जीयों को अन्य सोलर उपकरणों की मदद से भी सूखाया जा सकता है लेकिन इलेक्ट्रीक उपकरण से सब्जीयां सूखाने से उनके तत्व खत्म हो जाते है जिससे स्वाद चला जाता है लेकिन सूर्य की रोशनी में सब्जीयां सूखाने से वे स्वादीष्ट बनी रहती है। उन्होने बताया की इस प्रकार सब्जीयों को सूखा कर डब्बों में बंद कर उन्हे बाजार में भी बेचा जा सकता है जिससे किसानों को उनकी फसलों का दाम भी मिलने लगेगा और इस व्यवसाय से महिलाओं का गृह‌ उद्योग भी बढेगा । आपने बताया की प्राचिन समय से लगाकर आज तक देश में मैथी, अदरक, धनिया तो आज भी डब्बों में मसालों के रूप में बेचे जाते है ऐसे में अगर अन्य सब्जीयों को बेचने व उन्हे डब्बा बंद करने के धंधे को केंद्र सरकार व राज्य सरकार बढावा देती है तो इससे भारत में नए धंधों को बढावा मिलेगा । विदेशो में तो इस प्रकार से सब्जीयां बेची भी जाने लगी है, अगर इस प्रकार से देश में सोच बदलेगी तो देश भी बदलेगा और आगे बढ़ेगा । 

सड़के है सुनी, गलिया है बंद .... घर पर रहकर आजाद जीना है हमे ...  नोवेल कोरोना वायरस को लेकर लगे संपूर्ण लाॅकडाउन में शासकीय उत्कृष्ट उमा विद्यालय के व्याख्यात महेन्द्रकुमार खुराना ने प्रस्तुत किया भावुक एवं मार्मिक गीत

jhabua news
झाबुआ। नोवेल कोरोना वायरस (कोविड-19) से रोकथाम हेतु इन दिनांे जिले में संपूर्ण लाॅकडाउन लगा हुआ है। एक ओर इस वैष्विक महामारी से जहां पूरे विष्व जूझ रहा है। भारत देष में भी कोरोना संक्रमित मरीज बढ़ रहे है। देष में यह आॅकड़ा 24 हजार पार हो चुका है तो मरने वालों की संख्या 700 के पार हो गई है। इस बीच बेदह सुखद खबर यह है कि 2500 से अधिक लोग कोरोना से जंग लड़कर ठीक होकर अपने घरों पर भी लौट गए है। झाबुआ जिले के लिए अब तक बेहद सुखद खबर है कि यहां कोराना संक्रमित एक भी मरीज की पुष्टि नहीं हुई है। जिला फिलहाल पूरी तरह से ग्रीन जोन में है। कोरोना जैसी वैष्विक महमारी से बचाव को लेकर ही एवं देष के लोगों, विषेषकर झाबुआ जिले के लोगों में हौंसला अफजाई करते हुए शासकीय उत्कृष्ट उमा विद्यालय झाबुआ के व्याख्याता, श्री संकट मोचन हनुमान मंदिर सेवा समिति और संस्कार भारती आजाद इकाई के सक्रिय सदस्य महेन्द्रकुमार खुराना ने अपने घर पर ही रहकर एक सुंदर गीत तैयार किया है, जोे मन-मस्तिष्क को काफी सुकुन पहुंचाता है और आपातकाल तथा संकट की इस घड़ी के बीच भी देष के लोगों का उत्साहवर्धनन और हौंसला अफजाई करता है। इस गीत को जो भी लोग सोष्यल मीडिया के माध्यम से सुन रहे है, सर्वत्र प्रषंसा की जा रहीं है। महेन्द्रकुमार खुराना के गीत के बोल है ‘‘सड़के है सुनी, गलिया है बंद, घर पर रहकर आजाद जीना है हमे’’। श्री खुराना का 3 मिनिट 15 सेंकेड का यह गीत काफी प्रेरणा देने वाला है।

1 हजार 113 व्यक्तियों को भोजन प्रदाय

झाबुआ,। कोविड -19 (कोरोना वायरस) संक्रमण की रोकथाम एवं बचाव के लिए जिला स्तर से अब तक सर्दी, खांसी के मरीजों के साथ आईसोलेषन वार्ड क्वारेंटाइन केन्द्र एवं बाॅर्डर पर तैनात स्वास्थ्य कर्मी, पुलिस के लोग, आंगनवाड़ी एवं आषा कार्यकर्ता के कुल 320 सेम्पल जांच के लिए भेजे गये है। जिनमें से 251 सेम्पलों की जांच रिपोर्ट प्राप्त हो गई है। जिनमें से एक भी सेम्पल कि जांच रिपोर्ट में कोरोना पाॅजिटिव नहीं पाया गया है। जिले में कुल 349 लोगों को कोरेण्टाइन सेन्टर में रखा गया है। कलेक्टर श्री प्रबल सिपाहा ने अवगत कराया कि षनिवार को 1 हजार 113 जरूरतमंद व्यक्तियों को भोजन प्रदाय किया गया है। पुलिस विभाग द्वारा जिले में अब तक कुल 17 व्यक्तियों के खिलाफ एफ आई आर, धारा 151 के तहत 4 प्रकरण तथा 17 व्यक्तियों को अस्थाई जेल में निरूद्ध किया गया।

38602.58 क्विन्टल गेंहू का उपार्जन

झाबुआ। जिले में समर्थन मुल्य पर गेंहू के 20 खरीदी केन्द्र स्थापित है।इसके अलावा चनें के लिए 3 खरीदी केन्द्र स्थापित है।जिले में इन खरीदी केन्द्रों पर 24 अप्रैल तक कुल 1 हजार 77 किसानों से 38602.58 क्विन्टल गेंहू का उपार्जन किया गया।

कोई टिप्पणी नहीं:

Loading...